रविवार, 27 सितंबर 2020 | 10:10 IST
समर्थन और विरोध केवल विचारों का होना चाहिये किसी व्यक्ति का नहीं!!
टाइम मैग्जीन ने जारी की दुनिया के 100 प्रभावशाली लोगों की लिस्ट,पीएम मोदी लिस्ट में इकलौते भारतीय ने          पीएम मोदी ने फिट इंडिया मूवमेंट के एक साल पूरा होने पर,बताए अपनी फिटनेस के सीक्रेट          डीआरडीओ को मिली बड़ी कामयाबी,अर्जुन टैंक से लेजर गाइडेड एंटी टैंक मिसाइल का सफल परीक्षण          ऑस्ट्रेलिया के पूर्व दिग्गज क्रिकेटर डीन जोन्स का मुंबई में दिल का दौरा पड़ने से निधन          पॉलिसी उल्लंघन के कारण गूगल ने पेटीएम को हटाया,पेटीएम ने कहा,पैसे हैं सुरक्षित          प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश के किसानों को आश्वस्त किया कि लोकसभा से पारित कृषि सुधार संबंधी विधेयक उनके लिए रक्षा कवच का काम करेंगे           उत्तराखंड में भूमि पर महिलाओं को भी मिलेगा मालिकाना हक          सीएम रावत ने गूगल के सीईओ सुंदर पिचाई को लिखा पत्र,उत्तराखंड में आइटी सेक्टर में निवेश करने का किया अनुरोध           कोरोना के चलते रद्द हुई अमरनाथ यात्रा,अमरनाथ श्राइन बोर्ड ने रद्द करने का किया एलान           बैंकों और बीमा कंपनियों में लावारिस पड़े हैं 32,000 करोड़ से भी ज्यादा पैसे, नहीं है कोई दावेदार         
होम | उत्तराखंड | उत्तराखंड में रोजगार के लिए महिलां तैयार करेंगी मडुए के आटे का केक तैयार..

उत्तराखंड में रोजगार के लिए महिलां तैयार करेंगी मडुए के आटे का केक तैयार..


आत्म निर्भर भारत बनाने के लिए उत्तराखंड में एक अनोखी पहली शुरू की गई है। जिसमें महिलाओं को मंडुए के आटे का केक तैयार करने के प्रशिक्षण दिया जाएगा। कृषि विज्ञान केंद्र ग्रामीण महिलाओं को मडुवे का केक तैयार करने का प्रशिक्षण देगा। इससे मडुवे की खपत होने के साथ केंद्र सरकार के पोषण अभियान को भी बल मिलेगा।

केंद्र के प्रभारी वैज्ञानिक डॉ. एमपी सिंह ने बताया कि चम्पावत जिले में 250 हेक्टेयर क्षेत्र में परंपरागत रूप से मडुवे की खेती की जा रही है। धीरे-धीरे इसका क्षेत्रफल बढ़ रहा है लेकिन मडुवे का बाजार कम होने से काश्तकारों को उसका लाभ नहीं मिल पा रहा है। बताया कि कृषि विज्ञान केंद्र ग्रामीण इलाकों में मडुवे की पौष्टिकता एवं उसके आटे से बनने वाले भोज्य पदार्थों की जानकारी देने के साथ मडुवे का केक बनाने का प्रशिक्षण देगा। बताया कि मडुवा काफी पौष्टिक है लिहाजा भोजन में जितना अधिक इसका प्रयोग होगा लोगों को उतना ही अधिक पोषण मिलेगा। उन्होंने बताया कि कृषि विज्ञान केंद्र का गृह विज्ञान की ओर से विभाग नवंबर माह से ग्रामीण इलाकों में बने स्वयं सहायता समूह की महिलाओं को केक बनाने का प्रशिक्षण दिया जाएगा।

जिससे महिलाओं को रोजगार भी मिलेगी और मंडुए के आटे की सही खपत भी हो सकेंगी।

 

 



© 2016 All Rights Reserved.
Follow US On: