सोमवार, 27 सितंबर 2021 | 03:45 IST
समर्थन और विरोध केवल विचारों का होना चाहिये किसी व्यक्ति का नहीं!!
प्रदेश में महिलाओं को आत्मनिर्भर बनाने के लिये मुख्यमंत्री नारी सशक्तिकरण योजना का शुभारम्भ किया जाय          विश्व पर्यटन दिवस पर सीएम पुष्कर धामी ने प्रदेशवासियों को दी शुभकामनाएं          भाजपा की महिला मोर्चा की राष्ट्रीय अध्यक्ष वानाती श्रीनिवासन ने कहा,पीएम मोदी के कार्यकाल में मातृशक्ति सबसे ज्यादा मजबूत हुई है          सीएम पुष्कर धामी हरिद्वार में ब्रह्मलीन वीतराग सन्त शिरोमणि स्वामी वामदेव जी महाराज की प्रतिमा का किया अनावरण          उत्तराखण्ड में भी होगा वन्दे भारत ट्रेन का संचालन          उत्तराखंड कैबिनेट का बड़ा फैसला,राज्य कर्मियों का महंगाई भत्ता 11 फीसद बढ़ा          चार धाम यात्रा के लिए अब तक 42 हजार तीर्थ यात्रियों ने किया रजिस्ट्रेशन          रक्तदान के लिए हर व्यक्ति को आगे आने की जरूरतः त्रिवेंद्र रावत          उत्तराखंड की चार धाम यात्रा से हटी रोक         
होम | धर्म-अध्यात्म | श्री बदरीनाथ धाम के क्षेत्रपाल श्री घंटाकर्ण महाराज जी के सीमांत ग्राम माणा स्थित मंदिर के कपाट खुले

श्री बदरीनाथ धाम के क्षेत्रपाल श्री घंटाकर्ण महाराज जी के सीमांत ग्राम माणा स्थित मंदिर के कपाट खुले


श्री बदरीनाथ धाम के क्षेत्रपाल एवं प्रधान रक्षक श्री घंटाकर्ण जी महाराज के सीमांत ग्राम माणा स्थित मंदिर के कपाट विधि-विधान से धार्मिक अनुष्ठान के पश्चात 15 जून मंगलवार ज्येष्ठ माह संक्रांति को खुल गये।  इस अवसर पर मंदिर को भव्यरूप से सजाया गया था।

हर वर्ष श्री घंटाकर्ण महाराज जी के कपाट ज्येष्ठ संक्रांति के दिन खुलते है इसी दिन से माणा ग्राम में "ज्येष्ठ पुजै" नाम से तीन दिवसीय उत्सव शुरू हो जाता है। उल्लासपूर्वक मनाये जाने वाले इस पर्व पर देश -विदेश से भी श्रद्धालु भी पहुंचते हैं। विगत वर्ष से कोरोना महामारी के कारण सादे समारोह में भगवान घंटाकर्ण महाराज जी के कपाट खुल रहे है। इस बार भी सादगीपूर्वक श्री घंटाकर्ण महाराज जी के मंदिर के कपाट खुल गये हैं। कपाट खुलने के अवसर पर सभी के कल्याण एवं आरोग्यता की कामना की गयी। कोरोना महामारी से सभी लोग सुरक्षित रहे यह प्रार्थना की गयी।

मंगलवार को प्रात:श्री घंटाकर्ण जी के पश्वा आशीष कनखोली विधि-विधान पर्वक श्री घंटाकर्ण महाराज जी की मूर्ति को एकांत वास के  गुफास्थल से माणा गांव के मंदिर तक लाये तथा पूजा-अर्चना पश्चात मूर्ति को मंदिर में स्थापित किया गया। अब छ: माह श्री बदरीनाथ धाम के कपाट खुले रहने तक श्री घंटाकर्ण जी महाराज की पूजा-अर्चना माणा गांव के लोग करेंगे। श्री बदरीनाथ धाम के कपाट बंद होने के आसपास  माणा गांव स्थित श्री घंटाघकर्ण मंदिर के कपाट भी बंद हो जाते है तथा श्री घंटाकर्ण महाराज की मूर्ति को पश्वा  द्वारा अज्ञात गुफा स्थित मंदिर में विराजमान कर दिया जाता है। जिस स्थल पर मूर्ति रखी गयी है उसका पता केवल पश्वा को ही रहता है। इस तरह श्री घंटाकर्ण महाराज छ: माह अज्ञात में जनकल्याण हेतु तपस्यारत हो जाते हैं।

इस वर्ष कोरोना महामारी के कारण यात्रा शुरू न होने से सादगी से श्री घंटाकर्ण मंदिर के कपाट खुले, सीमित संख्या में श्री घंटाकर्ण मंदिर के पुजारी गण, माणा ग्राम के संभ्रातजन ही  मौजूद रहे।

कपाट खुलने के अवसर पर  माणा ग्रामपंचायत प्रधान पीतांबर मोल्फा,  उत्तराखंड चारधाम देवस्थानम प्रबंधन बोर्ड के अपर मुख्य कार्यकारी अधिकारी बी.डी. सिंह, श्री बदरीनाथ धाम के धर्माधिकारी भुवन चंद्र उनियाल, राजेंद्र कनखोली, मानसिंह मोल्फा पंकज बड़वाल, श्रीमती माहेश्वरी परमार, आनंदी परमार, लक्ष्मी बड़वाल, किशोर सिंह बड़वाल, एसडीओ नारायण चौहान, हयात सिंह परमार, पूरन परमार  सहित सेना एवं आईटीबीपी के प्रतिनिधि तथा  देवस्थानम बोर्ड के कर्मचारी गण, तीर्थ पुरोहित मौजूद रहे। इस दौरान कोरोना बचाव मानको का पालन किया गया

 

 

 



© 2016 All Rights Reserved.
Follow US On: