सोमवार, 24 फ़रवरी 2020 | 07:02 IST
समर्थन और विरोध केवल विचारों का होना चाहिये किसी व्यक्ति का नहीं!!
भारत बना रहा है नेवी के लिए नई हाईटेक क्रूज मिसाइल, जद में होगा पाकिस्‍तान          भारतीयों के स्विस खातों, काले धन के बारे में जानकारी देने से वित्त मंत्रालय ने किया इंकार          पीएम की कांग्रेस को खुली चुनौती,अगर साहस है तो ऐलान करें,पाकिस्तान के सभी नागरिकों को देंगे नागरिकता          नागरिकता संशोधन कानून पर जारी विरोध के बीच पीएम मोदी ने लोगों से बांटने वालों से दूर रहने की अपील की है          भारतीय संसद का ऐतिहासिक फैसला,सांसदों ने सर्वसम्मति से लिया फैसला,कैंटीन में मिलने वाली खाद्य सब्सिडी को छोड़ देंगे           60 साल की उम्र में सेवानिवृत्त करने पर फिलहाल सरकार का कोई विचार नहीं- जितेंद्र सिंह          मोदी सरकार का बड़ा फैसला, दिल्ली की अवैध कॉलोनियां होगी नियमित          पीओके से आए 5300 कश्मीरियों के लिए मोदी सरकार का बड़ा ऐलान, मिलेंगे साढ़े पांच लाख रुपये          पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने कबूल किया कि उनका देश कश्मीर मुद्दे का अंतरराष्ट्रीयकरण करने की कोशिशों में नाकाम रहा          संयुक्‍त राष्‍ट्र ने भी माना,जलवायु परिवर्तन से निपटने में अहम है भारत की भूमिका          बैंकों और बीमा कंपनियों में लावारिस पड़े हैं 32,000 करोड़ से भी ज्यादा पैसे, नहीं है कोई दावेदार         
होम | सेहत | उत्तराखंड से कुपोषण को समाप्त करने के लिए सम्बन्धित विभाग समन्वय कार्य करें

उत्तराखंड से कुपोषण को समाप्त करने के लिए सम्बन्धित विभाग समन्वय कार्य करें


उत्तराखंड से कुपोषण को समाप्त करने के लिए सम्बन्धित विभाग समन्वय कार्य करें

 

अपर मुख्य सचिव श्रीमती राधा रतूड़ी ने कुपोषण को समाप्त करने के लिए प्रदेश में संचालित पोषण अभियान को सफल बनाने के लिए सचिवालय स्थित मुख्य सचिव सभाकक्ष में आयोजित बैठक में सभी सम्बन्धित विभागों को समन्वय से कार्य करने को कहा है। उन्होंने कहा कि सितम्बर माह को पोषण माह के रूप में मनाया जा रहा है। अतः इसके लिये भी अभियान से जुड़े सभी विभाग समन्वय से कार्य करें, ताकि इस अभियान को सफल बनाया जा सके। उन्होंने इसके लिये शहरों की मलिन बस्तियों में विशेष रूप से सघनता से कार्य करने को कहा। उन्होंने कहा कि समेकित प्रयासो से ही इस समस्या का समाधान हो सकेगा। हमारा प्रयास होना चाहिए कि उत्तराखण्ड इस अभियान में देश में अग्रणी रहे। 
उन्होंने कहा कि पोषण माह के दौरान निर्धारित 5 सूत्रीय कार्यक्रम के तहत एक हजार दिनों का कार्यक्रम तय किया गया है जिसमें एनीमिया, डायरिया, हैण्डवास एवं स्वच्छता व पौष्टिक आहार के विषय में विस्तृत रूप से समन्वय से इसका कार्यान्वयन सुनिश्चित किया जाय। 
उन्होंने सभी विभागों को इससे सम्बन्धित कार्यों का आवंटन करते हुए निर्देश दिये कि स्वास्थ्य विभाग द्वारा एनीमिया, अतिकुपोषित बच्चों की जानकारी व टीकाकरण का कार्य किया जाय। पेयजल व स्वच्छता विभाग स्कूलों व आंगनबाडी केन्द्रो में स्वच्छ जल की उपलब्धता तथा स्वच्छता की जानकारी, शिक्षा विभाग द्वारा किशोरी बालिकाओं के लिये जागरूकता अभियान संचालित किया जाय, इसमें चिकित्सा विभाग का भी सहयोग लिया जाय। कृषि विभाग द्वारा फसल कटाई के समय आंगनबाड़ी केन्द्रो के बच्चों के लिये एक-एक मुट्ठी अनाज देने के लिए काश्तकारों से समन्वय कर इसकी व्यवस्था की जाए, जबकि युवा कल्याण विभाग द्वारा नेहरू युवा केन्द्र, एन.एस.एस के सहयोग से जन जागरूकता रैली के आयोजन किये जाने के साथ ही सूचना विभाग द्वारा इस सम्बन्ध में मीडिया से समन्वय व विभिन्न संचार तकनीकि के माध्यम से व्यापक प्रचार प्रसार करने के निर्देश उन्होंने सूचना विभाग के संयुक्त निदेशक, श्री राजेश कुमार को दिये। 
बैठक में निदेशक महिला कल्याण एवं बाल विकास सुश्री झरना कमठान द्वारा कार्यक्रम की कार्यवाही व प्रगति की जानकारी दी गई। 
इस अवसर पर उपनिदेशक, राष्ट्रीय पोषण मिशन श्रीमती सुजाता सहित शिक्षा, विद्युत, नियोजन, कृषि व स्वास्थ्य विभाग के अधिकारी उपस्थित थे। 



© 2016 All Rights Reserved.
Follow US On: