रविवार, 21 जुलाई 2019 | 08:44 IST
समर्थन और विरोध केवल विचारों का होना चाहिये किसी व्यक्ति का नहीं!!
81 साल की उम्र में शीला दीक्षित का निघन          शीला दीक्षित 15 साल तक दिल्ली की मुख्यमंत्री रहीं थी          दिल्ली की सबसे लोकप्रिय मुख्यमंत्री शीला दीक्षित का दिल्ली में निधन          इसरो ने किया ऐलान, अब 22 जुलाई को लॉन्च होगा चंद्रयान-2          कुलभूषण जाधव मामले पर पीएम मोदी ने जताई खुशी कहा- ये सच्चाई और न्याय की जीत है          भारतीय वायुसेना के लिए गेम चेंजर साबित होगी राफेल-सुखोई की जोड़ी,एयर मार्शल भदौरिया          कुलभूषण जाधव केस, ICJ में भारत की बड़ी जीत, फांसी की सजा पर रोक, पाकिस्तान को सजा की समीक्षा का आदेश          गृह मंत्री अमित शाह का बड़ा बयान, कहा- सभी घुसपैठियों और अवैध प्रवासियों को करेंगे देश से बाहर          पीएम नरेंद्र मोदी सितंबर में अमेरिका जाएंगे, जहां भारतीय समुदाय के लोगों से उनकी मुलाकात हो सकती है। इस दौरान दुनिया के कई अन्‍य देशों के नेताओं से भी मुलाकात की संभावना है          भाजपा को 2016-18 के बीच 900 करोड़ रू से ज्यादा चंदा मिला, एडीआर की रिपोर्ट में आया सामने          बैंकों और बीमा कंपनियों में लावारिस पड़े हैं 32,000 करोड़ से भी ज्यादा पैसे, नहीं है कोई दावेदार          बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री और राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) प्रमुख लालू प्रसाद यादव के बेटे तेज प्रताप यादव ने किया तेज सेना का गठन           भ्रष्ट अफसरों को जबरन वीआरएस दिया जाए, ऐसे लोग नहीं चाहिए-योगी आदित्यनाथ         
होम | विचार | पुलिस वालों की जिंदगीं का कड़वा सच

पुलिस वालों की जिंदगीं का कड़वा सच


 

सुमन श्योरान 

 

अपने देश की सुरक्षा व्यवस्था के लिए 24 घंटे तत्पर रहने वालें पुलिस की जिंदगी का एक ऐसा सच जिसको सुनकर आप सन रह जाएगें। जी हां आपने हमेशा देखा होगा पुलिस अक्सर अपनी ड्यूटी को लेकर चर्चा में रहती है। आलम यह है कि एक आम नागरिक भी पुलिस वालों की वीडियो बनाकर उनकी वर्दी पर दाग लगाने की कोशिश करता है। ये ही नहीं अगर कोई केस हो जाएं और पुलिस टाइम पर नहीं पहुँचती तो उस हादसे का सारा दोँष भी पुलिस वालों के मथ्थे मड़ दिया जाता है।

 

आज सवाल है देश की उस जनता से और पुलिस को गलत ठहराने वाले हर उस आदमी से। कि वह कभीं सर्द रातों में सड़क पर जागा है। क्या आप को आराम की जरूरत नहीं पड़ती क्या कभी किसी ने सोचा है जब हम रात के सन्नाटें में अपने घरों में आराम से सोते है वो भी बेफिक्री नींद क्यों क्योंकि पुलिस भी उसी तरह हमारी रक्षा करती है जिस तरह सीमा पर खड़ा एक जवान देश की रक्षा करता है। फर्क सिर्फ इतना है सीमा पर मरने वाले शहीद. देश के अन्दर मरने वाले को कफन भी नसीब नहीं होता ऐसा क्यों

 

सीमा पर रहने वाले जवान को 3 महींने की छुट्टी फिर पुलिस को क्यों नहीं वर्दी पर सवाल हर कोई उठा देता है पर कभी किसी ने सोचा है अगर वो 24 घंटे ड्यूटी करता है तो सोता कब है इतने घंटे लगातार ड्यूटी के दौरान एक दिन छुट्टी हो जाए तो पुलिस वाले संस्पेंड अगर वो देश के लिए इतना सबकुछ कर रहे है फिर सरकार उनके लिए क्या सुविधा मुहैया करवा रही है।  

 

 



© 2016 All Rights Reserved.
Follow US On: