रविवार, 23 फ़रवरी 2020 | 01:57 IST
समर्थन और विरोध केवल विचारों का होना चाहिये किसी व्यक्ति का नहीं!!
भारत बना रहा है नेवी के लिए नई हाईटेक क्रूज मिसाइल, जद में होगा पाकिस्‍तान          भारतीयों के स्विस खातों, काले धन के बारे में जानकारी देने से वित्त मंत्रालय ने किया इंकार          पीएम की कांग्रेस को खुली चुनौती,अगर साहस है तो ऐलान करें,पाकिस्तान के सभी नागरिकों को देंगे नागरिकता          नागरिकता संशोधन कानून पर जारी विरोध के बीच पीएम मोदी ने लोगों से बांटने वालों से दूर रहने की अपील की है          भारतीय संसद का ऐतिहासिक फैसला,सांसदों ने सर्वसम्मति से लिया फैसला,कैंटीन में मिलने वाली खाद्य सब्सिडी को छोड़ देंगे           60 साल की उम्र में सेवानिवृत्त करने पर फिलहाल सरकार का कोई विचार नहीं- जितेंद्र सिंह          मोदी सरकार का बड़ा फैसला, दिल्ली की अवैध कॉलोनियां होगी नियमित          पीओके से आए 5300 कश्मीरियों के लिए मोदी सरकार का बड़ा ऐलान, मिलेंगे साढ़े पांच लाख रुपये          पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने कबूल किया कि उनका देश कश्मीर मुद्दे का अंतरराष्ट्रीयकरण करने की कोशिशों में नाकाम रहा          संयुक्‍त राष्‍ट्र ने भी माना,जलवायु परिवर्तन से निपटने में अहम है भारत की भूमिका          बैंकों और बीमा कंपनियों में लावारिस पड़े हैं 32,000 करोड़ से भी ज्यादा पैसे, नहीं है कोई दावेदार         
होम | धर्म-अध्यात्म | लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला 19 दिसंबर को ऋषिकेश में गंगा आरती में करेंगे शिरकत

लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला 19 दिसंबर को ऋषिकेश में गंगा आरती में करेंगे शिरकत


आगामी 19 दिसंबर को एक दिन के लिए तीर्थनगरी के त्रिवेणी घाट का स्वरूप बदल जाएगा। लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला सहित राज्यसभा के उपसभापति, 21 राज्यों के विधानसभा अध्यक्षों, पांच राज्यों के विधानसभा अध्यक्ष, पांच राज्यों के विधान परिषद के सभापति, 27 राज्यों के विधानसभा उपाध्यक्ष, दो राज्यों के विधान परिषद के उप सभापति और 25 राज्यों के विधानसभा सचिव यहां सांध्यकालीन गंगा आरती में शिरकत करेंगे। 

रविवार को श्री गंगा सभा ने बैठक कर बृहस्पतिवार को होने वाले कार्यक्रम की रूपरेखा तैयार की। त्रिवेणी घाट पर रविवार को टीन शेड, लोहे के पिलर में रंगाई का काम किया गया। साथ ही मूर्तियों को रंगने का शुरु हो गया। बैठक में कार्यक्रम को भव्य और आकर्षक बनाने को लेकर चर्चा हुई। गंगा सभा के अध्यक्ष चंद्रशेखर ने कहा कि तीर्थनगरी में इस तरह का पहला कार्यक्रम है। जिसको लेकर पूरे जोरशोर से तैयारी चल रही हैं।

कार्यक्रम के दौरान पीठासीन अधिकारी उत्तराखंड की संस्कृति, आंचलिक वाद्य यंत्र, पहाड़ी भोज भी स्वाद चखेंगे। विधानसभा अध्यक्ष के ओएसडी ताजेंद्र सिंह नेगीे ने बताया कि पीठासीन अधिकारियों के स्वागत के लिए पार्किंग पर गढ़वाली, कुमांऊनी और जौनसारी वेशभूषा पहिने महिलाएं और आंचलिक वाद्य यंत्र ढोल, दमाऊ, मसकबीन, रणसिंघा बजाकर उनका स्वागत किया जाएगा।

इसके अलावा उत्तराखंड संस्कृति विभाग की टीम नंदा देवी राजजात यात्रा की प्रस्तुति देंगी। वहीं, अतिथियों के लिए गढ़वाली भोज मंडुुवे की रोटी, तिल की चटनी, गाहत का फाणु, चौसा, मीठे में झंगौरे की खीर, अर्से की व्यवस्था की गई है। 

 पीठासीन अधिकारियों के स्वागत के लिए श्री गंगा सभा की ओर से पूरा घाट विभिन्न प्रकार की लाइटों से सजाया जाएगा। महामंत्री राहुल शर्मा ने बताया कि मां गंगा की मूर्ति, शिव पार्वती मूर्ति, श्रीकृष्ण- अर्जुन रथ आदि पर रंग-बिरंगी फूल तथा लाइटें लगाई जाएंगी। इसके अलावा गंगा नदी के पार टापू पर भी मनमोहक लाइटें लगाई जाएंगी। 



© 2016 All Rights Reserved.
Follow US On: