सोमवार, 24 फ़रवरी 2020 | 06:38 IST
समर्थन और विरोध केवल विचारों का होना चाहिये किसी व्यक्ति का नहीं!!
भारत बना रहा है नेवी के लिए नई हाईटेक क्रूज मिसाइल, जद में होगा पाकिस्‍तान          भारतीयों के स्विस खातों, काले धन के बारे में जानकारी देने से वित्त मंत्रालय ने किया इंकार          पीएम की कांग्रेस को खुली चुनौती,अगर साहस है तो ऐलान करें,पाकिस्तान के सभी नागरिकों को देंगे नागरिकता          नागरिकता संशोधन कानून पर जारी विरोध के बीच पीएम मोदी ने लोगों से बांटने वालों से दूर रहने की अपील की है          भारतीय संसद का ऐतिहासिक फैसला,सांसदों ने सर्वसम्मति से लिया फैसला,कैंटीन में मिलने वाली खाद्य सब्सिडी को छोड़ देंगे           60 साल की उम्र में सेवानिवृत्त करने पर फिलहाल सरकार का कोई विचार नहीं- जितेंद्र सिंह          मोदी सरकार का बड़ा फैसला, दिल्ली की अवैध कॉलोनियां होगी नियमित          पीओके से आए 5300 कश्मीरियों के लिए मोदी सरकार का बड़ा ऐलान, मिलेंगे साढ़े पांच लाख रुपये          पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने कबूल किया कि उनका देश कश्मीर मुद्दे का अंतरराष्ट्रीयकरण करने की कोशिशों में नाकाम रहा          संयुक्‍त राष्‍ट्र ने भी माना,जलवायु परिवर्तन से निपटने में अहम है भारत की भूमिका          बैंकों और बीमा कंपनियों में लावारिस पड़े हैं 32,000 करोड़ से भी ज्यादा पैसे, नहीं है कोई दावेदार         
होम | विचार | पुलिस वालों की जिंदगीं का कड़वा सच

पुलिस वालों की जिंदगीं का कड़वा सच


 

सुमन श्योरान 

 

अपने देश की सुरक्षा व्यवस्था के लिए 24 घंटे तत्पर रहने वालें पुलिस की जिंदगी का एक ऐसा सच जिसको सुनकर आप सन रह जाएगें। जी हां आपने हमेशा देखा होगा पुलिस अक्सर अपनी ड्यूटी को लेकर चर्चा में रहती है। आलम यह है कि एक आम नागरिक भी पुलिस वालों की वीडियो बनाकर उनकी वर्दी पर दाग लगाने की कोशिश करता है। ये ही नहीं अगर कोई केस हो जाएं और पुलिस टाइम पर नहीं पहुँचती तो उस हादसे का सारा दोँष भी पुलिस वालों के मथ्थे मड़ दिया जाता है।

 

आज सवाल है देश की उस जनता से और पुलिस को गलत ठहराने वाले हर उस आदमी से। कि वह कभीं सर्द रातों में सड़क पर जागा है। क्या आप को आराम की जरूरत नहीं पड़ती क्या कभी किसी ने सोचा है जब हम रात के सन्नाटें में अपने घरों में आराम से सोते है वो भी बेफिक्री नींद क्यों क्योंकि पुलिस भी उसी तरह हमारी रक्षा करती है जिस तरह सीमा पर खड़ा एक जवान देश की रक्षा करता है। फर्क सिर्फ इतना है सीमा पर मरने वाले शहीद. देश के अन्दर मरने वाले को कफन भी नसीब नहीं होता ऐसा क्यों

 

सीमा पर रहने वाले जवान को 3 महींने की छुट्टी फिर पुलिस को क्यों नहीं वर्दी पर सवाल हर कोई उठा देता है पर कभी किसी ने सोचा है अगर वो 24 घंटे ड्यूटी करता है तो सोता कब है इतने घंटे लगातार ड्यूटी के दौरान एक दिन छुट्टी हो जाए तो पुलिस वाले संस्पेंड अगर वो देश के लिए इतना सबकुछ कर रहे है फिर सरकार उनके लिए क्या सुविधा मुहैया करवा रही है।  

 

 



© 2016 All Rights Reserved.
Follow US On: