मंगलवार, 24 मई 2022 | 02:24 IST
समर्थन और विरोध केवल विचारों का होना चाहिये किसी व्यक्ति का नहीं!!
30 जून से शुरू होगी अमरनाथ यात्रा          शंघाई मिले कोरोना का एक दिन में 23,000 से ज्‍यादा नए मामले          रूस ने भारत को दिए एस-400 मिसाइल सिस्टम के पार्ट्स          कर्नाटक हाईकोर्ट का हिजाब विवाद पर बड़ा फैसला,हिजाब इस्लाम का हिस्सा नहीं          सीबीएसई की 10वीं की परीक्षाएं 26 अप्रैल से 24 मई तक, 12वीं की परीक्षाएं 26 अप्रैल से 15 जून तक आयोजित की जाएगी          केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड ने जारी की टर्म 2 परीक्षा के लिए 10वीं और 12वीं की डेटशीट          आरबीआई ने पेटीएम पेमेंट्स बैंक को नए ग्राहक जोड़ने से रोका, आईटी ऑडिट का भी दिया आदेश          8 मई को खुलेंगे श्री बदरीनाथ धाम के कपाट          कांग्रेस दफ्तरों में होगी सीडीएस जनरल बिपिन सिंह रावत और जनरल जोशी की फोटो         
होम | साहित्य | कवि शिव प्रसाद जोशी के कविता संग्रह को प्रथम चाक कविता सम्मान

कवि शिव प्रसाद जोशी के कविता संग्रह को प्रथम चाक कविता सम्मान


वर्ष 2021 का सोहनवीर सिंह प्रजापति स्मृति ‘चाक कविता सम्मान’ कवि शिवप्रसाद जोशी को दिये जाने की घोषणा की गयी है। चाक सम्मान समिति की एक बैठक में सर्वसम्मति से यह निर्णय लिया गया। चयन समिति के सदस्य रमेश प्रजापति ने बताया कि ‘चाक कविता सम्मान’ प्रत्येक वर्ष उनके पिता सोहनवीर सिंह प्रजापति की स्मृति में दिया जाएगा। शीघ्र ही आयोजित होने वाले एक कार्यक्रम में यह सम्मान कवि को भेंट किया जाना है।

वर्ष 2021 का यह सम्मान शिवप्रसाद जोशी के कविता-संग्रह ‘रिक्तस्थान और अन्य कविताएँ’ के लिए दिया जा रहा है। ये कविता संग्रह काव्यांश प्रकाशन ऋषिकेश द्वारा प्रकाशित किया गया है। तीन दशक की इन कविताओं में आत्मा की बेचैनियां और प्रेम की उधेड़बुन है, गिरना उठना और फ़जीहतें हैं। अपने वक़्त की और आने वाले वक़्तों की मुश्किलों और दुरुहताओं में अपना एक दूर तक जाता और उतना ही भीतर तक पहुँचता रास्ता खोजने की कोशिश भी इनमें है। वहाँ जितनी रोशनियाँ हैं उनसे कम अँधेरा नहीं है। शिल्पगत तनावों वाली ये कविताएँ अपनी सादगी और ईमानदारी में और अपनी मौजदूगी के लिए बहुत कम जगह घेरती हुई भी कुछ निशान छोड़ जाती हैं।

इनका मूल स्वर हेजेमनी के वायुमंडल का प्रतिरोध है और एक दुर्लभ गुण इन्हें परस्पर जोड़े रखता है और वो गुण है इंतज़ार का। उनकी कविताएँ संवेदनशील अभिव्यक्ति होने के साथ समकाल के संदर्भों से संपृक्त अपने सरोकारों का पूरी जिम्मेदारी से निर्वाह करती हैं और समकाल की आलोचनात्मक व्याख्या करते हुए बेहतर भविष्य की सम्भावनाओं को इंगित करती है।

उक्त बैठक में मुख्य रूप से रजत कृष्ण,भास्कर चैधरी,रोहित कौशिक,रमेश प्रजापति एवं परमेन्द्र सिंह उपस्थित रहे।



© 2016 All Rights Reserved.
Follow US On: