रविवार, 17 नवंबर 2019 | 07:12 IST
समर्थन और विरोध केवल विचारों का होना चाहिये किसी व्यक्ति का नहीं!!
स्वर कोकिला लता मंगेशकर की हालत नाजुक, देश भर दुआओं का दौर जारी           महाराष्ट्र में राष्ट्रपति शासन लगाने की सिफारिश, मोदी कैबिनेट ने दी मंजूरी          अयोध्या में ही मस्जिद निर्माण के लिए दी जाएगी जमीन          सुप्रीम कोर्ट ने विवादित जमीन पर रामलला का हक माना          कोर्ट ने कहा कि पुरातत्व विभाग की खोज को नजरअंदाज नहीं किया जा सकता          कोर्ट ने कहा,विवादित जमीन के नीचे एक ढांचा था और यह इस्लामिक ढांचा नहीं था          कोर्ट के फैसले में ASI का हवाला देते हुए कहा गया कि बाबरी मस्जिद का निर्माण किसी खाली जगह पर नहीं किया गया था          अयोध्या पर आया सुप्रीम कोर्ट का फैसला, बनेगा राम मंदिर, मस्जिद के लिए अलग जगह          मोदी सरकार का बड़ा फैसला, दिल्ली की अवैध कॉलोनियां होगी नियमित          पीओके से आए 5300 कश्मीरियों के लिए मोदी सरकार का बड़ा ऐलान, मिलेंगे साढ़े पांच लाख रुपये          केंद्र सरकार ने 48 लाख कर्मचारियों को दिवाली से पहले दिया बड़ा तोहफा, 5 फीसदी बढ़ाया महंगाई भत्ता           देश के सबसे बड़ा सरकारी बैंक भारतीय स्टेट बैंक पब्लिक प्रॉविडेंट फंड पर सेविंग अकाउंट की तुलना में दे रहा है डबल ब्याज           पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने कबूल किया कि उनका देश कश्मीर मुद्दे का अंतरराष्ट्रीयकरण करने की कोशिशों में नाकाम रहा          संयुक्‍त राष्‍ट्र ने भी माना,जलवायु परिवर्तन से निपटने में अहम है भारत की भूमिका          महाराष्ट्र, हरियाणा में 21 अक्टूबर को होगा विधानसभा चुनाव, 24 को आएंगे नतीजे          बैंकों और बीमा कंपनियों में लावारिस पड़े हैं 32,000 करोड़ से भी ज्यादा पैसे, नहीं है कोई दावेदार         
होम | पर्यटन | विश्व धरोहर फूलों की घाटी शीत काल में पर्यटकों के लिए बंद

विश्व धरोहर फूलों की घाटी शीत काल में पर्यटकों के लिए बंद


विश्व प्रसिद्ध फूलों की घाटी गुरुवार को शीतकाल में पर्यटकों के लिए बंद कर दी गई है। एक जून को इसे पर्यटकों के लिए खोला गया था। इस साल यहां पर्यटकों की आमद और राजस्व का नया रिकॉर्ड बना। 17 हजार से ज्यादा पर्यटकों ने फूलों की घाटी के दीदार किए, इनसे 27 लाख से अधिक का राजस्व अर्जित हुआ। 

फूलों की घाटी वन प्रभाग के वन क्षेत्राधिकारी बृजमोहन भारती ने बताया कि इस साल फूलों की घाटी में रिकॉर्ड 17,424 पर्यटक पहुंचे। इनमें 16,904 भारतीय और 520 विदेशी शामिल हैं। यह संख्या अब तक की सर्वाधिक है। पिछला रिकार्ड वर्ष 2018 में 14742 पर्यटकों की आमद का था। इसी तरह आय के मामले में भी नया रिकॉर्ड बना है। इस साल अब तक 27,825  रूपए  की आय हो चुकी है। 

घाटी में पर्यटकों की खासी आमद से स्थानीय पर्यटन और होटल व्यवसाइयों के भी चेहरों पर रौनक है, इस दरिम्यान उन्होंने उम्मीदों से बढ़कर कारोबार किया। बताते चलें कि वर्ष 2013 में आई आपदा के बाद कुछ सालों तक यहां पर्यटकों का रुख बहुत कम रहा। आपदा के अगले साल यानि वर्ष 2014 में 484 पर्यटक और 2015 में 181 पर्यटक ही फूलों की घाटी पहुंचे थे। लेकिन, इसके बाद साल-दर-साल यह संख्या बढ़ती गई। 

समुद्र तल से 13 हजार फीट की ऊंचाई पर 2-4  कि.मी.के दायरे मे फूलों की घाटी फैली हुई है। 06 नवंबर 1982  को  इसे  राष्ट्रीय पार्क घोषित  किया गया था l जब कि 2004  मे यूनेस्को ने फूलों की घाटी को विश्व धरोहर घोषित किया l सीजन  मे  400 से आधिक प्रजाति  के फूल यहां खिलते है l पार्क प्रशासन द्वारा इस वर्ष पूरी घाटी से पोलीगेमन घास  को हटाया गया l



© 2016 All Rights Reserved.
Follow US On: