बृहस्पतिवार, 17 अक्टूबर 2019 | 06:11 IST
समर्थन और विरोध केवल विचारों का होना चाहिये किसी व्यक्ति का नहीं!!
पीओके से आए 5300 कश्मीरियों के लिए मोदी सरकार का बड़ा ऐलान, मिलेंगे साढ़े पांच लाख रुपये          कांग्रेस पार्टी का बड़ा एलान, जम्मू-कश्मीर में नहीं लड़ेंगे BDS चुनाव          केंद्र सरकार ने 48 लाख कर्मचारियों को दिवाली से पहले दिया बड़ा तोहफा, 5 फीसदी बढ़ाया महंगाई भत्ता           देश के सबसे बड़ा सरकारी बैंक भारतीय स्टेट बैंक पब्लिक प्रॉविडेंट फंड पर सेविंग अकाउंट की तुलना में दे रहा है डबल ब्याज           भारतीय सेना एलओसी पार करने से हिचकेगी नहीं,पाकिस्तान को आर्मी चीफ बिपिन रावत की चेतावनी          पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने कबूल किया कि उनका देश कश्मीर मुद्दे का अंतरराष्ट्रीयकरण करने की कोशिशों में नाकाम रहा          संयुक्‍त राष्‍ट्र ने भी माना,जलवायु परिवर्तन से निपटने में अहम है भारत की भूमिका          महाराष्ट्र, हरियाणा में 21 अक्टूबर को होगा विधानसभा चुनाव, 24 को आएंगे नतीजे          बैंकों और बीमा कंपनियों में लावारिस पड़े हैं 32,000 करोड़ से भी ज्यादा पैसे, नहीं है कोई दावेदार         
होम | साहित्य | चित्रकार, साहित्यकार एवं कार्टूनिस्ट: बी. मोहन नेगी

चित्रकार, साहित्यकार एवं कार्टूनिस्ट: बी. मोहन नेगी


देश व विदेश में साहित्यकारों, कवियों, लेखकों एवं फिल्मकारों के साथ-साथ उत्तराखण्ड की संस्कृति और साहित्य की भी चर्चाएं पूरे विश्व में मान्य है। भारत के सुप्रसिद्ध साहित्यकार रविन्द्रनाथ टैगोर, सुमित्रानन्दन पंत, महादेवी वर्मा जैसे सैकड़ों साहित्यकारों ने देवभूमि में शान्त एवं प्राकृतिक सौन्दर्यता का कहानियों में बखान किया वह अद्विताय, बेजोड एवं बेमिसाल है। 

उत्तराखंड के प्रख्यात रंगकर्मी, चित्रकार, साहित्यकार एवं कार्टूनिस्ट बी.मोहन नेगी, जो कि अपनी लघु कविताएं से लोगों के भावों को मनमोहित करते, वही दूसरी ओर चित्र, रेखाचित्र, कविता पोस्टर व कार्टून बनाकर तत्कालीन व मौजूदा हालात की तस्वीर समाज के सामने रखते।

उत्तराखंड के बी.मोहन नैगी का एक परिचय, प्रतिभा के धनी इस साहित्यकार का जन्म 26 अगस्त, 1952 में देहरादून में हुआ। इनके माता-पिता जमुना देवी और भवानी सिंह नेगी ने इनका नाम बिरेन्द्र मोहन रखा। जोकि आज बी. मोहन नेगी के नाम से जाना जाता है। परिवार में दो भाई और एक बहन के साथ रहते ये साहित्यकार सिर्फ 12 वीं तक पढ़ाई कर पाये। जिन्दगी के सिमटते पलों में पिता का ध्यांत हो जाने के बाद। वे परिवार की जिम्मेदारी अपने कंधों पर ले ली। फिर उन्होंने प्रिंटिंग प्रेस में काम करना शुरू कर दिया। बचपन की खुबीयाँ और प्रतिभाएँ तगातार जोर देती रही। अपने मन को झनझोर कर रख दिया। पेंटिंग, स्केच, कविताओं के साथ-साथ साहित्य के भी शौकिन हो गये। धीरे-धीरे समय बदलने लगा। बाद में 1971 में भारतीय डाक विभाग में नौकरी लग गई। डाक घर में चिट्टी, पत्री का काम करते-करते। उनका विश्वास बढ़ता गया और कविताओं की पंक्तियों के पोस्टर बनाते गये।   

उत्तराखंड की संस्कृति से जुड़े होने के नाते वे रामलीला जैसे रंगमंच में भी अपनी कलाकृति को सजाते रहे। कभी समाज में तो, कभी देश में अपनी खुबियों से लुभाया रहे। 

उत्तराखंड के पौड़ी जिले में उनके आवासिए स्थान पर उनके द्वारा बनाए गये चित्र, कविताओं के पोस्टर और कार्टून नेगी की जीवन शैली को आज भी बयां कर रहे हैं। डुबी संस्कृति और आपदाओं से विलुप्त हुए पलों को पोस्टरों के जरीये कला-संस्कृति एवं लोक साहित्य से जोड़ा है।

बी.मोहन नेगी जी ने अपने जीवन में गढ़वाली, कुमाऊंनी, जौनसारी, रंवाल्टी, नेपाली, पंजाबी, हिंदी व अंग्रेजी भाषा के लगभग 700 कविता पोस्टर बनाए। उनके चित्र शैली में नेगी ने पर्वतीय जीवन की संजीदगी से भरे हुए दिखाया हैं।

बी. मोहन नेगी जी का वाक्य “कोई भी चीज़ कबाड़ नहीं होती, कबाड़ में जुगाड़ छिपा होता है।”



© 2016 All Rights Reserved.
Follow US On: