सोमवार, 23 सितंबर 2019 | 09:33 IST
समर्थन और विरोध केवल विचारों का होना चाहिये किसी व्यक्ति का नहीं!!
सेंसेक्स के इतिहास में अब तक की सबसे बड़ी तेजी, 1 दिन में ही निवेशकों को 7 लाख करोड़ रुपए का फायदा          इंतजार खत्म- वायुसेना को मिला पहला राफेल फाइटर जेट, दिया गया नए वायुसेना प्रमुख का नाम          जीएसटी काउंसिल की बैठक: ऑटो सेक्टर को नहीं मिली राहत, होटल कमरों पर कम हुई टैक्स दर          संयुक्‍त राष्‍ट्र ने भी माना,जलवायु परिवर्तन से निपटने में अहम है भारत की भूमिका          मौत का एक्सप्रेस वे बना यमुना एक्सप्रेस वे, इस साल हादसों में गई 154 लोगों की जान          महाराष्ट्र, हरियाणा में 21 अक्टूबर को होगा विधानसभा चुनाव, 24 को आएंगे नतीजे          बैंकों और बीमा कंपनियों में लावारिस पड़े हैं 32,000 करोड़ से भी ज्यादा पैसे, नहीं है कोई दावेदार         
होम | मनोरंजन | जागर सम्राट प्रीतम भरतवाण ने किया दुधभाषा गढ़वाली गीत का विमोचन

जागर सम्राट प्रीतम भरतवाण ने किया दुधभाषा गढ़वाली गीत का विमोचन


देहरादून के उत्तरांचल प्रेस क्लब में दुधभाषा गढ़वाली गीत का विमोचन किया गया। जिसका का विमोचन पद्म श्री प्रीतम भरतवाण संगीतकार संजय कुमोला, मीना राणा ने किया। इस मौके पर मौजूद लोगों ने संकल्प लिया की दुधभाषा गढ़वाली को वो रोजमर्रा की जिंदगी में भी इस्तेमाल करेंगे। आपको बता दें कि इस गीत में गढ़वाली बोली को देवबोली का रूप दिया गया है। साथ ही बताया गया है कि कैसे गढ़वाली बोली से आह्वान करने पर देवता धरती पर अवतरित हो जाते हैं। गढ़वाली वह बोली है जिससे रचे मंत्रों के उच्चारण से कई रोग ठीक हो जाते है। गीत के माध्यम से ये भी बताया गया कि गढ़वाली टिहरी राज्य की राज्य भाषा थी।

यह गीत पीबी फिल्म की ओर से यू ट्यूब पर रिलीज किया गया। जिसे लिखा है फिल्म कवि,लेखक और फिल्म निर्माता-निर्देशक प्रदीप भंडारी ने,इस गीत को अपनी सुरमयी आवाज दी है पद्मश्री प्रीतम भरतवाण ने, साथ ही इसमें संगीत दिया है प्रसिद्ध संगीतकार संजय कुमोला ने।

उत्तरांचल प्रेस क्लब में आयोजित इस कार्यक्रम का संचालन गंभीर सिंह जयाड़ा ने किया। कार्यक्रम में मौजूद अतिथियों ने इस गीत की प्रशंसा भी की है। सब ने एक स्वर में कहा कि  कि इस गीत के माध्यम से लोगों का रूझान अपनी दुधबोली के प्रति निश्चित तौर पर बढ़ेगा। दुधभाषा गढ़वाली गीत के इस लोकापर्ण कार्यक्रम में उत्तराखंड फिल्म एवं संगीत जगत की कई हस्तियां मौजूद रही। जिनमें अभिनेता निर्देशक कांता प्रसाद, उफतारा महासचिव अमरदेव गोदियाल, अभिनेता नागेंद्र प्रसाद, चंदर एम एस कैंतुरा, अरूण फरासी, बृजेश भट्ट, लोकगायक जितेंद्र पंवार, चंद्रवीर गायत्री, रसना भरतवाण, किशोर रावत, हरीश कुकरेजा, प्रेरणा भंडारी आदि लोग मौजूद रहे।

 



© 2016 All Rights Reserved.
Follow US On: