रविवार, 23 फ़रवरी 2020 | 02:22 IST
समर्थन और विरोध केवल विचारों का होना चाहिये किसी व्यक्ति का नहीं!!
भारत बना रहा है नेवी के लिए नई हाईटेक क्रूज मिसाइल, जद में होगा पाकिस्‍तान          भारतीयों के स्विस खातों, काले धन के बारे में जानकारी देने से वित्त मंत्रालय ने किया इंकार          पीएम की कांग्रेस को खुली चुनौती,अगर साहस है तो ऐलान करें,पाकिस्तान के सभी नागरिकों को देंगे नागरिकता          नागरिकता संशोधन कानून पर जारी विरोध के बीच पीएम मोदी ने लोगों से बांटने वालों से दूर रहने की अपील की है          भारतीय संसद का ऐतिहासिक फैसला,सांसदों ने सर्वसम्मति से लिया फैसला,कैंटीन में मिलने वाली खाद्य सब्सिडी को छोड़ देंगे           60 साल की उम्र में सेवानिवृत्त करने पर फिलहाल सरकार का कोई विचार नहीं- जितेंद्र सिंह          मोदी सरकार का बड़ा फैसला, दिल्ली की अवैध कॉलोनियां होगी नियमित          पीओके से आए 5300 कश्मीरियों के लिए मोदी सरकार का बड़ा ऐलान, मिलेंगे साढ़े पांच लाख रुपये          पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने कबूल किया कि उनका देश कश्मीर मुद्दे का अंतरराष्ट्रीयकरण करने की कोशिशों में नाकाम रहा          संयुक्‍त राष्‍ट्र ने भी माना,जलवायु परिवर्तन से निपटने में अहम है भारत की भूमिका          बैंकों और बीमा कंपनियों में लावारिस पड़े हैं 32,000 करोड़ से भी ज्यादा पैसे, नहीं है कोई दावेदार         
होम | विचार | बिखरते रिश्तों को ऐसे संभालें!

बिखरते रिश्तों को ऐसे संभालें!


टूटते-बिखरते रिश्तोंको लेकर काफी परेशान रहते हैं। कुछ लोग तो इनके टूटनेसे इतने आहात हो जाते हैं कि, वो डिप्रेशन में चले जाते जाते हैं या फइर अपनी जिंदगी गलत राह की तरफ ले जाते हैं। लेकिन रिश्ते को संभालने के लियेहर वेमुमकिन कोशिस करनी चाहिए जिससे वो बच सके। लेकिन ये कोशिश दोनों तरफ से हो तो तभी मजबूत बनते हैं।कभी-कभी कुछ रिश्ते आपसी समझ और अहंकार की बलि भी चढ़ जाते हैं। इसलिए अपने रिश्ते को बचाने के लिए आपको ख़ुद पर भी ध्यान देने की ज़रूरत है। ख़ुद की ग़लती को पहचानने की ज़रूरत है, ताकि अपने टूटते रिश्ते को बचा पाएं।

अपने रिश्ते को संभालने के लिए थेरेपी का रास्ता अपनाएं। इस दौरान दोनों पक्षों को रखकर उन्हें समझने और समझाने की कोशिश की जाती है। क्योंकि ऐसा हमेशा नहीं हो पाता है कि आप एक-दूसरे की बात को बिना कहे समझ लें। उसके लिए आपको थेरेपी का सहारा लेना चाहिए। इससे रिश्ते सुलझाने में आसानी होती है। दूसरों को बदलने से अच्छा ख़ुद पॉज़िटिव बनो। ताकि आपके पार्टनर को आपमें हो रहे बदलाव को देखकर ख़ुद को बदलने पर मजबूर होना पड़े। नकारात्मकता का मुकाबला करने का सबसे अच्छा तरीका सकारात्मकता है। उनकी छोटी सी जीत को भी दिल खोलकर सेलिब्रेट करें। ज़्यादा से ज़्यादा पॉज़िटिव वीडियो देखें।आपने जो करना बंद कर दिया है उसे करना शुरू करें, यानि अपने पार्टनर को सुनना शुरू करें। वो क्या कह रेह हैं? क्या चाह रहे हैं आपसे? इसके अलावा अगर वो किसी बात पर आपको ग़लत ठहरा रहे हैं, तो उसका कारण पूछें, बजाय बहस करने के। इस तरह सेरिश्ते सुलझ सकते हैं।  इस तरह आप बिखरते रिश्तों को संभालने की कोशिस कर सकते हैं। लेकिन ध्यान रखें किसी रिश्तों में खुद को इतना भी लाचार न बनाये जो आपके लिये मुसीबत बन जाये। क्योंकि रिश्ते तभी चलते हैं जब दोनों तरफ से चलाएं जायें।



© 2016 All Rights Reserved.
Follow US On: