मंगलवार, 16 जुलाई 2019 | 03:59 IST
समर्थन और विरोध केवल विचारों का होना चाहिये किसी व्यक्ति का नहीं!!
दिल्ली-एनसीआर में हुई झमाझम बारिश, गर्मी और उमस से मिली राहत          हिमाचल प्रदेश के सोलन में इमारत गिरने की वजह से अब तक सेना के 6 जवानों सहित सात लोगों की मौत           भारतीय क्रिकेट टीम के अंदर सबकुछ ठीक नहीं चल रहा है मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक टीम दो खेमों में बंट गई है          पीएम नरेंद्र मोदी सितंबर में अमेरिका जाएंगे, जहां भारतीय समुदाय के लोगों से उनकी मुलाकात हो सकती है। इस दौरान दुनिया के कई अन्‍य देशों के नेताओं से भी मुलाकात की संभावना है          अयोध्या केस मध्यस्थता पैनल 18 जुलाई को पेश करे रिपोर्ट, सुप्रीम कोर्ट का निर्देश          भाजपा को 2016-18 के बीच 900 करोड़ रू से ज्यादा चंदा मिला, एडीआर की रिपोर्ट में आया सामने          बैंकों और बीमा कंपनियों में लावारिस पड़े हैं 32,000 करोड़ से भी ज्यादा पैसे, नहीं है कोई दावेदार          बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री और राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) प्रमुख लालू प्रसाद यादव के बेटे तेज प्रताप यादव ने किया तेज सेना का गठन           भ्रष्ट अफसरों को जबरन वीआरएस दिया जाए, ऐसे लोग नहीं चाहिए-योगी आदित्यनाथ         
होम | पर्यटन | ऋषिकेश में दो महीने तक नहीं हो पाएगी राफ्टिंग

ऋषिकेश में दो महीने तक नहीं हो पाएगी राफ्टिंग


मौसम विभाग  ने उत्तराखंड में अगले तीन दिन में भारी बारिश का पूर्वानुमान लगाया है। जिसके बाद एहतियातन कदम के तौर पर राज्य में राष्ट्रीय आपदा मोचन बल (एनडीआरएफ) के 250 से ज्यादा जवानों को तैनात किया गया है।

राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन प्राधिकरण (एनडीएमए) के उपाध्यक्ष एम शशिधर रेड्डी ने यहां संवाददाताओं को बताया, भारतीय मौसम विज्ञान विभाग ने उत्तराखंड में बारिश, तेज बारिश की चेतावनी जारी की है। एनडीआरएफ के छह दलों (प्रत्येक दल में 45 जवान) को देहरादून, पिथौरागढ़, चमोली, रुद्रप्रयाग,हरिद्वार,ऋषिकेश और उत्तरकाशी में तैनात किया गया है ताकि वे किसी भी आपात स्थिति में कार्रवाई कर सकें। 
इस की चलते ऋषिकेश में दो माह के लिए राफ्टिंग का संचालन रोक दिया गया है। इस सीजन में गंगा में जलस्तर बढ़ जाता है। जिस वजह से इसे असुरक्षित माना जाता है। इस कारण हर साल मानसून के दौरान राफ्टिंग को दो माह को रोका जाता है। उत्तराखंड में पिछले कुछ समय से राफ्टिंग प्रमुख व्यवसाय के रूप में उभ्रा है। बड़ी संख्या में स्थानीय लोग किसी न किसी रूप में राफ्टिंग से जुड़े हैं। बड़ी संख्या में देशी और विदेशी पर्यटक राफ्टिंग का लुत्फ लेने यहां पहुंचते हैं। वीकेंड पर तो जबरदस्त भीड़ रहती है। राफ्टिंग के दौरान पर्यटक रैपिड, क्लिफ जंप, तैराकी आदि का लुत्फ लेते हैं। राफ्टिंग का संचालन गंगा नदी राफ्टिंग रोटेशन समिति करती हैं। इसमें 220 राफ्टिंग कंपनियां जुड़ी हैं। जिनके साथ कई लोगों को रोजगार मिला हुआ। लेकिन उत्तराखंड में मौसम के मिज़ाज को देखते हुए फिलाहल के लिए राफ्टिंग रोक दी गई है।
 

 



© 2016 All Rights Reserved.
Follow US On: