शुक्रवार, 7 अगस्त 2020 | 02:44 IST
समर्थन और विरोध केवल विचारों का होना चाहिये किसी व्यक्ति का नहीं!!
पीएम मोदी ने रखी राम मंदिर की नींव, देश भर में घर-घर दीप प्रज्ज्वलित कर मनाई जा रही है खुशियां          उत्तराखंड में भूमि पर महिलाओं को भी मिलेगा मालिकाना हक          सीएम रावत ने गूगल के सीईओ सुंदर पिचाई को लिखा पत्र,उत्तराखंड में आइटी सेक्टर में निवेश करने का किया अनुरोध           कोरोना के चलते रद्द हुई अमरनाथ यात्रा,अमरनाथ श्राइन बोर्ड ने रद्द करने का किया एलान           कोटद्वार में अतिवृष्टि से सड़क पर आया मलबा, बरसाती नाले में बही कार, चालक की मौत          चारधाम देवस्थानम बोर्ड मामले में उत्तराखंड सरकार को बड़ी राहत,सुब्रह्मण्यम स्वामी की याचिका हाईकोर्ट          प्रधानमंत्री ने वीडियो कांफ्रेंसिंग से की केदारनाथ के निर्माण कार्यों की समीक्षा, कहा धाम के अलौकिक स्वरूप में और भी वृद्धि होगी          बैंकों और बीमा कंपनियों में लावारिस पड़े हैं 32,000 करोड़ से भी ज्यादा पैसे, नहीं है कोई दावेदार         
होम | सेहत | उत्तरकाशी,सड़क न होने से कई किलोमीटर पैदल चली गर्भवती, गांव के रास्ते में ही जन्मा बच्चा

उत्तरकाशी,सड़क न होने से कई किलोमीटर पैदल चली गर्भवती, गांव के रास्ते में ही जन्मा बच्चा


पहाड़ के लोगों की मुश्किलें भी पहाड़ जैसी हैं। हिमरोल गांव की एक गर्भवती रामप्यारी को प्रसव पीड़ा हुई तो परिजन उसे लेकर पैदल ही चले, ताकि मुख्य सड़क तक पहुंचकर उसे अस्पताल ले जाया जा सके। लेकिन गर्भवती ने मुख्य सड़क तक पहुंचने से पहले गांव के रास्ते में ही बच्चे को जन्म दे दिया। 

परिजन मुश्किलों के साथ जच्चा-बच्चा को किसी तरह मुख्य सड़क तक ले जाकर 40 किलोमीटर दूर स्थित सीएचसी नौगांव लेकर पहुंचे। यहां उपचार के बाद दोनों सकुशल हैं। रामप्यारी (32) के पति लक्ष्मण नौटियाल ने शुक्र जताया कि कोई अनहोनी नहीं हुई। उनके मुताबिक अगर गांव तक सड़क होती तो वह अपनी पत्नी को समय से अस्पताल पहुंचा पाते। उनके मुताबिक सीएचसी लाने में देर हो जाती तो दोनों की जान को मुश्किल हो सकती थी।  
श्रमदान से बना रहे थे सड़क, चट्टान बाधा बनी
बताते हैं कि कागजों में हिमरोल गांव तक सड़क बन गई है, लेकिन हकीकत में ऐसा हुआ नहीं है। गांव से मुख्य सड़क तक पहुंचने में एक किलोमीटर की दुर्गम राह है। कोरोना संक्रमण के चलते गांव लौटे प्रवासी युवाओं ने श्रमदान से सड़क बनाने की कोशिश की थी। लेकिन आधा किलोमीटर सड़क खोदने के बाद रास्ते में चट्टान आ गई। जिससे उनकी हिम्मत जवाब दे गई। 

इस घटना के बाद हिमरोल गांव की ग्राम प्रधान मधुबाला बडोनी का कहना है कि गांव तक सड़क नहीं होने के कारण ग्रामीणों को खासी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। मंगलवार को हुई घटना के पीछे भी सड़क ही कारण है। सरकार को जल्द से जल्द उनके गांव तक सड़क बनानी चाहिए।

 



© 2016 All Rights Reserved.
Follow US On: