बुधवार, 23 जून 2021 | 11:22 IST
समर्थन और विरोध केवल विचारों का होना चाहिये किसी व्यक्ति का नहीं!!
सीएम रावत ने रेल विकास निगम के अधिकारियों से ली ऋषिकेश-कर्णप्रयाग रेल लाईन की जानकारी          हुंडई मोटर इंडिया फाउंडेशन ने उत्तराखंड को प्रदान किए वेंटिलेटर,ऑक्सीमीटर एवं सैनिटाइजर सहित अन्य सामान          सीएम ने दिखाई पांच वातानुकूलित इलेक्ट्रिक बसों को हरी झंडी          इसरो की सेटेलाइट से बच्चें करेंगे ऑन लाइन पढ़ाई          पंजाब चुनावों से पहले कांग्रेस में छिड़ी जंग          उत्तराखंड में कोरोना कर्फ्यू के लिए दिशा-निर्देश जारी          उत्तराखंड में जल्द दूर होंगी सेवानिवृत्त राजकीय पेंशन संबंधी विसंगतियां          सचिन तेंदुलकर बने सदी के सबसे तेज बल्लेबाज          अमेरिका के राष्ट्रपति को पीछे छोड़ नंबर वन बने पीएम मोदी         
होम | धर्म-अध्यात्म | दूसरे शाही स्नान महाकुंभ में लाखों श्रद्धालुओं ने लगाई आस्था की डुबकी

दूसरे शाही स्नान महाकुंभ में लाखों श्रद्धालुओं ने लगाई आस्था की डुबकी


महाकुंभ 2021 में सोमवार को सोमवती अमावस्या के दिन कुंभ के दूसरे शाही स्नान पर अलसुबह से ही हरकी पैड़ी सहित अन्य गंगा घाटों पर श्रद्धालुओं ने आस्था की डुबकी लगाई। सुबह सात बजे तक हरकी पैड़ी ब्रह्मकुंड पर भी सामान्य श्रद्धालुओं ने स्नान किया। वहीं शाम छह बजे तक हरकी पैड़ी पर 31 लाख 23 हजार से अधिक श्रद्धालुओं ने स्नान कर लिया था, जबकि स्नान का क्रम देर रात तक जारी रहेगा।

सोमवार को सोमवती अमावस्या शाही स्नान के दिन सुबह सात बजे हरकी पैड़ी ब्रहमकुंड और मालवीय घाट पर आम श्रद्धालुओं का आवागमन और स्नान रोक दिया गया। इसके बाद अखाड़ों के साधु संतों के शाही स्नान का क्रम शुरू हुआ।

सबसे पहले सोमवती अमावस्या के शाही स्नान के लिए श्री पंचायती अखाड़ा श्री निरंजनी और आनंद अखाड़े के संत हरकी पैड़ी ब्रह्मकुंड पर पहुंचे। निरंजन पीठाधीश्वर आचार्य महामंडलेश्वर स्वामी श्री कैलाशानंद गिरि जी महाराज ने सबसे पहले गंगा पूजन और दुग्धाभिषेक किया। उन्होंने अखाड़े के इष्टदेव कार्तिकेय भगवान की डोली को गंगा स्नान कराने के बाद खुद शाही स्नान किया। उनके साथ निरंजनी अखाड़े के सचिव और मनसा देवी मंदिर ट्रस्ट के सचिव श्रीमहंत रवींद्र पुरी जी महाराज, आनंद अखाड़े के आचार्य महामंडलेश्वर स्वामी श्री बालकानंद गिरि जी महाराज सहित अन्य संतजनों ने हर हर महादेव, हर हर गंगे का जयघोष करते हुए मां गंगा में शाही स्नान किया। अपने निर्धारित समय के बाद तय रूट से अखाडे़ के संतजन अखाड़े की ओर वापस लौट गए।

दूसरे क्रम में श्री पंचदशनाम जूना अखाड़ा, श्री अग्नि और आवाहन अखाड़े के संतजन शाही स्नान को पहुंचे। जूना पीठाधीश्वर आचार्य महामंडलेश्वर स्वामी अवधेशानंद गिरि महाराज सहित अन्य संतों ने स्नान किया। उनके साथ किन्नर अखाड़े की आचार्य महामंडलेश्वर लक्ष्मी नारायण त्रिपाठी और अन्य संतों ने भी शाही स्नान किया।

तीसरे क्रम पर श्री पंचायती अखाड़ा महानिर्वाण कनखल के श्रीमहंत रविन्द्र पुरी जी महाराज, महामंडलेश्वर महंत रूपेन्द्र प्रकाश जी महाराज और श्री शंभू पंचायती अटल अखाड़े के संतजनों ने हर-हर महादेव का जयघोष करते हुए शाही स्नान किया।

इसी क्रम में शाही स्नान के लिए तीनों बैरागी अखाड़े अखिल भारतीय श्री पंच निर्वाणी अणि अखाड़ा, अखिल भारतीय श्री पंच दिगम्बर अणि अखाड़ा और अखिल भारतीय श्री पंच निर्मोही अणि अखाड़े के संतों ने शाही स्नान कर सभी के कल्याण की कामना की। संतों के दर्शन के लिए जिस रूट से शाही स्नान की पेशवाई आ रही थी लोगों में जबरदस्त उत्साह था। दर्शन मात्र के लिए लोग धूप में इंतजार करते रहे थे।

इसके बाद श्री पंचायती बड़ा अखाड़ा उदासीन निर्वाण और इसके बाद श्री पंचायती नया उदासीन अखाड़ा निर्वाण के साधु संतों ने स्नान किया। सबसे आखिर में श्री पंचायती निर्मल अखाड़ा के साधु संतों ने जयघोष करते हुए शाही स्नान किया। शाही स्नान के लिए आ रहे सभी साधु-संतों पर हेलीकॉप्टर से पुष्पवर्षा कर उनका स्वागत और अभिनंदन किया गया।

शाही स्नान की व्यवस्था को लेकर अधिकारी सजग रहे। सुबह से ही गढ़वाल मंडलायुक्त रविनाथ रमन, डीजीपी अशोक कुमार, मेलाधिकारी दीपक रावत, आईजी कुम्भ संजय गुंज्याल, जिलाधिकारी सी. रविशंकर, एसएसपी हरिद्वार सहित अन्य अधिकारी मेला क्षेत्र में निगरानी करते रहे। इस दौरान अपर मेलाधिकारी डॉ0 ललित नारायण मिश्र, हरबीर सिंह, रामजी शरण शर्मा आदि अधिकारीगण भी व्यवस्था बनाने और उसकी निगरानी करने में जुटे रहे।

शाही स्नान का यह रहा रूट

सोमवती अमावस्या के शाही स्नान के लिए मेला पुलिस प्रशासन ने जो रूट निर्धारित किया था। उसके अनुसार अखाड़े के साधु संत, महंतों को अपने अखाड़े और छावनी से निर्धारित समयानुसार निकलकर शंकराचार्य चैक, चंडीघाट चैराहा, सामान रखने का स्थान (रोड़ी), शौल पुल से होते हुए ब्रह्मकुंड हरकी पैड़ी पर आना था। निर्धारित समय सीमा में स्नान करने के बाद ब्रह्मकुंड से प्रस्थान कर सामान उठाने के स्थान रोड़ी, केशव आश्रम तिराहा, शंकराचार्य चैक होते हुए अपने अखाडे में पहुंचने का रूट तय था।

समय के साथ बढ़ी श्रद्धालुओं की संख्या

सोमवती अमावस्या के शाही स्नान के लिए अल सुबह से ही श्रद्धालुओं के स्नान का क्रम शुरू हो गया था। शाम छह बजे तक 31 लाख 23 हजार श्रद्धालुओं ने स्नान कर पुण्य अर्जित कर लिया था। सुबह दस बजे 17 लाख 31 हजार लोगों ने श्रद्धालुओं ने हरिद्वार कुम्भ मेला क्षेत्र के विभिन्न गंगा घाटों पर स्नान किया। यह संख्या दिन में 12ः00 बजे 21 लाख 07 हजार पहुंच गई थी। शाम चार बजे स्नानार्थियों की संख्या 27 लाख 79 हजार और 6 बजे तक यह आंकड़ा 31 लाख 23 हजार तक पहुंच गया था। जबकि स्नान का क्रम देररात तक जारी रहेगा।

मुख्यमंत्री ने सभी सहयोगियों का जताया आभार

मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत ने कहा कि हरिद्वार महाकुंभ 2021 के दूसरे शाही स्नान का आयोजन भी कोविड 19 की गाइडलाइन का अनुपालन करते हुए दिव्यता व भव्यता के साथ संपंन हो गया है। सुरक्षित और सफल आयोजन में सहयोग के लिए सभी सहयोगियों का आभार।
 सचिवालय में पत्रकारों से वर्चुअली बातचीत में मुख्यमंत्री ने कहा कि आज हुए शाही स्नान में अखाड़ों के संत समाज से लेकर लाखों की तादाद में श्रद्धालुओं ने हरिद्वार कुंभ 2021 में डुबकी लगाकर पुण्य लाभ कमाया। उन्होंने प्रशासन से प्राप्त आंकड़ों के अनुसार बताया सोमवती अमावस्या पर हुए दूसरे शाही स्थान को लेकर श्रद्धालुओं में बहुत उत्साह रहा। सुबह आठ बजे तक ही 15 लाख श्रद्धालू स्नान कर चुके थे। वहीं सायं 6 बजे जो आंकड़ा आया है उसमें स्नान करने वाले श्रद्धालुओं का आंकड़ा 28 लाख पहुंच गया है। उन्होंने कहा कि ऐसी उम्मीद है कि शाही स्नान के समापन तक करीब 35 लाख श्रद्धालु स्नान कर लेंगे।
मुख्यमंत्री ने कहा कि कोविड की विपरीत परिस्थितियों  में हो रहे कुंभ के आयोजन में चुनौतियां बहुत हैं। लेकिन हमारी सरकार ने उस चुनौती का स्वीकार किया है और कुंभ को दिव्यता और भव्यता के साथ सुरक्षित ढंग से संपंन कराया जा रहा है। कहा कि मेले में संत समाज की हर सुविधा का पूरा ध्यान रखा जा रहा है। उनके स्वागत में कोई कमी नहीं है। किसी श्रद्धालू को भी कहीं परेशानी का सामना ना करना पड़े इसका अधिकारियों को भी सख्त निर्देश दिए गए हैं। उन्होंने कहा कि कुंभ में व्यवस्थाएं दुरूस्त करने के लिए हर अखाड़े के स्नान का समय निर्धारित है। और श्रद्धालुओं के लिए भी अलग व्यवस्था की गई है।
मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत ने कहा कि प्रदेश में टीका उत्सव के लिए व्यवस्थाएं पूरी की गई हैं। और टीकाकरण को जनपद से लेकर ब्लाक व न्याय पंचायत स्तर पर कराने के लिए अधिकारियों को निर्देश दिए गए हैं। कहा कि टीकाकरण को लेकर अन्य प्रांतों की अपेक्षा हम बहुत बेहतर स्थिति में हैं। इसके लिए भारत सरकार की ओर से मिल रहे सहयोग के लिए मुख्यमंत्री ने उन्होंने हृदय से आभार जताया।
 



© 2016 All Rights Reserved.
Follow US On: