बुधवार, 23 जून 2021 | 11:30 IST
समर्थन और विरोध केवल विचारों का होना चाहिये किसी व्यक्ति का नहीं!!
सीएम रावत ने रेल विकास निगम के अधिकारियों से ली ऋषिकेश-कर्णप्रयाग रेल लाईन की जानकारी          हुंडई मोटर इंडिया फाउंडेशन ने उत्तराखंड को प्रदान किए वेंटिलेटर,ऑक्सीमीटर एवं सैनिटाइजर सहित अन्य सामान          सीएम ने दिखाई पांच वातानुकूलित इलेक्ट्रिक बसों को हरी झंडी          इसरो की सेटेलाइट से बच्चें करेंगे ऑन लाइन पढ़ाई          पंजाब चुनावों से पहले कांग्रेस में छिड़ी जंग          उत्तराखंड में कोरोना कर्फ्यू के लिए दिशा-निर्देश जारी          उत्तराखंड में जल्द दूर होंगी सेवानिवृत्त राजकीय पेंशन संबंधी विसंगतियां          सचिन तेंदुलकर बने सदी के सबसे तेज बल्लेबाज          अमेरिका के राष्ट्रपति को पीछे छोड़ नंबर वन बने पीएम मोदी         
होम | सेहत | कोरोना से अनाथ हुए बच्चों के भविष्य के लिए सुप्रीम कोर्ट ने मांगा जवाब

कोरोना से अनाथ हुए बच्चों के भविष्य के लिए सुप्रीम कोर्ट ने मांगा जवाब


देश में कोरोना ने हालत बिगाड़ दिया है। जिससे अब तक सारे लोग अपनी जान गंवा चुके हैं। इसके साथ ही कई सारे लोग जिंदगी और मौत की जंग लड़ रहे हैं। इस बीच सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र और राज्य सरकारों से कोरोना में अनाथ हुए बच्चों के भविष्य के लिए जवाब मांगा है।
सुप्रीम कोर्ट ने राज्य सरकारों से राष्ट्रीय बाल अधिकार संरक्षण आयोग के वेब पोर्टल ‘बाल स्वराज’ में उन बच्चों की जानकारी अपडेट करने को कहा था, जिन्होंने पिछले साल मार्च से लेकर अब तक कोरोना के चलते अपने माता पिता या दोनों में से एक को खोया है।5 जून तक वेबसाइट पर डाले गए आंकड़ों के हिसाब से इस तरह के 30,071 बच्चों की जानकारी सामने आई है।
कोर्ट ने केंद्र सरकार से यह भी कहा था कि वह पीएम केयर्स फंड की तरफ से बच्चों की सहायता के लिए जो घोषणा की गई है, उसका विस्तृत विवरण दें।जवाब में केंद्र की तरफ से पेश एडिशनल सॉलिसिटर जनरल ऐश्वर्या भाटी ने कोर्ट को बताया कि अभी इस सहायता को बच्चों तक पहुंचाने की प्रक्रिया तय की जा रही है। इसके लिए राज्य सरकारों से बातचीत चल रही है।

ऐसे में कोर्ट ने केंद्र को विस्तृत जानकारी देने के लिए 4 हफ्ते का समय दिया।
इस तरह उन सभी बच्चों को बड़ी राहत मिली है, जो लोग कोरोना के चलते अनाथ हुए हैं। इससे पहले कई राज्य इसका एलान भी कर चुके हैं।



© 2016 All Rights Reserved.
Follow US On: