बुधवार, 16 जून 2021 | 07:35 IST
समर्थन और विरोध केवल विचारों का होना चाहिये किसी व्यक्ति का नहीं!!
श्री बदरीनाथ धाम के क्षेत्रपाल श्री घंटाकर्ण महाराज जी के सीमांत ग्राम माणा स्थित मंदिर के कपाट खुले          मुख्यमंत्री तीरथ रावत ने दिल्ली में कई केंद्रीय मंत्रियों से की भेंट          सैनिक कल्याण मंत्री गणेश जोशी ने सैन्यधाम के निर्माण में मदद तथा छावनी क्षेत्रों से संबंधित विभिन्न विषयों को लेकर रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह से की भेंट          दिल्ली-रामनगर कार्बेट इको ट्रेन को मिली सैद्धान्तिक मंजूरी          मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत ने केंद्रीय पर्यटन एवं संस्कृति राज्य मंत्री प्रहलाद सिंह पटेल से की भेंट          राज्यपाल बेबी रानी मौर्य ने कुमाऊँ मंडल में कोरोना नियंत्रण से सम्बन्धित स्थिति की की समीक्षा          राम जन्मभूमि खरीद में नहीं हुआ कोई घोटाला          न्यूजीलैंड का मैच विराट के लिए बनेगा सबसे बड़ी चुनौती          मसूरी टनल के कार्य का अक्टूबर में उद्घाटन करेंगे केन्द्रीय मंत्री नितिन गड़करी          पौड़ी के रांसी स्टेडियम में बनेगा हाई एल्टीट्यूड ट्रेनिंग सेंटर          उत्तराखण्ड में क्राफ्ट टूरिज्म विलेज स्थापित कर इसे होम स्टे से जोङने पर दे जोर- स्मृति जुबिन ईरानी          चमोली, रुद्रप्रयाग और उत्‍तरकाशी के लोगों के खुली चारधाम यात्रा         
होम | साहित्य | पुण्यतिथि पर याद किए गए प्रकृति के सुकुमार कवि सुमित्रानंदन पंत

पुण्यतिथि पर याद किए गए प्रकृति के सुकुमार कवि सुमित्रानंदन पंत


 

छायावाद के प्रमुख कवि व हिंदी काव्य में नई धारा के प्रवर्तक सुमित्रानंदन पंत की पुण्यतिथि पर ऋषिकेश में साहित्यिक संस्था आवाज ने उनका पुण्य स्मरण किया वह भावभीनी श्रद्धांजलि अर्पित की। सुमित्रानंदन पंत का जन्म 20  मई 1900को  अल्मोड़ा जनपद के कौसानी नामक गांव में हुआ था। इन्हें जन्म देने के तुरंत बाद इनकी माता सरस्वती देवी परलोक सिधार गईं। पंत जी का लालन-पालन उनकी दादी और बुआ ने किया। उनके बचपन का नाम था गुसाई दत्त। उनके पिता गंगा दत्त चाय बागान के मैनेजर थे। दस साल की उम्र में उन्होंने अपना नाम बदल कर सुमित्रा नंदन पंत रख लिया।

छायावाद युग के प्रमुख कवि जयशंकर प्रसाद,महादेवी वर्मा व सूर्यकांत त्रिपाठी निराला आदि कवियों में सुमित्रानंदन पंत भी एक प्रमुख आधार स्तंभ कवि थे।

सोमवार 28 दिसंबर को सुमित्रानंदन पंत की पुण्यतिथि पर ऋषिकेश में एक विचार गोष्ठी का आयोजन किया गया। जिसमें वक्ताओं ने उनके जीवन परिचय व साहित्यिक उपलब्धियों पर विचार साझा किए। संस्था के अध्यक्ष अशोक क्रेजी ने  कवि पंत की 'हे ग्राम देवता नमस्कार !' , 'सोने चांदी से नहीं किंतु, तुमने मिट्टी से किया प्यार' आदि कविताओं का वाचन कर कार्यक्रम का शुभारंभ किया।

वरिष्ठ उपाध्यक्ष रामकृष्ण पोखरियाल ने कहा कि कवि पंत के काव्य में प्रकृति का अद्भुत सौंदर्य है जो लुभाता है। इसीलिए उन्हें प्रकृति का सुकुमार कवि भी कहा जाता है।

प्रबोध उनियाल ने कवि सुमित्रानंदन पंत से पार्थसारथी डबराल के मुलाकात के कई यादगार संस्मरण गोष्ठी में साझा किये जो उन्होंने डॉ डबराल से सुने थे। धनेश कोठारी ने कहा कि पंत प्रकृति के कवि थे, यही वजह है कि उनके काव्य में प्रतीक व बिम्ब सहज रूप से उतर जाते हैं।

इस अवसर पर सुनील थपलियाल,महेश चिटकारिया,सत्येंद्र चौहान,आलम मुसाफिर,जेपी उनियाल, शांति ठाकुर, पुष्पा उनियाल आदि ने भी उन्हें याद किया व भावभीनी श्रद्धांजलि अर्पित की। 2015 में भारत सरकार ने इस महान कवि की स्मृति में डाक टिकट भी जारी किया था।



© 2016 All Rights Reserved.
Follow US On: