बुधवार, 23 जून 2021 | 10:14 IST
समर्थन और विरोध केवल विचारों का होना चाहिये किसी व्यक्ति का नहीं!!
पंजाब चुनावों से पहले कांग्रेस में छिड़ी जंग          संवैधानिक संकट का राग अलाप रही कांग्रेस डरी हुई है-मदन कौशिक          उत्तराखंड में कोरोना कर्फ्यू के लिए दिशा-निर्देश जारी          उत्तराखंड में जल्द दूर होंगी सेवानिवृत्त राजकीय पेंशन संबंधी विसंगतियां          उत्तराखंड के पवन दीप राजन बाहर होने से बचे, इंडियन आइडल शो पर फूटा लोगों का गुस्सा          सचिन तेंदुलकर बने सदी के सबसे तेज बल्लेबाज          अमेरिका के राष्ट्रपति को पीछे छोड़ नंबर वन बने पीएम मोदी          तीरथ सरकार के 100 दिन,सीएम ने कहा हम केाविड की तीसरी लहर के लिए पूरी तरह से तैयार          उत्तराखंड में शुरू नहीं हो सकेगी चार धाम यात्रा          12वीं के छात्रों की मार्गिंक को लेकर आज सुप्रीम कोर्ट में सरकार की ओर से फॉर्मूला रख दिया है          मुख्यमंत्री तीरथ रावत ने दिल्ली में कई केंद्रीय मंत्रियों से की भेंट          राम जन्मभूमि खरीद में नहीं हुआ कोई घोटाला          न्यूजीलैंड का मैच विराट के लिए बनेगा सबसे बड़ी चुनौती         
होम | विचार | पर्यावरण बचेगा तभी तो जीवन बचेगा

पर्यावरण बचेगा तभी तो जीवन बचेगा


आज दुनियाभर में विश्व पर्यावरण दिवस मनाया जा रहा है। इस दिन को मनाने का प्रमुख उद्देश्य लोगों को जागरूक करना है। इसके साथ ही शुद्ध वातावरण के प्रति लोगों को जागरूक करना है। पर्यावरण में अचानक प्रदूषण का स्तर बढ़ने से तापमान में भी तेजी देखी जा रही है तो कहीं कहीं पर प्रदूषण के बढ़े हुए स्तर के कारण लंबे समय से बारिश भी नहीं हो पाती। ऐसे में लोगों को पर्यावरण के प्रति जागरुक करने के लिए हर साल विश्व पर्यावरण दिवस मनाया जाता है। दुनियाभर में 5 जून के दिन हर साल विश्व पर्यावरण दिवस मनाया जाता है। पर्यावरण बिगड़ने से कई जीव-जन्तू विलुप्त हो रहे हैं. वहीं इंसान कई प्रकार की गंभीर बिमारियों का शिकार भी हो रहे हैं। विश्व पर्यावरण दिवस की शुरुआत साल 1972 में संयुक्त राष्ट्र संघ की और से की गई थी। पर्यावरण दिवस की शुरुआत स्वीडन की राजधानी स्टॉकहोम से हुई थी। इसी दिन यहां पर दुनिया का पहला पर्यावरण सम्मेलन का आयोजन किया गया था। जिसमें भारत की ओर से तात्कालिन प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी ने भाग लिया था। विश्व पर्यावरण दिवस मनाए जाने से पहले हर साल के लिए एक थीम रखी जाती है। इस साल विश्व पर्यावरण दिवस 2021 की थीम 'पारिस्थितिकी तंत्र की बहाली ' है। आज पर्यावरण अंसुतलन बढ़ता ही जा रहा है। लगातार बढ़ती आबादी और अद्यौगिकीकरण, प्राकृति संसाधनों का अंधाधुंध दोहन की वजह से आज वैश्विक तापमान लगातार बढ़ रहा है। पृथ्वी के तापमान में बढोतरी हो रही है पिछले कुछ दशकों में तापमान में 3-4 डिग्री सेंटीग्रेड तक बढ़ चुका है। ग्लेशियर लगातार पिघल रहे हैं जिससे समुद्र का तटीय इलाके के डूबने का खतरा पैदा हो गया है। इन तमाम समस्याओं को देखते हुए हम सभी को पर्यावरण को बचाना है तभी हम अपने आप को बचा सकेंगे।

 



© 2016 All Rights Reserved.
Follow US On: