बुधवार, 23 जून 2021 | 12:07 IST
समर्थन और विरोध केवल विचारों का होना चाहिये किसी व्यक्ति का नहीं!!
सीएम रावत ने रेल विकास निगम के अधिकारियों से ली ऋषिकेश-कर्णप्रयाग रेल लाईन की जानकारी          हुंडई मोटर इंडिया फाउंडेशन ने उत्तराखंड को प्रदान किए वेंटिलेटर,ऑक्सीमीटर एवं सैनिटाइजर सहित अन्य सामान          सीएम ने दिखाई पांच वातानुकूलित इलेक्ट्रिक बसों को हरी झंडी          इसरो की सेटेलाइट से बच्चें करेंगे ऑन लाइन पढ़ाई          पंजाब चुनावों से पहले कांग्रेस में छिड़ी जंग          उत्तराखंड में कोरोना कर्फ्यू के लिए दिशा-निर्देश जारी          उत्तराखंड में जल्द दूर होंगी सेवानिवृत्त राजकीय पेंशन संबंधी विसंगतियां          सचिन तेंदुलकर बने सदी के सबसे तेज बल्लेबाज          अमेरिका के राष्ट्रपति को पीछे छोड़ नंबर वन बने पीएम मोदी         
होम | धर्म-अध्यात्म | 18 मई को गंगा सप्तमी के दिन करें ये काम करने से मिलती है पापों से मुक्ति

18 मई को गंगा सप्तमी के दिन करें ये काम करने से मिलती है पापों से मुक्ति


18 मई को गंगा सप्तमी का पर्व है। गंगा सप्तमी को लेकर हिंदू धर्म में आस्था है कि, जो भी इस दिन सच्चे मन से पूजा करता है, उसके पाप खत्म हो जाते हैं। पौराणिक ग्रंथों में लिखा है कि, इस दिन मां गंगा की उत्पत्ति हुई थी। वे स्वर्ग लोक से भगवान शिव की जटाओं में पहुंची थी। इसलिए हर वर्ष इस तिथि को गंगा सप्तमी का पर्व मनाया जाता है।

गंगा सप्तमी के दिन ही कर्मों का लेखा-जोखा रखने वाले भगवान चित्रगुप्त का  जन्मदिन होता है।  इसलिए धार्मिक रूप से भी इस दिन का बहुत महत्व है।

गंगा सप्तमी का शुभ मूहूर्त:
18 मई 2021 को दोपहर 12 बजकर 32 मिनट से शुरू हो जाएगा और 19 मई 2021 दिन बुधवार को दोपहर 12 बजकर 50 मिनट तक रहेगा। इस दिन भगवान शिव की पूजा की जाती है। हिंदू धर्म में मां गंगा को पापनाशिनी और मोक्ष दायनी  माना गया है। इसलिए इस दिन मां गंगा की सच्चे दिल से पूजा करने पर फल मिलता है। इस दिन गंगा में डुबकी लगाने से पापों से मुक्ति मिल जाती है। लेकिन इस बार कोरोना है। इसलिए आप घर पर ही पानी में गंगा जल मिलाकर स्नान करें।गंगा सप्तमी के दिन मां गंगा और भगवान शिव की पूजा की जाती है



© 2016 All Rights Reserved.
Follow US On: