रविवार, 17 नवंबर 2019 | 07:14 IST
समर्थन और विरोध केवल विचारों का होना चाहिये किसी व्यक्ति का नहीं!!
स्वर कोकिला लता मंगेशकर की हालत नाजुक, देश भर दुआओं का दौर जारी           महाराष्ट्र में राष्ट्रपति शासन लगाने की सिफारिश, मोदी कैबिनेट ने दी मंजूरी          अयोध्या में ही मस्जिद निर्माण के लिए दी जाएगी जमीन          सुप्रीम कोर्ट ने विवादित जमीन पर रामलला का हक माना          कोर्ट ने कहा कि पुरातत्व विभाग की खोज को नजरअंदाज नहीं किया जा सकता          कोर्ट ने कहा,विवादित जमीन के नीचे एक ढांचा था और यह इस्लामिक ढांचा नहीं था          कोर्ट के फैसले में ASI का हवाला देते हुए कहा गया कि बाबरी मस्जिद का निर्माण किसी खाली जगह पर नहीं किया गया था          अयोध्या पर आया सुप्रीम कोर्ट का फैसला, बनेगा राम मंदिर, मस्जिद के लिए अलग जगह          मोदी सरकार का बड़ा फैसला, दिल्ली की अवैध कॉलोनियां होगी नियमित          पीओके से आए 5300 कश्मीरियों के लिए मोदी सरकार का बड़ा ऐलान, मिलेंगे साढ़े पांच लाख रुपये          केंद्र सरकार ने 48 लाख कर्मचारियों को दिवाली से पहले दिया बड़ा तोहफा, 5 फीसदी बढ़ाया महंगाई भत्ता           देश के सबसे बड़ा सरकारी बैंक भारतीय स्टेट बैंक पब्लिक प्रॉविडेंट फंड पर सेविंग अकाउंट की तुलना में दे रहा है डबल ब्याज           पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने कबूल किया कि उनका देश कश्मीर मुद्दे का अंतरराष्ट्रीयकरण करने की कोशिशों में नाकाम रहा          संयुक्‍त राष्‍ट्र ने भी माना,जलवायु परिवर्तन से निपटने में अहम है भारत की भूमिका          महाराष्ट्र, हरियाणा में 21 अक्टूबर को होगा विधानसभा चुनाव, 24 को आएंगे नतीजे          बैंकों और बीमा कंपनियों में लावारिस पड़े हैं 32,000 करोड़ से भी ज्यादा पैसे, नहीं है कोई दावेदार         
होम | दुनिया | दुनिया भर में उत्तराखंड के नौकरशाहों का कमाल,दुनिया के टॉप 12 नौकरशाहों में शामिल

दुनिया भर में उत्तराखंड के नौकरशाहों का कमाल,दुनिया के टॉप 12 नौकरशाहों में शामिल


उत्तराखंड कैडर के 1992 बैच के आइएएस अधिकारी डॉ. राकेश कुमार को London School of Hygiene and Tropical Medicine ने “ग्लोबल हेल्थ लीडरशिप प्रोग्राम” के लिए चुना गया है। खास बात ये है कि इस प्रोग्राम के लिए दुनिया के केवल 11 लोगों को चुना गया है और उनमें से एक नाम राकेश कुमार हैं। इसके लिए चयनित होना इतना आसान नहीं है। चयन के लिए बाकायदा आवेदन करना पड़ता है और खुद को साबित भी करना पड़ता है, लेकिन डॉ कुमार को वहां के वरिष्ठ वैज्ञानिक ने नॉमिनेट किया और फिर उनका आवेदन लेने London School of Hygiene and Tropical Medicine ने समयावधि ख़त्म होने के बाद उनके लिए दो दिन पोर्टल खोलकर उनसे आवेदन कराया। सस्थान के निदेशक Prof. Peter Piot हैं, जिन्होंने 1976 में इबोला की ख़ोज की थी, जो इस समय UNAIDS के कार्यकारी निदेशक भी है। Prof Piot ने दुनिया में सर्वाधिक कार्य। यहां इंटरेक्शन करने वाली अन्य हस्तियों में भी Dr David Heymann-Executive Director, Communicable Diseases WHO जैसे नाम शामिल है।

आपको बता दें कि ग्लोबल हेल्थ डिप्लोमेसी जैसे विषय पर रणनीति बनती है, यहाँ पर विश्व स्तरीय खोज होती है, इसलिए यहाँ विरले लोग ही जाते हैं। मौजूदा समय में संयुक्त राष्ट्र के यूएनडीपी में एडिशनल कंट्री डायरेक्टर काम कर रहे डॉ कुमार “ग्लोबल हेल्थ लीडरशिप प्रोग्राम” की लन्दन में एक सप्ताह की ट्रेनिंग लेकर लौटे है और आगे की ट्रेनिंग जिनेवा और कैप-टाउन में होगी। विशेष बात यह है कि डॉ कुमार वैसे भी चिकित्सा शिक्षा की पढाई करके सिविल सर्विस में आये और यहाँ उन्होंने नेशनल इंटरनेशनल  स्तर के कई बड़े अवार्ड भी जीते हैं।

राकेश कुमार के चयन पर सीनियर पत्रकार अजित राठी ने लिखा है कि यह वही राकेश कुमार हैं, जिन्होंने 2015 में केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय में संयुक्त सचिव रहते हुए देश भर में टीकाकरण से छूटे बच्चों के लिए मिशन इंद्रधनुष जैसी महत्वाकांक्षी योजना लांच की, जिसका जिक्र प्रधानमंत्री अक्सर अपने सम्बोधन में किया करते है। यह विश्व में पब्लिक हेल्थ की 12 सर्वाधिक सफल और बड़ी योजनाओं में से एक है।  2009 में एक सर्वे हुआ, जिसमे देश के 61 प्रतिशत बच्चों का सम्पूर्ण टीकाकरण होना पाया गया था। 2013  में फिर सर्वे हुआ और पाया कि देश में 65 प्रतिशत बच्चों का ही टीकाकरण हुआ था।

यानि एक साल में वृद्धि की दर एक प्रतिशत थी। 2015 में जब बतौर संयुक्त सचिव डॉ राकेश कुमार ने मिशन इंद्रधनुष योजना लांच की तो इसका इम्पैक्ट आया और शोधकर्ता मान रहे हगाई कि 2020 तक इस योजना से पूरे देश में 90 प्रतिशत बच्चे ऐसे होंगे जिनका सम्पूर्ण टीकाकरण हो चुका होगा। मसलन, 2009 से 2013 तक चार प्रतिशत बढ़ोत्तरी हुई लेकिन जब मिशन इंद्रधनुष योजना लागू हुई तो 2020 तक पंद्रह प्रतिशत की बढ़ोतरी होने की पूरी सम्भावना है। इससे भी खास बात यह थी कि ये छूटे हुए बच्चे वो थे जो अर्बन स्लम, ईंट भट्टे और नदियों के किनारे खनन करने वाले और रियल एस्टेट में भवन निर्माण के प्रोजेक्ट्स में मजदूरी करने वाले मजदूरों के हैं जिन पर किसी का ध्यान नहीं जाता है।

 

 

 

 

 



© 2016 All Rights Reserved.
Follow US On: