रविवार, 7 जून 2020 | 12:23 IST
समर्थन और विरोध केवल विचारों का होना चाहिये किसी व्यक्ति का नहीं!!
होम | क्राइम | काशीपुर में उत्तराखंड की बेटी पिंकी रावत की हत्या के विरोध में लोग आक्रोशित

काशीपुर में उत्तराखंड की बेटी पिंकी रावत की हत्या के विरोध में लोग आक्रोशित


शुक्रवार को काशीपुर में दिनदहाड़े जिला पौड़ी तहसील धुमाकोट के ग्राम दिगौलीखाल निवासी पिंकी रावत की हत्या के बाद लोग गुस्से में है। 24 घंटे बीत जाने के बाद भी कातिलों की गिरफ्तारी ना होने के कारण काशीपुर के लोगों का शनिवार को गुस्सा फूटा। जिसके बाद पिंकी रावत हत्याकांड के खुलासे की मांग को लेकर पर्वतीय समाज के लोगों ने नेशनल हाईवे पर जाम लगा दिया। इस दौरान आक्रोशित लोगों की पुलिस से तीखी नोंक-झोंक भी हुई।

लोगों को आक्रोशित देखकर पुलिस-प्रशासन के हाथ पांव फूल गए। जिसके बाद पुलिस-प्रशासन द्वारा हत्याकांड के खुलासे का 48 घंटे का समय देने पर लोगों ने जाम खोला।

आपको बता दें कि गिरीताल स्थित भूमिका इंटरप्राइजेज मोबाइल शोरूम पर पिंकी रावत (22)  सेल्सगर्ल का काम करती थी। बीते शुक्रवार की सुबह लगभग साढ़े ग्यारह बजे उसकी शोरूम में हत्या कर बदमाश शोरूम से लगभग 11 मोबाइल चोरी कर ले गए थे। सूचना पर पहुंची पुलिस ने शव कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम को भेज दिया था। लेकिन अभी तक इस मामले में किसी अपराधी की गिरफ्तारी नहीं हुई है।

जिसके बाद शनिवार को हत्याकांड खुलासे की मांग को लेकर पर्वतीय समाज के लोगों ने नेशनल हाईवे चीमा चौराहा पर लगभग 11.20 बजे जाम लगा दिया। जाम की सूचना मिलने पर सीओ मनोज ठाकुर, कोतवाल चंद्र मोहन सिंह रावत भारी पुलिस फोर्स के साथ मौके पर पहुंचे। जहां लोगों की हत्याकांड खुलासे को लेकर पुलिस अधिकारियों से तीखी नोंक-झोंक हुई। वहीं आक्रोशित लोगों ने इस दौरान पुलिस, विधायक व मेयर के खिलाफ जमकर नारेबाजी कर हत्यारों को फांसी देने की मांग की।

 

सूचना मिलने पर मौके पर पहुंचे प्रभारी एसडीएम सुंदर लाल ने पर्वतीय समाज के लोगों से बात कर 48 घंटे में घटना के खुलासा का समय दिया। जिस पर लोग शांत हुए और लगभग 12.15 बजे जाम खोल दिया। जाम से नेशनल हाइवे के दोनों ओर वाहनों की लंबी कतार लग गई। वहीं इससे पहले विधायक हरभजन सिंह चीमा पोस्टमार्टम हाउस पहुंचे जहां आक्रोशित लोगों ने उनका जमकर विरोध कर उनके खिलाफ जमकर नारेबाजी की। लोगों का कहना था एक लड़की की दिनदहाड़े हत्या हो गई और विधायक व मेयर दूसरे दिन आ रहे हैं। तब मेयर ऊषा चौधरी ने कहा वह घटना के बाद मौके पर गई थीं और काफी समय तक वहां रही थीं। उनकी संवेदना पीड़ित परिवार के साथ है।

दूसरी तरफ बताया जा रहा हैं कि पिंकी रावत की हत्या का राज उसके मोबाइल सेट में छिपे होने की संभावना है। पुलिस ने घटनास्थल से पिंकी का मोबाइल कब्जे में ले लिया है। उसके मोबाइल में पासवर्ड लगा हुआ था। आईटीआई थाना प्रभारी कुलदीप सिंह अधिकारी ने साइबर सेल के एक कर्मी की मदद से उक्त मोबाइल को डिकोड किया। पुलिस मृतक के मोबाइल की सीडीआर निकलवाकर जांच में जुटी है। मोबाइल डाटा के आधार पर पुलिस को कुछ सुराग लगने की संभावना जताई जा रही है।



© 2016 All Rights Reserved.
Follow US On: