बृहस्पतिवार, 17 अक्टूबर 2019 | 01:43 IST
समर्थन और विरोध केवल विचारों का होना चाहिये किसी व्यक्ति का नहीं!!
पीओके से आए 5300 कश्मीरियों के लिए मोदी सरकार का बड़ा ऐलान, मिलेंगे साढ़े पांच लाख रुपये          कांग्रेस पार्टी का बड़ा एलान, जम्मू-कश्मीर में नहीं लड़ेंगे BDS चुनाव          केंद्र सरकार ने 48 लाख कर्मचारियों को दिवाली से पहले दिया बड़ा तोहफा, 5 फीसदी बढ़ाया महंगाई भत्ता           देश के सबसे बड़ा सरकारी बैंक भारतीय स्टेट बैंक पब्लिक प्रॉविडेंट फंड पर सेविंग अकाउंट की तुलना में दे रहा है डबल ब्याज           भारतीय सेना एलओसी पार करने से हिचकेगी नहीं,पाकिस्तान को आर्मी चीफ बिपिन रावत की चेतावनी          पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने कबूल किया कि उनका देश कश्मीर मुद्दे का अंतरराष्ट्रीयकरण करने की कोशिशों में नाकाम रहा          संयुक्‍त राष्‍ट्र ने भी माना,जलवायु परिवर्तन से निपटने में अहम है भारत की भूमिका          महाराष्ट्र, हरियाणा में 21 अक्टूबर को होगा विधानसभा चुनाव, 24 को आएंगे नतीजे          बैंकों और बीमा कंपनियों में लावारिस पड़े हैं 32,000 करोड़ से भी ज्यादा पैसे, नहीं है कोई दावेदार         
होम | उत्तराखंड | सरोगेट मदर ने कुछ ऐसे बढ़ाई पुलिस की उलझन

सरोगेट मदर ने कुछ ऐसे बढ़ाई पुलिस की उलझन


उत्तराखंड के देहरादून में सरोगेसी से उपजे विवाद ने देहरादून पुलिस को मुसीबत में डाल दिया है। आपको बता दें, सरोगेट मदर से जुड़वा बच्चे होने पर एक बच्चा तो सरोगेट मदर से अनुबंध करने वाले दंपति को दे दिया गया और दूसरा बच्चा सरोगेट मदर ने खुद रख लिया। जबकि, दंपती दोनों बच्चों पर हक जताते हुए उसे वापस करने की मांग कर रहे हैं। विवाद बढ़ने के बाद अब यह मामला पुलिस के पास पहुंच चुका है लेकिन पुलिस अधिकारी यह तय नहीं कर पा रहे हैं कि इसमें मुकदमा किन धाराओं में दर्ज किया जाए। 

 


सरोगेसी से संबंधित स्पष्ट प्रावधान न होने से पुलिस की मुश्किल और बढ़ गई है। अधिकारियों को अभी एक ही बात समझ में आ रही है कि धोखाधड़ी में मामला दर्ज कर दिया जाए। हालांकि अपनी तरह के पहले केस को देखते हुए एसएसपी निवेदिता कुकरेती ने कोई भी कदम उठाने से पहले विभिन्न राय लेने का निर्णय लिया है। 

 


बता दें, हरिद्वार जिले के एक दंपती ने ऋषिकेश कोतवाली में अर्जी देकर बताया था कि शादी को कई वर्ष होने के बाद भी उन्हें बच्चा नहीं हुआ तो मेरठ के एक व्यक्ति ने उन्हें सरोगेसी के माध्यम से बच्चा करने की सलाह दी। उस व्यक्ति ने उन्हें एक महिला से मिलवाया और वह सरोगेट मदर बनने के लिए सहमत भी हो गई। बताया जा रहा है कि इसके लिए दोनों के बीच करीब दो लाख रुपये में अनुबंध हुआ था। जिसके बाद 22 जून 2015 को सरोगेट मां ने उन्हें एक बच्चा सौंप दिया, लेकिन बाद में दंपति को पता चला कि सरोगेट महिला को एक नहीं, बल्कि जुड़वा बच्चे पैदा हुए थे और एक बच्चा महिला ने खुद रख लिया था। इस पर जब दंपती बच्चे की मांग को लेकर महिला से मिले तो उसने बच्चा देने से साफ इंकार कर दिया। इसी के बाद यह प्रकरण पुलिस के पास पहुंचा था। 

 



© 2016 All Rights Reserved.
Follow US On: