रविवार, 7 जून 2020 | 12:24 IST
समर्थन और विरोध केवल विचारों का होना चाहिये किसी व्यक्ति का नहीं!!
होम | उत्तराखंड | पौड़ी के बुजुर्ग किसान विद्यादत्त शर्मा को मिली मानद उपाधि

पौड़ी के बुजुर्ग किसान विद्यादत्त शर्मा को मिली मानद उपाधि


उत्तराखंड मुक्त विवि द्वारा पौड़ी के बुजुर्ग किसान को मानद उपाधि से सम्मानित किया गया। इस मौके पर उत्तराखण्ड मुक्त विश्वविद्यालय के पांचवें दीक्षान्त समारोह में लवराज धर्मसत्तू को भी डी.लिट् की उपाधि प्रदान की गई।

आपको बता दें विद्यादत्त शर्मा पौड़ी जिले के कल्जीखाल ब्लाक स्थित सांगुड़ा गांव निवासी हैं। उन्होंने वर्ष 1965 को भूमापविशेषज्ञ के पद से त्यागपत्र देकर खेती-किसानी की राह चुनी। उन्होंने खेतीबाड़ी के साथ ही जल संरक्षण व मधुमक्खीपालन भी कार्य भी शुरु किया। राष्ट्रीय पुरस्कार प्राप्त निर्देशक निर्मल चंद्र डंडरियाल ने बुजुर्ग किसान के 52 सालों की साधना को डॉक्यूमेंटी फिल्म मोतीबाग में पिरोया है। मोतीबाग को ऑस्कर फिल्म फेस्टिवल में एंट्री भी मिल गई है। पौड़ी में फिल्म का प्रदर्शन भी हो चुका है। जबकि मोतीबाग फिल्म को अंतर्राष्ट्रीय डॉक्यूमेंट्री फिल्म फेस्टिवल में प्रथम पुरस्कार भी मिल चुका है।

डी.लिट् की उपाधि पाने वाले लवराज धर्मसत्तू ने सात बार दुनिया की सबसे ऊंची चोटी माउंट एवरेस्ट को फतह कर इतिहास रचा है। इसके लिए सरकार द्वारा लवराज को पद्मश्री और नेशनल एडवेंचर अवार्ड से सम्मानित भी किया गया है।

इस मौके पर महामहीम राज्यपाल व कुलाधिपति श्रीमती बेबी रानी मौर्य ने दो डी.लिट् मानद उपाधियों के साथ ही 39 छात्रों को विश्वविद्यालय स्वर्ण पदक, तीन छात्रों को कुलाधिपति स्वर्ण पदक व छह छात्र-छात्राओं को स्मृति स्वर्ण पदक सहित 22659 उत्तीर्ण छात्र छात्राओं को श्री राज्यपाल व कुलाधिपति श्रीमती बेबी रानी मौर्य द्वारा उपाधियां प्रदान की गई।

महामहीम राज्यपाल व कुलाधिपति श्रीमती बेबी रानी मौर्य ने दीक्षान्त समारोह को सबोधित करते हुए कहा कि यह बडे़ हर्ष का विषय है कि यह विश्वविद्यालय तीन वर्ष की अवधि के भीतर ही पांचवें दीक्षान्त समारोह का आयोजन कर रहा हैं। इसके लिए विश्वविद्यालय के कुलपति,विद्या परिषद तथा कार्य परिषद के सभी सदस्यों एवं शिक्षक को बहुत-बहुत बधाई।

दीक्षान्त समारोह में उच्च शिक्षा मंत्री डा. धन सिंह रावत ने सभी को बधाई देते हुये कहा कि दीक्षान्त समारोह में प्रदेश सरकार के प्रतिनिधि के रूप में उपस्थित हो कर गौरव का अनुभव कर हूँ। उन्होने कहा कि सभी विश्वविद्यालय में प्रति वर्ष दीक्षान्त समारोह का आयोजित किया जायेगे। उन्होने कहा मुक्त विश्वविद्यालय को प्रदेश सरकार द्वारा पूर्ण सहयोग दिया जायेगा। मुक्त विश्वविद्यालय 13 विद्या शाखाओं के भीतर 70 पाठ्क्रमों का संचालन कर रहा है यह गौरव की बात है।

इस मौके पर दीक्षान्त समारोह में आयुक्त व सचिव मुख्यमंत्री राजीव रौतेला, कुलपति उत्तराखण्ड संस्कृत विश्वविद्यालय प्रो. देवी प्रसाद, कुलपति वानिकी विश्वविद्यालय भरसार प्रो. कर्नाटक, कुलपति कुमाऊ विश्वविद्यालय प्रो. के.एस.राणा, जिलाधिकारी सविन बंसल, एसएसपी सुनील कुमार मीणा, कुलसचिव भरत सिंह, वित्त नियंत्रक आभा गर्ब्याल, उप कुलसचिव विमल मिश्रा, प्रो. योगेश पंत, प्रो. गिरिजा पाण्डे,प्रो. पीडी पंत, जनसम्पर्क अधिकारी डा. राकेश रयाल,राजेन्द्र क्वीरा सहित अनेक गणमान्य मौजूद थे।

 



© 2016 All Rights Reserved.
Follow US On: