बुधवार, 28 अक्टूबर 2020 | 11:01 IST
समर्थन और विरोध केवल विचारों का होना चाहिये किसी व्यक्ति का नहीं!!
मन की बात में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की देशवासियों से अपील,सैनिक के नाम जलाएं एक दीया          विजयदशमी के पावन पर्व पर बद्री-केदार,गंगोत्री और यमुनोत्री धाम के कपाट बंद होने की तिथि का ऐलान          स्वास्थ्य मंत्रालय की देश वासियों से अपील,त्योहारों के मौसम में कोरोना को लेकर बरतें सावधानी          दिवाली से पहले केंद्रीय कर्मचारियों को मोदी सरकार का तोहफा,3737 करोड़ रुपये के बोनस का भुगतान तुरंत           भारत दौरे से पहले अमेरिकी रक्षा मंत्री का बड़ा बयान लद्दाख में चीन भारत पर डाल रहा है सैन्‍य दबाव          उत्तराखंड में चिन्हित रेलवे क्रॉसिंगों पर 50 प्रतिशत धनराशि केन्द्रीय सड़क अवस्थापना निधि से की जाएगी          उत्तराखंड में भूमि पर महिलाओं को भी मिलेगा मालिकाना हक          सीएम रावत ने गूगल के सीईओ सुंदर पिचाई को लिखा पत्र,उत्तराखंड में आइटी सेक्टर में निवेश करने का किया अनुरोध           कोरोना के चलते रद्द हुई अमरनाथ यात्रा,अमरनाथ श्राइन बोर्ड ने रद्द करने का किया एलान           बैंकों और बीमा कंपनियों में लावारिस पड़े हैं 32,000 करोड़ से भी ज्यादा पैसे, नहीं है कोई दावेदार         
होम | लाइफस्टाइल | विटामिन डी से दूर होगी दिल की बीमार

विटामिन डी से दूर होगी दिल की बीमार


भारत में 50 प्रतिशत लोग दिल की बीमारी के शिकार होते है लेकिन अगर सही टाइम पर विटामिन डी का प्रयोग किया जाए तो आपके लिए इससे अच्छा रामबाण इलाज हो ही नही सकता। नए शोध के अनुसार विटामिन डी की कमी से जूझ रहे मोटापे से पीडि़त वयस्कों को इसकी उच्च खुराक देने से धमनी की कठोरता में कमी लाई जा सकती है। यह हृदय रोग की बड़ी वजह मानी जाती है जिस रोग में मौत निशिचत होती है। आपको बता दें कि इससे 2015 में दुनियाभर में 1.77 करोड़ लोगों की मौत हो गई थी।

विटामिन डी की कमी से हमारे शरीर में कई चीजों की पूर्ती होती है ।जिनमें विटामिन डी अंडे के पीले भाग, मछली के तेल, मक्खन, दूध और धूप सेंकने से प्राप्त किया जा सकता है। विटामिन डी की कमी को पूरा करने के लिए जरूरी है कि प्रतिदिन सुबह-सुबह धूप सेंकी जाए। इतना ही नहीं विटामिन डी से युक्त खाद्य पदार्थों का सेवन करने से भी शरीर की भीतरी कमजोरी को दूर किया जा सकता है।

इसके अलावा अमेरिका की अगस्ता यूनिवर्सिटी के हृदय रोग विशेषज्ञ यानबिन डोंग ने कहा कि धमनी की दीवारों का कड़ा होना और विटामिन डी की कमी का हृदय रोग में योगदान हो सकता है। नतीजों से जाहिर हुआ है कि चार माह तक विटामिन डी की 4,000 इंटरनेशनल यूनिट आइयू की उच्च खुराक देने से धमनी के कड़ेपन में 10.4 फीसद तक की कमी लाई जा सकती है। फिलहाल वयस्कों और बच्चों को रोजाना 600 आइयू की खुराक देने की सलाह दी जाती है।



© 2016 All Rights Reserved.
Follow US On: