सोमवार, 27 सितंबर 2021 | 04:06 IST
समर्थन और विरोध केवल विचारों का होना चाहिये किसी व्यक्ति का नहीं!!
प्रदेश में महिलाओं को आत्मनिर्भर बनाने के लिये मुख्यमंत्री नारी सशक्तिकरण योजना का शुभारम्भ किया जाय          विश्व पर्यटन दिवस पर सीएम पुष्कर धामी ने प्रदेशवासियों को दी शुभकामनाएं          भाजपा की महिला मोर्चा की राष्ट्रीय अध्यक्ष वानाती श्रीनिवासन ने कहा,पीएम मोदी के कार्यकाल में मातृशक्ति सबसे ज्यादा मजबूत हुई है          सीएम पुष्कर धामी हरिद्वार में ब्रह्मलीन वीतराग सन्त शिरोमणि स्वामी वामदेव जी महाराज की प्रतिमा का किया अनावरण          उत्तराखण्ड में भी होगा वन्दे भारत ट्रेन का संचालन          उत्तराखंड कैबिनेट का बड़ा फैसला,राज्य कर्मियों का महंगाई भत्ता 11 फीसद बढ़ा          चार धाम यात्रा के लिए अब तक 42 हजार तीर्थ यात्रियों ने किया रजिस्ट्रेशन          रक्तदान के लिए हर व्यक्ति को आगे आने की जरूरतः त्रिवेंद्र रावत          उत्तराखंड की चार धाम यात्रा से हटी रोक         
होम | दुनिया | दक्षिण अफ्रीका में भड़की हिंसा में भारतीयों को क्यों उतारा जा रहा मौत के घाट?

दक्षिण अफ्रीका में भड़की हिंसा में भारतीयों को क्यों उतारा जा रहा मौत के घाट?


दक्षिण अफ्रीका में अचानक से दंगे भड़क गये हैं। जिसके कारण कई सारे लोगों की जाने चली गई हैं। ये हिंसा इतनी हिंसक है कि, दुनियाभर की मीडिया और सोशल मीडिया की इस पर बात हो रही है। हर तरफ दक्षिण अफ्रीका की हिंसा में मारे जा रहे लोगों की चर्चा हो रही है। दक्षिण अफ्रीका में इस समय माहौल इतना खराब है कि वहां तक इस हिंसा में 72 लोग मारे जा चुके हैं। बड़ी बात ये है कि वहां भारतीय मूल के लोगों को इस हिंसा में निशाना बनाया जा रहा है और उनके घरों को भी लूटा जा रहा है। हिंसा करने वाले लोग लगातार शॉपिंग मॉल्स को भी निशाना बना रहे हैं और मॉल्स में भी तोड़फोड़ और आगजनी की जा रही है। दक्षिण अफ्रीका के पूर्व राष्ट्रपति जैकब जुमा की गिरफ्तारी के बाद से वहां के कई शहरों में जबरदस्त हिंसा भड़क गई है।सेना की तैनाती के बाद भी हिंसा और आगजनी की घटनाएं बंद नहीं हो पा रही हैं। मंगलवार को जुमा समर्थकों ने कई शापिंग माल को आग के हवाले कर दिया। देश में पिछले पांच दिनों से जारी इस खून-खराबे में अब तक 72 लोग मारे गए हैं। वहीं हिंसा फैलाने में 1,750 लोगों को गिरफ्तार किया गया है। दक्षिण अफ्रीका के पूर्व राष्ट्रपति जुमा को अदालत की अवमानना के मामले में बीते गुरुवार को 15 महीने की कैद की सजा सुनाई गई थी, जिसके बाद हिंसा भड़क गई थी। जुमा के जेल जाने के बाद इस तरह के विरोध प्रदर्शन की आशंका थी। जिसके बाद से ही ये हिंसा शुरू हो गई। जिसमें अब तक कई सारे लोगों के मारे जाने की खबर सामने आ रही है। इसके साथ ही कई सारे लोग घायल भी हो गए हैं।



© 2016 All Rights Reserved.
Follow US On: