बुधवार, 20 नवंबर 2019 | 11:53 IST
समर्थन और विरोध केवल विचारों का होना चाहिये किसी व्यक्ति का नहीं!!
स्वर कोकिला लता मंगेशकर की हालत नाजुक, देश भर दुआओं का दौर जारी           महाराष्ट्र में राष्ट्रपति शासन लगाने की सिफारिश, मोदी कैबिनेट ने दी मंजूरी          अयोध्या में ही मस्जिद निर्माण के लिए दी जाएगी जमीन          सुप्रीम कोर्ट ने विवादित जमीन पर रामलला का हक माना          कोर्ट ने कहा कि पुरातत्व विभाग की खोज को नजरअंदाज नहीं किया जा सकता          कोर्ट ने कहा,विवादित जमीन के नीचे एक ढांचा था और यह इस्लामिक ढांचा नहीं था          कोर्ट के फैसले में ASI का हवाला देते हुए कहा गया कि बाबरी मस्जिद का निर्माण किसी खाली जगह पर नहीं किया गया था          अयोध्या पर आया सुप्रीम कोर्ट का फैसला, बनेगा राम मंदिर, मस्जिद के लिए अलग जगह          मोदी सरकार का बड़ा फैसला, दिल्ली की अवैध कॉलोनियां होगी नियमित          पीओके से आए 5300 कश्मीरियों के लिए मोदी सरकार का बड़ा ऐलान, मिलेंगे साढ़े पांच लाख रुपये          केंद्र सरकार ने 48 लाख कर्मचारियों को दिवाली से पहले दिया बड़ा तोहफा, 5 फीसदी बढ़ाया महंगाई भत्ता           देश के सबसे बड़ा सरकारी बैंक भारतीय स्टेट बैंक पब्लिक प्रॉविडेंट फंड पर सेविंग अकाउंट की तुलना में दे रहा है डबल ब्याज           पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने कबूल किया कि उनका देश कश्मीर मुद्दे का अंतरराष्ट्रीयकरण करने की कोशिशों में नाकाम रहा          संयुक्‍त राष्‍ट्र ने भी माना,जलवायु परिवर्तन से निपटने में अहम है भारत की भूमिका          महाराष्ट्र, हरियाणा में 21 अक्टूबर को होगा विधानसभा चुनाव, 24 को आएंगे नतीजे          बैंकों और बीमा कंपनियों में लावारिस पड़े हैं 32,000 करोड़ से भी ज्यादा पैसे, नहीं है कोई दावेदार         
होम | साहित्य | कुमाऊंनी भाषा में ‘छिलुक’ उपन्यास का विमोचन

कुमाऊंनी भाषा में ‘छिलुक’ उपन्यास का विमोचन


उत्तराखंडी संस्कृति और कुमाऊंनी भाषा में ग्रामीण परिवेश पर आधारित ‘छिलुक’ उपन्यास का विमोचन

गणेश कुमावत

 

उत्तराखंडी संस्कृति को उजागर करने के लिए दिल्ली के गढ़वाल भवन में एक कार्यक्रम का आयोजन किया। इस कार्यक्रम में उत्तराखंडी लेखक पूरन चन्द काण्डपाल के ‘छिलुक’ उपन्यास का विमोजन किया गया। साथ ही इस मौके पर बड़े-बड़े दिग्गजों ने अपनी बात रखी । इन दौरान उत्तराखंड के लेखनों नें उत्तराखंडी भाषा गढ़वाली और कुमाऊंनी को बढ़ावा देने पर जोर दिया। साथ ही पूरन चन्द्र काण्डपाल, हेम पंत के साथ-साथ डी. पी. एम. आई के चेयरमैन विनोद बछेती भी मौजूद रहे। साथ ही इस मौके पर उत्तराखंडी लेखकों ने अपनी-अपनी बात रखी। 

 

इस उपन्याश के जरिये समाज में कुरूतियाँ और कमजोरियों के माध्यम से उत्तराखंडी लोगों में सुधार की कोशिश की गई। वही दूसरी ओर एक सरकारी नौकरी पाकर भी गरीब बन जाता है। क्योंकि इसे नशे की लत लग जाती है और वो पूरी तरह से अपने शरीर को खराब कर लेता है। उन नशेड़ी को समझाने के लिए बहुत प्रयास किया जाता है। लेकिन आखिर में वह नहीं समझता। अपनी जीवन लीला समाप्त कर लेता है।

 

उत्तराखंड का कुमाऊंनी भाषा में इसे लेखक ने ग्रामीण परिवेश का चित्रण किया है। साथ ही अपने बोली भाषा को बचाने की पहल की है।  साथ ही उत्तराखंडी प्रवासियों ने उत्तराखंडी साहित्य को आगे लाने का प्रयास करने पर भी जोर दिया है।

 

उत्तराखंडी भाषाओं में कुमाऊंनी, गढ़वाली और जौनसारी का बड़ा महत्व बताया है। इन भाषाओं के शब्दों से उत्तराखंडी की संस्कृति के साथ देव भाषा भी इन भाषाओं से मिलती झुलती बताते है।



© 2016 All Rights Reserved.
Follow US On: