मंगलवार, 16 जुलाई 2019 | 04:00 IST
समर्थन और विरोध केवल विचारों का होना चाहिये किसी व्यक्ति का नहीं!!
दिल्ली-एनसीआर में हुई झमाझम बारिश, गर्मी और उमस से मिली राहत          हिमाचल प्रदेश के सोलन में इमारत गिरने की वजह से अब तक सेना के 6 जवानों सहित सात लोगों की मौत           भारतीय क्रिकेट टीम के अंदर सबकुछ ठीक नहीं चल रहा है मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक टीम दो खेमों में बंट गई है          पीएम नरेंद्र मोदी सितंबर में अमेरिका जाएंगे, जहां भारतीय समुदाय के लोगों से उनकी मुलाकात हो सकती है। इस दौरान दुनिया के कई अन्‍य देशों के नेताओं से भी मुलाकात की संभावना है          अयोध्या केस मध्यस्थता पैनल 18 जुलाई को पेश करे रिपोर्ट, सुप्रीम कोर्ट का निर्देश          भाजपा को 2016-18 के बीच 900 करोड़ रू से ज्यादा चंदा मिला, एडीआर की रिपोर्ट में आया सामने          बैंकों और बीमा कंपनियों में लावारिस पड़े हैं 32,000 करोड़ से भी ज्यादा पैसे, नहीं है कोई दावेदार          बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री और राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) प्रमुख लालू प्रसाद यादव के बेटे तेज प्रताप यादव ने किया तेज सेना का गठन           भ्रष्ट अफसरों को जबरन वीआरएस दिया जाए, ऐसे लोग नहीं चाहिए-योगी आदित्यनाथ         
होम | सेहत | तनाव को दूर करें, ऐसे ?

तनाव को दूर करें, ऐसे ?


खुशमिजाजी व्यक्ति हर किसी को पसंद आते है। लेकिन चौकाने वाली बात तब आती है। जब अचानक ही वह खुदखुशी कर ले। इस तरह की घटनाएं बेवजह नही होती दरअसल व्यक्तिगत तौर पर वह इंसान गंभीर डिप्रेशन अथवा मानसिक तनाव का शिकार होता है। आज के समय की भागदौड भरी जिंदगी में यह घटनाएं अक्सर आम हो गई है। फिर भी अपनी सामाजिक छवि को बनाए रखने के लिए लोग या तो अपनी परेशानिंयों को छिपाते है या किसी करीबी को ये सोचकर बताने से कतराते है। अमुक  व्यक्ति मेरे बारे में क्या सोचेगा। । उस व्यक्ति के लिए सुख, शांति, सफलता, खुशी यहाँ तक कि संबंध तक बेमानी हो जाते हैं। उसे सर्वत्र निराशा, तनाव, अशांति, अरुचि प्रतीत होती है।हम आपको बताने जा रहे है डिप्रेशन से जुडी समस्या के कुछ ऐसे ही लक्षणों के बारे में जिनसे सचेत रहकर इस तरह की मानसिक बीमारियो से बचा जा सकता है।

  • विशेषज्ञों का कहना है कि जब एक व्यक्‍ति ठीक से सोच नहीं पाता, उसका अपनी भावनाओं और व्यवहार पर काबू नहीं रहता।
  • पीडित अपने आप से ही अधिकांश समय बाते करता रहता है।
  • अचानक वह लोगों से दूरी बनाने लगता है।
  • डिप्रेशन से व्यक्ति मे आलस, व नींद में कमी जैसी समस्या होने लगती है।

इस बीमारी का एक पूरक अत्यधिक चिंता करना भी है। जो शनैः शनैः घातक बीमारी का रूप धारण कर लेती है।लेकिन इस रोग का इलाज संभव है। सबसे पहले आप एक अच्छे और अनुभवी डॉक्टर से जाँच करवाएँ।

  • अपनी परेशानी  को किसी से शेयर करने में झिझक नहीं होनी चाहिए।
  • अच्छी व धार्मिक किताबें पढ़नी चाहिए।
  • डिप्रेशन से बचाव का योग एक बेहतरीन उपाय है।
  • सुबह सवेरे पार्क में टहलना अपनी आदत में शामिल कीजए
  • ऐसे लोगों से मेलजोल बढ़ाना चाहिए जो आपकी परवाह  करते हो।
  • काम  को कम या ज्यादा नहीं बल्कि संतुलित मात्रा में करें ।
  • भरपूर नींद ले।
  • प्राकृतिक वातावरण जैसे झील, जंगल,पर्वत,नदियां पहाड़ आदि जगहों, पर घुमने निकल जाना चाहिए।
  • पौष्टिक भोजन संतुलित मात्रा में लें।
  • शराब इत्यादि के सेवन से बचे ।
  • क्रिएटिविटी बढाइए।   

 

 

 



© 2016 All Rights Reserved.
Follow US On: