शनिवार, 29 जनवरी 2022 | 06:26 IST
समर्थन और विरोध केवल विचारों का होना चाहिये किसी व्यक्ति का नहीं!!
सीएम योगी ने प्रयागराज में अतीक से मुक्त भूमि पर किया शिलान्यास, बोले- दीवारों से निकल रहा गरीबों का पैसा          राष्ट्रपति राम नाथ कोविन्द ने पतंजलि विश्वविद्यालय,हरिद्वार के प्रथम दीक्षांत समारोह में गोल्ड मेडलिस्ट विद्यार्थियों को प्रदान की उपाधि          ओमीक्रॉन कोरोना वेरिएंट की भारत में हुई एंट्री          वर्ष 2025 तक उत्तराखण्ड बनेगा हर क्षेत्र में अग्रणी राज्यःसीएम पुष्कर सिंह धामी          सीएम पुष्कर धामी ने राइजिंग उत्तराखण्ड कार्यक्रम में किया प्रतिभाग,गायक जुबिन नौटियाल को किया सम्मान          1 दिसंबर से सउदी अरब जा सकेंगे भारतीय          उत्तराखंड में कोरोना काल में सराहनीय कार्य करने वाले ग्राम प्रधानों को मिलेगी 10 हजार रूपये की प्रोत्साहन राशि          T20 रैंकिंग में रोहित शर्मा को हुआ फायदा          15 दिसम्बर तक स्वरोजगार योजनाओं के तहत लोन के निर्धारित लक्ष्य को किए जाने के सीएम धामी ने दिए निर्देश          सीएम योगी आदित्यनाथ एवं सीएम पुष्कर धामी की लखनऊ में हुई बैठक में निपटा उत्तर प्रदेश व उत्तराखंड का 21 वर्ष पुराना विवाद         
होम | सेहत | बूस्टर डोज नही बल्कि कोरोना की नई वैक्सीन से खत्म होगा कोरोना

बूस्टर डोज नही बल्कि कोरोना की नई वैक्सीन से खत्म होगा कोरोना


कोरोना के बढ़ते मामले एक बार फिर से देश और दुनिया के लिए बड़ी चुनौती बन चुके हैं। इस बीच स्वास्थ्य संगठन की तरफ से एक बड़ा बयान आया है। जिसने सभी को परेशान कर दिया है।डब्ल्यूएचओ के तकनीकी सलाहकार समूह और 18 विशेषज्ञों के एक समूह ने कोरोना वैक्सीन के कंपोजिशन पर मंगलवार को कहा कि हालांकि वर्तमान टीके गंभीर बीमारी और वेरिएंट ऑफ कंसर्न के कारण होने वाली मौतों के खिलाफ उच्च स्तर की सुरक्षा प्रदान कर रहे हैं। हमें भविष्य में लेकिन ऐसे टीके विकसित करने की जरूरत है, जो संक्रमण को रोक सकें। वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गेनाइजेशन की टेक्निकल एडवाइजरी ग्रुप ने कहा कि मौजूदा कोरोना वैक्सीन के कंपोजिशन में बदलाव की जरुरत हो सकती है ताकि यह सुनिश्चित किया जा सके कि यह वैक्सीन कोरोना वायरस के ओमिक्रॉन और भविष्य के अन्य सभी वेरिएंट्स के खिलाफ प्रभावी हो। इस ग्रुप में शामिल इंडिपेंडेंट एक्सपर्ट्स ने यह बयान जारी किया है और इसे सभी मीडिया व पत्रकारों को भेजा गया है। ब्रिटेन और अमेरिका समेत कई पश्चिमी देशों में ओमिक्रॉन वेरिएंट के कारण कोरोना संक्रमण के मामलों में तेजी आई है। इनमें यूरोपिय देशों और अमेरिका में कोविड-19 के केस में जबरदस्त उछाल आया है। वहीं भारत में भी दिल्ली और मुंबई में ओमिक्रॉन वेरिएंट के सबसे ज्यादा मामले देखने को मिले हैं। जिसकी वजह से देश के अलग-अलग राज्यों में कोरोना वायरस के मामले तेजी से बढ़े हैं। जिसको देखते हुए विश्व स्वास्थय संगठन की तरफ से ये बड़ा बयान आया है।

 

 



© 2016 All Rights Reserved.
Follow US On: