रविवार, 27 सितंबर 2020 | 10:24 IST
समर्थन और विरोध केवल विचारों का होना चाहिये किसी व्यक्ति का नहीं!!
टाइम मैग्जीन ने जारी की दुनिया के 100 प्रभावशाली लोगों की लिस्ट,पीएम मोदी लिस्ट में इकलौते भारतीय ने          पीएम मोदी ने फिट इंडिया मूवमेंट के एक साल पूरा होने पर,बताए अपनी फिटनेस के सीक्रेट          डीआरडीओ को मिली बड़ी कामयाबी,अर्जुन टैंक से लेजर गाइडेड एंटी टैंक मिसाइल का सफल परीक्षण          ऑस्ट्रेलिया के पूर्व दिग्गज क्रिकेटर डीन जोन्स का मुंबई में दिल का दौरा पड़ने से निधन          पॉलिसी उल्लंघन के कारण गूगल ने पेटीएम को हटाया,पेटीएम ने कहा,पैसे हैं सुरक्षित          प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश के किसानों को आश्वस्त किया कि लोकसभा से पारित कृषि सुधार संबंधी विधेयक उनके लिए रक्षा कवच का काम करेंगे           उत्तराखंड में भूमि पर महिलाओं को भी मिलेगा मालिकाना हक          सीएम रावत ने गूगल के सीईओ सुंदर पिचाई को लिखा पत्र,उत्तराखंड में आइटी सेक्टर में निवेश करने का किया अनुरोध           कोरोना के चलते रद्द हुई अमरनाथ यात्रा,अमरनाथ श्राइन बोर्ड ने रद्द करने का किया एलान           बैंकों और बीमा कंपनियों में लावारिस पड़े हैं 32,000 करोड़ से भी ज्यादा पैसे, नहीं है कोई दावेदार         
होम | उत्तराखंड | उत्तराखंड में लगातार बारिश से खतरे के निशान पर पहुंची नदियां,मलबा आने से घरों को नुकसान

उत्तराखंड में लगातार बारिश से खतरे के निशान पर पहुंची नदियां,मलबा आने से घरों को नुकसान


उत्तराखंड के पहाड़ी क्षेत्रों में लगातार हो रही बारिश के बाद नदियों का जलस्तर बढ़ने लगा है। नदियां खतरे के निशान पर पहुंच गई हैं। हरिद्वार, ऋषिकेश में गंगा और श्रीनगर में अलकनंदा खतरे के निशान पर पहुंच गई है। वहीं, बागेश्वर में कई जगह मलबा आने से घरों में नुकसान भी हुआ है। 

तीर्थ नगरी ऋषिकेश में गंगा का जलस्तर काफी बढ़ गया है। मुनी की रेती क्षेत्र के परमार्थ निकेतन आश्रम के ठीक सामने भगवान शिव की प्रतिमा के प्लेटफार्म को भी पानी छू रहा है। 

श्रीनगर में अलकनंदा नदी का जल स्तर खतरे के निशान के पास पहुंच गया है। बदरीनाथ नेशनल हाईवे के तोता घाटी में बंद होने पर वैकल्पिक मार्ग के रूप में प्रयोग होने वाला देवप्रयाग-गजा मोटर मार्ग भी लसेर के पास बंद हो गया है। वहीं, तहसीलदार बागेश्वर ने बताया कि बारिश के कारण जिले के गांव मुवानी में नंदन राम पुत्र मोहन राम के आवासीय मकान के पीछे भारी मात्रा में मलबा आ गया। मलबा और पत्थर आने से घर के पीछे बना शौचालय क्षतिग्रस्त हो गया है। 

कपकोट में खटगड़ा गधेरा उफान पर चल रहा है। बागेश्वर जिले और आस-पास की सड़कें मलबे से पट गई हैं। उधर, धारचूला, जौलजीबी, बलुवाकोट से लेकर झूलाघाट तक काली नदी उफान पर है। 

 

 

 

 

 

 

 

 



© 2016 All Rights Reserved.
Follow US On: