बुधवार, 28 अक्टूबर 2020 | 10:14 IST
समर्थन और विरोध केवल विचारों का होना चाहिये किसी व्यक्ति का नहीं!!
मन की बात में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की देशवासियों से अपील,सैनिक के नाम जलाएं एक दीया          विजयदशमी के पावन पर्व पर बद्री-केदार,गंगोत्री और यमुनोत्री धाम के कपाट बंद होने की तिथि का ऐलान          स्वास्थ्य मंत्रालय की देश वासियों से अपील,त्योहारों के मौसम में कोरोना को लेकर बरतें सावधानी          दिवाली से पहले केंद्रीय कर्मचारियों को मोदी सरकार का तोहफा,3737 करोड़ रुपये के बोनस का भुगतान तुरंत           भारत दौरे से पहले अमेरिकी रक्षा मंत्री का बड़ा बयान लद्दाख में चीन भारत पर डाल रहा है सैन्‍य दबाव          उत्तराखंड में चिन्हित रेलवे क्रॉसिंगों पर 50 प्रतिशत धनराशि केन्द्रीय सड़क अवस्थापना निधि से की जाएगी          उत्तराखंड में भूमि पर महिलाओं को भी मिलेगा मालिकाना हक          सीएम रावत ने गूगल के सीईओ सुंदर पिचाई को लिखा पत्र,उत्तराखंड में आइटी सेक्टर में निवेश करने का किया अनुरोध           कोरोना के चलते रद्द हुई अमरनाथ यात्रा,अमरनाथ श्राइन बोर्ड ने रद्द करने का किया एलान           बैंकों और बीमा कंपनियों में लावारिस पड़े हैं 32,000 करोड़ से भी ज्यादा पैसे, नहीं है कोई दावेदार         
होम | विचार | पुलिस वालों की जिंदगीं का कड़वा सच

पुलिस वालों की जिंदगीं का कड़वा सच


 

सुमन श्योरान 

 

अपने देश की सुरक्षा व्यवस्था के लिए 24 घंटे तत्पर रहने वालें पुलिस की जिंदगी का एक ऐसा सच जिसको सुनकर आप सन रह जाएगें। जी हां आपने हमेशा देखा होगा पुलिस अक्सर अपनी ड्यूटी को लेकर चर्चा में रहती है। आलम यह है कि एक आम नागरिक भी पुलिस वालों की वीडियो बनाकर उनकी वर्दी पर दाग लगाने की कोशिश करता है। ये ही नहीं अगर कोई केस हो जाएं और पुलिस टाइम पर नहीं पहुँचती तो उस हादसे का सारा दोँष भी पुलिस वालों के मथ्थे मड़ दिया जाता है।

 

आज सवाल है देश की उस जनता से और पुलिस को गलत ठहराने वाले हर उस आदमी से। कि वह कभीं सर्द रातों में सड़क पर जागा है। क्या आप को आराम की जरूरत नहीं पड़ती क्या कभी किसी ने सोचा है जब हम रात के सन्नाटें में अपने घरों में आराम से सोते है वो भी बेफिक्री नींद क्यों क्योंकि पुलिस भी उसी तरह हमारी रक्षा करती है जिस तरह सीमा पर खड़ा एक जवान देश की रक्षा करता है। फर्क सिर्फ इतना है सीमा पर मरने वाले शहीद. देश के अन्दर मरने वाले को कफन भी नसीब नहीं होता ऐसा क्यों

 

सीमा पर रहने वाले जवान को 3 महींने की छुट्टी फिर पुलिस को क्यों नहीं वर्दी पर सवाल हर कोई उठा देता है पर कभी किसी ने सोचा है अगर वो 24 घंटे ड्यूटी करता है तो सोता कब है इतने घंटे लगातार ड्यूटी के दौरान एक दिन छुट्टी हो जाए तो पुलिस वाले संस्पेंड अगर वो देश के लिए इतना सबकुछ कर रहे है फिर सरकार उनके लिए क्या सुविधा मुहैया करवा रही है।  

 

 



© 2016 All Rights Reserved.
Follow US On: