रविवार, 20 अक्टूबर 2019 | 05:05 IST
समर्थन और विरोध केवल विचारों का होना चाहिये किसी व्यक्ति का नहीं!!
नए चीफ जस्टिस के लिए सीजेआई रंजन गोगोई ने जस्टिस एस ए बोबडे के नाम की सिफारिश की          हरियाणा विधानसभा की सभी 80 सीटों के लिए 21 अक्टूबर को मतदान          पीओके से आए 5300 कश्मीरियों के लिए मोदी सरकार का बड़ा ऐलान, मिलेंगे साढ़े पांच लाख रुपये          कांग्रेस पार्टी का बड़ा एलान, जम्मू-कश्मीर में नहीं लड़ेंगे BDS चुनाव          केंद्र सरकार ने 48 लाख कर्मचारियों को दिवाली से पहले दिया बड़ा तोहफा, 5 फीसदी बढ़ाया महंगाई भत्ता           देश के सबसे बड़ा सरकारी बैंक भारतीय स्टेट बैंक पब्लिक प्रॉविडेंट फंड पर सेविंग अकाउंट की तुलना में दे रहा है डबल ब्याज           भारतीय सेना एलओसी पार करने से हिचकेगी नहीं,पाकिस्तान को आर्मी चीफ बिपिन रावत की चेतावनी          पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने कबूल किया कि उनका देश कश्मीर मुद्दे का अंतरराष्ट्रीयकरण करने की कोशिशों में नाकाम रहा          संयुक्‍त राष्‍ट्र ने भी माना,जलवायु परिवर्तन से निपटने में अहम है भारत की भूमिका          महाराष्ट्र, हरियाणा में 21 अक्टूबर को होगा विधानसभा चुनाव, 24 को आएंगे नतीजे          बैंकों और बीमा कंपनियों में लावारिस पड़े हैं 32,000 करोड़ से भी ज्यादा पैसे, नहीं है कोई दावेदार         
होम | पर्यटन | ऋषिकेश में दो महीने तक नहीं हो पाएगी राफ्टिंग

ऋषिकेश में दो महीने तक नहीं हो पाएगी राफ्टिंग


मौसम विभाग  ने उत्तराखंड में अगले तीन दिन में भारी बारिश का पूर्वानुमान लगाया है। जिसके बाद एहतियातन कदम के तौर पर राज्य में राष्ट्रीय आपदा मोचन बल (एनडीआरएफ) के 250 से ज्यादा जवानों को तैनात किया गया है।

राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन प्राधिकरण (एनडीएमए) के उपाध्यक्ष एम शशिधर रेड्डी ने यहां संवाददाताओं को बताया, भारतीय मौसम विज्ञान विभाग ने उत्तराखंड में बारिश, तेज बारिश की चेतावनी जारी की है। एनडीआरएफ के छह दलों (प्रत्येक दल में 45 जवान) को देहरादून, पिथौरागढ़, चमोली, रुद्रप्रयाग,हरिद्वार,ऋषिकेश और उत्तरकाशी में तैनात किया गया है ताकि वे किसी भी आपात स्थिति में कार्रवाई कर सकें। 
इस की चलते ऋषिकेश में दो माह के लिए राफ्टिंग का संचालन रोक दिया गया है। इस सीजन में गंगा में जलस्तर बढ़ जाता है। जिस वजह से इसे असुरक्षित माना जाता है। इस कारण हर साल मानसून के दौरान राफ्टिंग को दो माह को रोका जाता है। उत्तराखंड में पिछले कुछ समय से राफ्टिंग प्रमुख व्यवसाय के रूप में उभ्रा है। बड़ी संख्या में स्थानीय लोग किसी न किसी रूप में राफ्टिंग से जुड़े हैं। बड़ी संख्या में देशी और विदेशी पर्यटक राफ्टिंग का लुत्फ लेने यहां पहुंचते हैं। वीकेंड पर तो जबरदस्त भीड़ रहती है। राफ्टिंग के दौरान पर्यटक रैपिड, क्लिफ जंप, तैराकी आदि का लुत्फ लेते हैं। राफ्टिंग का संचालन गंगा नदी राफ्टिंग रोटेशन समिति करती हैं। इसमें 220 राफ्टिंग कंपनियां जुड़ी हैं। जिनके साथ कई लोगों को रोजगार मिला हुआ। लेकिन उत्तराखंड में मौसम के मिज़ाज को देखते हुए फिलाहल के लिए राफ्टिंग रोक दी गई है।
 

 



© 2016 All Rights Reserved.
Follow US On: