बुधवार, 23 जून 2021 | 11:34 IST
समर्थन और विरोध केवल विचारों का होना चाहिये किसी व्यक्ति का नहीं!!
सीएम रावत ने रेल विकास निगम के अधिकारियों से ली ऋषिकेश-कर्णप्रयाग रेल लाईन की जानकारी          हुंडई मोटर इंडिया फाउंडेशन ने उत्तराखंड को प्रदान किए वेंटिलेटर,ऑक्सीमीटर एवं सैनिटाइजर सहित अन्य सामान          सीएम ने दिखाई पांच वातानुकूलित इलेक्ट्रिक बसों को हरी झंडी          इसरो की सेटेलाइट से बच्चें करेंगे ऑन लाइन पढ़ाई          पंजाब चुनावों से पहले कांग्रेस में छिड़ी जंग          उत्तराखंड में कोरोना कर्फ्यू के लिए दिशा-निर्देश जारी          उत्तराखंड में जल्द दूर होंगी सेवानिवृत्त राजकीय पेंशन संबंधी विसंगतियां          सचिन तेंदुलकर बने सदी के सबसे तेज बल्लेबाज          अमेरिका के राष्ट्रपति को पीछे छोड़ नंबर वन बने पीएम मोदी         
होम | दुनिया | चीन में 2015 से बनाया जा रहा था कोरोना वायरस

चीन में 2015 से बनाया जा रहा था कोरोना वायरस


कोरोना वायरस को लेकर  एक बड़ी जानकारी सामने आई है। जिसमें दावा किया गया है कि, चीन में कोरोना वायरस पर काम काफी लंबे समय से चलाया जा रहा। चीन में मानव कोशिकाओं पर इस वायरस के असर को लेकर 2015 से प्रयोग चल रहे थे। ये प्रयोग वुहान के वायरोलॉजी इंस्टीट्यूट में चल रहे थे। इस प्रयोग में  बैट लेडी नाम की महिला विज्ञानी शी झेंग-ली शामिल थी। बताया जा रहा है कि, इस दौरान शी अमेरिका की नॉर्थ कैरोलिना यूनिवर्सिटी के प्रमुख कोरोना वायरस शोधकर्ता राल्फ एस बारिक के साथ भी काम कर रही थी। ये जानकारी
विज्ञान के मामलों के प्रमुख लेखक निकोलस वाडे की तरफ से दी गई है। उन्होंने एटॉमिक साइंटिस्ट्स के बुलेटिन में बड़ा खुलासा करते हुए लिखा है कि, वुहान की लैब से कोरोना वायरस के बाहर निकलने की आशंका सबसे ज्यादा है। क्योंकि पूरे चीन में वह इकलौती लैब है जहां पर कोरोना वायरस पर शोध चल रहा था। उन्होंने अपने लेख में लिखा है कि, ये जेनेटिक इंजीनियरिंग से तैयार किया गया वायरस है। उन्होंने दावा करते हुए लिखा कि,
वायरसों का सक्रिय होने के कुछ महीनों बाद असर कम हो गया था लेकिन यह नया वायरस समय के साथ और मजबूत होता जा रहा है। इससे साफ है कि यह प्राकृतिक वायरस नहीं है। इसे बनाया गया है। अब इस वैज्ञानिक के दावे में कितनी सच्चाई है।इसका तो आने वाले वक्त में ही पता चल सकेगा।



© 2016 All Rights Reserved.
Follow US On: