रविवार, 21 जुलाई 2019 | 08:50 IST
समर्थन और विरोध केवल विचारों का होना चाहिये किसी व्यक्ति का नहीं!!
81 साल की उम्र में शीला दीक्षित का निघन          शीला दीक्षित 15 साल तक दिल्ली की मुख्यमंत्री रहीं थी          दिल्ली की सबसे लोकप्रिय मुख्यमंत्री शीला दीक्षित का दिल्ली में निधन          इसरो ने किया ऐलान, अब 22 जुलाई को लॉन्च होगा चंद्रयान-2          कुलभूषण जाधव मामले पर पीएम मोदी ने जताई खुशी कहा- ये सच्चाई और न्याय की जीत है          भारतीय वायुसेना के लिए गेम चेंजर साबित होगी राफेल-सुखोई की जोड़ी,एयर मार्शल भदौरिया          कुलभूषण जाधव केस, ICJ में भारत की बड़ी जीत, फांसी की सजा पर रोक, पाकिस्तान को सजा की समीक्षा का आदेश          गृह मंत्री अमित शाह का बड़ा बयान, कहा- सभी घुसपैठियों और अवैध प्रवासियों को करेंगे देश से बाहर          पीएम नरेंद्र मोदी सितंबर में अमेरिका जाएंगे, जहां भारतीय समुदाय के लोगों से उनकी मुलाकात हो सकती है। इस दौरान दुनिया के कई अन्‍य देशों के नेताओं से भी मुलाकात की संभावना है          भाजपा को 2016-18 के बीच 900 करोड़ रू से ज्यादा चंदा मिला, एडीआर की रिपोर्ट में आया सामने          बैंकों और बीमा कंपनियों में लावारिस पड़े हैं 32,000 करोड़ से भी ज्यादा पैसे, नहीं है कोई दावेदार          बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री और राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) प्रमुख लालू प्रसाद यादव के बेटे तेज प्रताप यादव ने किया तेज सेना का गठन           भ्रष्ट अफसरों को जबरन वीआरएस दिया जाए, ऐसे लोग नहीं चाहिए-योगी आदित्यनाथ         
होम | साहित्य | कुमाऊंनी भाषा में ‘छिलुक’ उपन्यास का विमोचन

कुमाऊंनी भाषा में ‘छिलुक’ उपन्यास का विमोचन


उत्तराखंडी संस्कृति और कुमाऊंनी भाषा में ग्रामीण परिवेश पर आधारित ‘छिलुक’ उपन्यास का विमोचन

गणेश कुमावत

 

उत्तराखंडी संस्कृति को उजागर करने के लिए दिल्ली के गढ़वाल भवन में एक कार्यक्रम का आयोजन किया। इस कार्यक्रम में उत्तराखंडी लेखक पूरन चन्द काण्डपाल के ‘छिलुक’ उपन्यास का विमोजन किया गया। साथ ही इस मौके पर बड़े-बड़े दिग्गजों ने अपनी बात रखी । इन दौरान उत्तराखंड के लेखनों नें उत्तराखंडी भाषा गढ़वाली और कुमाऊंनी को बढ़ावा देने पर जोर दिया। साथ ही पूरन चन्द्र काण्डपाल, हेम पंत के साथ-साथ डी. पी. एम. आई के चेयरमैन विनोद बछेती भी मौजूद रहे। साथ ही इस मौके पर उत्तराखंडी लेखकों ने अपनी-अपनी बात रखी। 

 

इस उपन्याश के जरिये समाज में कुरूतियाँ और कमजोरियों के माध्यम से उत्तराखंडी लोगों में सुधार की कोशिश की गई। वही दूसरी ओर एक सरकारी नौकरी पाकर भी गरीब बन जाता है। क्योंकि इसे नशे की लत लग जाती है और वो पूरी तरह से अपने शरीर को खराब कर लेता है। उन नशेड़ी को समझाने के लिए बहुत प्रयास किया जाता है। लेकिन आखिर में वह नहीं समझता। अपनी जीवन लीला समाप्त कर लेता है।

 

उत्तराखंड का कुमाऊंनी भाषा में इसे लेखक ने ग्रामीण परिवेश का चित्रण किया है। साथ ही अपने बोली भाषा को बचाने की पहल की है।  साथ ही उत्तराखंडी प्रवासियों ने उत्तराखंडी साहित्य को आगे लाने का प्रयास करने पर भी जोर दिया है।

 

उत्तराखंडी भाषाओं में कुमाऊंनी, गढ़वाली और जौनसारी का बड़ा महत्व बताया है। इन भाषाओं के शब्दों से उत्तराखंडी की संस्कृति के साथ देव भाषा भी इन भाषाओं से मिलती झुलती बताते है।



© 2016 All Rights Reserved.
Follow US On: