शुक्रवार, 7 अगस्त 2020 | 02:40 IST
समर्थन और विरोध केवल विचारों का होना चाहिये किसी व्यक्ति का नहीं!!
पीएम मोदी ने रखी राम मंदिर की नींव, देश भर में घर-घर दीप प्रज्ज्वलित कर मनाई जा रही है खुशियां          उत्तराखंड में भूमि पर महिलाओं को भी मिलेगा मालिकाना हक          सीएम रावत ने गूगल के सीईओ सुंदर पिचाई को लिखा पत्र,उत्तराखंड में आइटी सेक्टर में निवेश करने का किया अनुरोध           कोरोना के चलते रद्द हुई अमरनाथ यात्रा,अमरनाथ श्राइन बोर्ड ने रद्द करने का किया एलान           कोटद्वार में अतिवृष्टि से सड़क पर आया मलबा, बरसाती नाले में बही कार, चालक की मौत          चारधाम देवस्थानम बोर्ड मामले में उत्तराखंड सरकार को बड़ी राहत,सुब्रह्मण्यम स्वामी की याचिका हाईकोर्ट          प्रधानमंत्री ने वीडियो कांफ्रेंसिंग से की केदारनाथ के निर्माण कार्यों की समीक्षा, कहा धाम के अलौकिक स्वरूप में और भी वृद्धि होगी          बैंकों और बीमा कंपनियों में लावारिस पड़े हैं 32,000 करोड़ से भी ज्यादा पैसे, नहीं है कोई दावेदार         
होम | देश | पीएम मोदी की चीन को दो टूक,विस्तारवाद का युग खत्म

पीएम मोदी की चीन को दो टूक,विस्तारवाद का युग खत्म


प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी शुक्रवार को लद्दाख दौरे पर पहुंचे। जहां उन्होंने जवानों को संबोधित किया। अपने संबोधन के जरिए उन्होंने जहां एक तरफ भारतीय जवानों का उत्साह बढ़ाया वहीं दूसरी तरफ चीन को खूब खरी-खोटी सुनाई। उन्होंने कहा कि भारतीय जवानों ने दुनिया को अपनी बहादुरी का नमूना दिखाया है। लद्दाख में चीनी हरकतों पर तंज सकते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि अब विस्तारवाद का जमाना चला गया है। ये विकासवाद का वक्त है।

आपने और आपके साथियों ने जो बहादुरी दिखाई,  उससे भारत की ताकत के बारे में दुनिया को एक संदेश गया है।

आपका साहस इन ऊंचाइयों से कहीं अधिक है जहां आज आप तैनात हैं।
मैं एक बार फिर गलवां घाटी में शहीद हुए बहादुर सैनिकों को अपनी श्रद्धांजलि अर्पित करता हूं।
आत्मनिर्भर भारत का संकल्प, आपके इस त्याग, बलिदान, पुरुषार्थ के कारण और भी मजबूत होता है।
14 कॉर्प्स की बहादुरी के बारे में हर जगह बात की जाएगी। आपकी बहादुरी और वीरता के किस्से देश के हर घर में गूंज रहे हैं।
भारत माता के दुश्मनों ने आपके अंदर धधक रही आग को और भड़का दिया है।
जो कमजोर हैं वे कभी भी शांति की पहल नहीं कर सकते, बहादुरी शांति के लिए एक पूर्व-आवश्यकता है।
विश्व युद्ध हो या शांति, जब भी आवश्यकता होती है दुनिया ने हमारे बहादुर जवानों की जीत और शांति के प्रति उनके प्रयासों को देखा है। हमने मानवता की भलाई के लिए काम किया है।
विस्तारवाद का युग खत्म हो चुका है। ये युग विकासवाद का है। यही प्रासंगिक है। बीती शताब्दियों में विस्तारवाद ने ही मानवता का सबसे ज्यादा नुकसान किया है। विस्तारवाद की जिद जिस पर सवार होती है, उसने शांति के लिए खतरा पैदा किया है। लेकिन इतिहास गवाह है कि ऐसी ताकतें मिट गई हैं।
हम लोग बांसुरीवाले कृष्ण की पूजा करते हैं और हम ही सुदर्शन चक्र धारी कृष्ण को भी पूजते हैं।
मैं अपने सामने बैठी महिला सैनिकों को देख रहा हूं। सीमा पर युद्ध के मैदान में यह दृश्य प्रेरणादायक है। आज मैं आपके गौरव की बात करता हूं।
हमने सीमा क्षेत्र में बुनियादी ढांचे के विकास पर खर्च को तीन गुना बढ़ा दिया है।
लेह, लद्दाख से लेकर सियाचिन और कारगिल तक और गलवां का बर्फीला पानी... हर पहाड़, हर चोटी भारतीय सैनिकों की वीरता की गवाह है।

 



© 2016 All Rights Reserved.
Follow US On: