मंगलवार, 16 जुलाई 2019 | 04:26 IST
समर्थन और विरोध केवल विचारों का होना चाहिये किसी व्यक्ति का नहीं!!
दिल्ली-एनसीआर में हुई झमाझम बारिश, गर्मी और उमस से मिली राहत          हिमाचल प्रदेश के सोलन में इमारत गिरने की वजह से अब तक सेना के 6 जवानों सहित सात लोगों की मौत           भारतीय क्रिकेट टीम के अंदर सबकुछ ठीक नहीं चल रहा है मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक टीम दो खेमों में बंट गई है          पीएम नरेंद्र मोदी सितंबर में अमेरिका जाएंगे, जहां भारतीय समुदाय के लोगों से उनकी मुलाकात हो सकती है। इस दौरान दुनिया के कई अन्‍य देशों के नेताओं से भी मुलाकात की संभावना है          अयोध्या केस मध्यस्थता पैनल 18 जुलाई को पेश करे रिपोर्ट, सुप्रीम कोर्ट का निर्देश          भाजपा को 2016-18 के बीच 900 करोड़ रू से ज्यादा चंदा मिला, एडीआर की रिपोर्ट में आया सामने          बैंकों और बीमा कंपनियों में लावारिस पड़े हैं 32,000 करोड़ से भी ज्यादा पैसे, नहीं है कोई दावेदार          बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री और राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) प्रमुख लालू प्रसाद यादव के बेटे तेज प्रताप यादव ने किया तेज सेना का गठन           भ्रष्ट अफसरों को जबरन वीआरएस दिया जाए, ऐसे लोग नहीं चाहिए-योगी आदित्यनाथ         
होम | लाइफस्टाइल | प्रहलाद सिंह टिपानिया ने कबीर के भजनों से विदेशियों का जीता दिल

प्रहलाद सिंह टिपानिया ने कबीर के भजनों से विदेशियों का जीता दिल


संत कबीरदास के भजनों में रूची रखने वाले भजनों के लोक शैली में गाने वाले प्रहलाद सिंह टिपानिया का आज जन्मदिन है। प्रहलाद सिह टिपानिया आज 63 साल के हो गये है। टिपानिया ने शुरूआती समये में गांव गांव घूमकर गाने गाये। गली गली में घूमके गाने वाले प्रहलाद आज दुनिया भर में पहचान बना चुके हैं। कबीर के भजनों को गाने की शुरुआत उन्होंने लूणियाखेड़ी गांव (मध्य प्रदेश के देवास में) से ही की। कबीर के भजनों को पूरी दुनिया में गुंजाने वाले टिपानिया बताते हैं कि उन्हें कबीर के भजनों की तरफ एक पक्षी ने मोड़ा था और वे उसी पक्षी को अपना शिक्षक मानते हैं। क्योंकि प्रहलाद पेशे से गायक होने के अलावा विज्ञान के शिक्षक भी हैं। कबीर के भजनों के लिए जाने जाने-वाले प्रहलाद अमरीका समेत विदेशों में भी शो करते हैं। विदेशों में प्रहलाद के गायन पर मोहित होने वालो की हद यहां तक है कि हार्वर्ड यूनिवर्सिटी की एक प्रोफेसर सारा भारत आकर उनकी शिष्य बनीं। साथ ही अपना नाम बदलकर अंबा सारा रखा। वे कबीर के भजनों का अंग्रेजी में अनुवाद कर रही हैं. टिपनिया के मुताबिक विदेशों में उनके भजन सुनने आने वालों में सबसे ज्यादा तादाद गैर हिंदी भाषियों की ही होती है. कबीर के दोहों को सुनाने के लिए ब-कायदा मांग की जा रही है। टिपानिया मानते है कि आज के समय में भी कबीर की लेखनी में इतनी ताकत है कि वो उन्होंने लोगों को बांधना शुरू कर दिया है। हालांकि वह ये भी मानते हैं कि कबीर को किसी किसी मठ में नहीं बांधा जा सकता, पर साथ ही कहते हैं कि कबीरपंथ भी एक तरह की सीमा ही है।



© 2016 All Rights Reserved.
Follow US On: