सोमवार, 8 अगस्त 2022 | 06:10 IST
समर्थन और विरोध केवल विचारों का होना चाहिये किसी व्यक्ति का नहीं!!
प. बंगाल: अर्पिता मुखर्जी के फ्लैट से 28.90 करोड़ रुपये और 5 किलो से ज्यादा सोना बरामद          उत्तराखंड में कोरोना के 334 नए मामले, 2 लोगों की मौत          1 से 4 अगस्त तक भारत दौरे पर रहेंगे मालदीव के राष्ट्रपति इब्राहिम सोलिह          बंगाल शिक्षा घोटाला: पार्थ चटर्जी को मंत्री पद से हटाया गया           संसद में स्मृति ईरानी और सोनिया गांधी के बीच नोकझोंक           गुजरात: जहरीली शराब कांड में एक्शन, SP का तबादला, 2 डिप्टी SP सस्पेंड           दिल्ली में फर्जी कॉल सेंटर का भंडाफोड़, 3 गिरफ्तार          पार्थ चटर्जी के घर में चोरी, लोग समझे ED का छापा पड़ा है          कर्नाटक में प्रवीण हत्याकांड में पुलिस ने अब तक 21 लोगों की हिरासत में लिया         
होम | उत्तराखंड | 36 साल से लापता नॉनवेज खाने वाला पौधा यहां मिला

36 साल से लापता नॉनवेज खाने वाला पौधा यहां मिला


आपने कीड़े खाने वाले मांसाहारी पौधे के बारे मे सुना होगा। देश में 36 साल बाद एक कीटभक्षी पौधा उत्तराखण्ड के हिमालयी क्षेत्र में मिला है। 1986 के बाद ये पौधा कहीं नहीं देखा गया था,  लेकिन पहली बार उत्तराखण्ड के चमोली जिले की मंडल घाटी में दो फीट की ऊंचाई पर ये पौधा मिला है। ये खोज इतनी बड़ी है कि प्लांट टैक्सोनॉमी और वनस्पति विज्ञान की 106 साल पुरानी प्रतिष्ठित रिसर्च जर्नल ऑफ जैपनीज बॉटनी में इस खोज को जगह मिली है। इस अति दुर्लभ कीटभक्षी पौधे का वैज्ञानिक नाम यूट्रीकुलेरिया फर्सिलेटा ( Utricularia Furcellata)  है। बहुत सुंदर और नाजुक यह पौधा शिकार का खून चूसता है। समूचे पश्चिमी हिमालय क्षेत्र में यह पौधा पहली बार देखा गया है। 2 से 4 सेंटीमीटर तक का ये पौधा यूट्रीकुलेरिया फर्सिलेटा कीड़े-मकोड़ों के लार्वे खाकर उनसे नाइट्रोजन हासिल करता है। -



© 2016 All Rights Reserved.
Follow US On: