सोमवार, 8 अगस्त 2022 | 07:01 IST
समर्थन और विरोध केवल विचारों का होना चाहिये किसी व्यक्ति का नहीं!!
प. बंगाल: अर्पिता मुखर्जी के फ्लैट से 28.90 करोड़ रुपये और 5 किलो से ज्यादा सोना बरामद          उत्तराखंड में कोरोना के 334 नए मामले, 2 लोगों की मौत          1 से 4 अगस्त तक भारत दौरे पर रहेंगे मालदीव के राष्ट्रपति इब्राहिम सोलिह          बंगाल शिक्षा घोटाला: पार्थ चटर्जी को मंत्री पद से हटाया गया           संसद में स्मृति ईरानी और सोनिया गांधी के बीच नोकझोंक           गुजरात: जहरीली शराब कांड में एक्शन, SP का तबादला, 2 डिप्टी SP सस्पेंड           दिल्ली में फर्जी कॉल सेंटर का भंडाफोड़, 3 गिरफ्तार          पार्थ चटर्जी के घर में चोरी, लोग समझे ED का छापा पड़ा है          कर्नाटक में प्रवीण हत्याकांड में पुलिस ने अब तक 21 लोगों की हिरासत में लिया         
होम | पर्यटन | मौज-मजे के लिए आने वाले चंद सैलानियों के कारण धार्मिक पर्यटन को खतरा

मौज-मजे के लिए आने वाले चंद सैलानियों के कारण धार्मिक पर्यटन को खतरा


गर्मियों का मौसम चल रहा है और उत्तराखंड के पहाड़ी क्षेत्रों में सैलानियों का का हुजूम उमड़ा हुआ है। लोग इस बीच शहरों की भीषण गर्मी से बचकर यहां सुकून के कुछ पल बिताने आते हैं। लेकिन क्या हो अगर वही सुकून तनाव में बदल जाए?  जिस शांति की तलाश में लोग यहां कई सौ किलोमीटर का सफर तय करके आते हैं अगर वही उन्हें ना मिले तो आपका झल्लाना स्वभाविक है। यही कुछ हाल इस बीच ऋषिकेश में देखने को मिला।

 

अब कुछ ऐसे सैलानी भी यहां पहुंचने लगे हैं। जो शहरों से आकर अपनी गुंडागर्दी का प्रमाण दे रहे हैं। जैसे कुछ लोग सुकून की तलाश में यहां आते हैं वैसे ही कुछ लोग सिर्फ अपनी बिगड़ी परवरिश की झलक दिखाने आते हैं। जो यहां सरेआम नशाखोरी, हुक्का गुड़गुड़ाने, पेंगोंग लेक में गाड़ी चलाने जैसी हरकते करते नज़र आ रहे हैं। जिससे उन सैलानियों को भी दिक्कत होती है जो वाकई में शांति की तलाश में यहां घुमने आते हैं। यहां की प्रकृति का सौंदर्य निहारने आते हैं। और यही अराजक तत्व फिर यहां पुलिस से तक गुंडागर्दी करते हैं। इस बीच तो यहां नशे में कुछ सैलानियों ने राफ्टिंग के चप्पू सड़क पर चलाने शुरू कर दिए। पुलिस की मौजूदगी में भी खुलेआम गुंडागर्दी करते नज़र आए।    

 

लक्ष्मण झूला बाजार के पास कुछ सैलानी सड़क पर सरेआम लड़ते भिड़ते नज़र आए जिससे आम सैलानियों को काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ा। ये लोग आपस इस तरह लड़ रहे थे मानों एक दूसरे को जिंदा छोड़ने का इनका इरादा ना हो। सामने जो भी आ रहा था उनपर सीधे सीधे लाठी-डंडे बरसा रहे थे। पुलिस भी इन सबके बीच कमजोर नज़र आई। यहां तक कि रास्ते में चलने वाले लोग तक बचकर नहीं निकल सके। हालांकि पुलिस भी इनको छुड़ाने के लिए लाठीचार्ज करती नज़र आई लेकिन ये लाठीचार्ज ऐसे बिगड़ैल लोगों के लिए काफी नहीं है। ऐसे लोगों से सख्ती से निपटने की जरूरत है।

 

आपको बता दें कि योगनगरी ऋषिकेश साहसिक खेलों के लिए पूरे देश में अपनी एक अलग पहचान रखता है। यही वजह है कि देश के अलग-अलग कोनों से रिवर राफ्टिंग करने हर साल यहां काफी संख्या में लोग आते हैं। लंबे इंतजार के बाद ऋषिकेश में साहसिक खेलों के शौकीनों के लिए राफ्टिंग खुल चुकी है। जिसके बाद अब अलग-अलग राज्यों से सैलानी गंगा की लहरों में राफ्टिंग का लुत्फ उठाने के लिए ऋषिकेश आ रहे हैं।



© 2016 All Rights Reserved.
Follow US On: