शनिवार, 25 सितंबर 2021 | 09:04 IST
समर्थन और विरोध केवल विचारों का होना चाहिये किसी व्यक्ति का नहीं!!
होम | धर्म-अध्यात्म | भाई-बहन के रिश्ते का पावन पर्व रक्षा बंधन के ये है शुभ मुहूर्त

भाई-बहन के रिश्ते का पावन पर्व रक्षा बंधन के ये है शुभ मुहूर्त


रविवार को भाई-बहन के रिश्ते का पावन पर्व कहे जाने वाले रक्षा बंधन है। देशभर में रक्षा बंधन की  धूम देखने को मिल रही है। वैसे तो यह पर्व भाई-बहन के रिश्‍ते का पर्व है लेकिन सावन महीने की पूर्णिमा को मनाया जाने वाला यह त्योहार कई मायनों में अहम है। साल की सभी पूर्णिमा-अमावस्‍या अहम होती हैं लेकिन सावन महीने की पूर्णिमा का ज्‍यादा महत्‍व है। लिहाजा इस दिन कुछ उपाय किए जाएं तो यह घर की गरीबी मिटाने, परिवार पर आए संकट को दूर करने में बहुत कारगर साबित होते हैं। इस साल रक्षाबंधन का दिन बेहद शुभ है। इस बार 50 साल बाद शुभ योग का निर्माण हो रहा है। रक्षाबंधन का पर्व इस वर्ष चार विशिष्ट योगों से परिपूर्ण है। पूरे 50 वर्ष बाद सर्वार्थसिद्धि, कल्याणक, महामंगल और प्रीति योग एक साथ बनेंगे। इससे पूर्व वर्ष 1981 में ये चारों योग एक साथ बने थे। इन चारों योगों से रक्षाबंधन का महात्म्य बढ़ गया है। इस मध्य भाई और बहन के लिए रक्षा बंधन की रस्म विशेष कल्याणकारी होगी। रक्षा बंधन का शुभ मुहूर्त श्रावण पूर्णिमा 21 अगस्त को शाम 6:10 बजे से 22 अगस्त की शाम 5:01 बजे तक रहेगा। श्रावण पूर्णिमा पर भद्रा 21 अगस्त को शाम 6:10 बजे से लगेगी और 22 अगस्त को भोर में 5:35 बजे समाप्त होगी। रक्षाबंधन के शुभ मुहूर्त की बात करें तो भविष्य पुराण के अनुसार, श्रावणी उपाकर्म सहित रक्षाबंधन में दोपहर बाद व्यापिनी पूर्णिमा ली जाती है। इस दौरान राखी बांधना बेहद शुभ रहेगा।



© 2016 All Rights Reserved.
Follow US On: