सोमवार, 22 जुलाई 2019 | 09:52 IST
समर्थन और विरोध केवल विचारों का होना चाहिये किसी व्यक्ति का नहीं!!
चांद पर चला चंद्रयान-2, ISRO ने फिर रच दिया इतिहास,देशभर में खुशी की लहर          81 साल की उम्र में शीला दीक्षित का निघन          शीला दीक्षित 15 साल तक दिल्ली की मुख्यमंत्री रहीं थी          दिल्ली की सबसे लोकप्रिय मुख्यमंत्री शीला दीक्षित का दिल्ली में निधन          इसरो ने किया ऐलान, अब 22 जुलाई को लॉन्च होगा चंद्रयान-2          कुलभूषण जाधव मामले पर पीएम मोदी ने जताई खुशी कहा- ये सच्चाई और न्याय की जीत है          भारतीय वायुसेना के लिए गेम चेंजर साबित होगी राफेल-सुखोई की जोड़ी,एयर मार्शल भदौरिया          कुलभूषण जाधव केस, ICJ में भारत की बड़ी जीत, फांसी की सजा पर रोक, पाकिस्तान को सजा की समीक्षा का आदेश          गृह मंत्री अमित शाह का बड़ा बयान, कहा- सभी घुसपैठियों और अवैध प्रवासियों को करेंगे देश से बाहर          पीएम नरेंद्र मोदी सितंबर में अमेरिका जाएंगे, जहां भारतीय समुदाय के लोगों से उनकी मुलाकात हो सकती है। इस दौरान दुनिया के कई अन्‍य देशों के नेताओं से भी मुलाकात की संभावना है          भाजपा को 2016-18 के बीच 900 करोड़ रू से ज्यादा चंदा मिला, एडीआर की रिपोर्ट में आया सामने          बैंकों और बीमा कंपनियों में लावारिस पड़े हैं 32,000 करोड़ से भी ज्यादा पैसे, नहीं है कोई दावेदार          बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री और राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) प्रमुख लालू प्रसाद यादव के बेटे तेज प्रताप यादव ने किया तेज सेना का गठन           भ्रष्ट अफसरों को जबरन वीआरएस दिया जाए, ऐसे लोग नहीं चाहिए-योगी आदित्यनाथ         
होम | दुनिया | अजीत डोभाल अगले 5 साल एनएसए बने रहेंगे, कैबिनेट मंत्री का भी दर्जा मिला

अजीत डोभाल अगले 5 साल एनएसए बने रहेंगे, कैबिनेट मंत्री का भी दर्जा मिला


एनडीए की पिछली सरकार में राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार (NSA) रहे अजित डोभाल पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने फिर भरोसा जताया है...सरकार ने डोभाल को अगले 5 सालों के लिए NSA नियुक्त कर किया। इसी के साथ  अजित डोभाल का प्रमोशन भी किया गया है। उनके राष्ट्रीय सुरक्षा में योगदान को देखते हुए डोभाल को कैबिनेट मंत्री का दर्जा भी दिया गया है। यह हम सब उत्तराखंडियों के लिए सम्मान की बात है कि हमारे पहाड़ का सम्मान अजित डोभाल जी के सम्मान के साथ पूरी दुनिया में बढ़ रहा है।

 

अजित डोभाल जी का जन्म 20 जनवरी 1945 में उत्तराखंड के पौड़ी गढ़वाल की बानेलस्यू पट्टी के घीड़ी गांव में हुआ। उन्होंने अपनी प्रारम्भिक शिक्षा अजमेर के मिलिट्री स्कूल से पूरी की, इसके बाद उन्होंने आगरा विश्व विद्यालय से अर्थशास्त्र में एमए किया और पोस्ट ग्रेजुएशन करने के बाद वे आईपीएस की तैयारी में लग गए। कड़ी मेहनत के बल पर वे केरल कैडर से 1968 में आईपीएस के लिए चुन लिए गए और चार साल बाद सन् 1972 में इंटेलीजेंस ब्यूरो से जुड़ गए थे...अजीत डोभाल ने करियर में ज्यादातर समय खुफिया विभाग में ही काम किया है...कहा जाता है कि वह सात साल तक पाकिस्तान में खुफिया जासूस रहे। उनकी उपलब्धियों की बाद करें तो...1989 में अजीत डोभाल ने अमृतसर के स्वर्ण मंदिर से चरमपंथियों को निकालने के लिए 'ऑपरेशन ब्लैक थंडर' का नेतृत्व किया था। वह मिजोरम और पंजाब में उग्रवाद विरोधी अभियानों में भी सक्रिय रूप से शामिल थे। डोभाल उन तीन वार्ताकारों में भी प्रमुख थे जिन्होंने 1999 में कंधार में आईसी-814 से यात्रियों की रिहाई के लिए बातचीत की थी।

30 मई, 2014 को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अजीत डोभाल को देश के 5वें राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार के रूप में नियुक्त किया। जिसके बाद अजित डोभाल के नेतृत्व में 29 सितंबर, 2016 को पाक अधिकृत कश्मीर (PoK) में सर्जिकल स्ट्राइक और इसी साल 26 फरवरी को पाकिस्तान के बालाकोट में एयर स्ट्राइक की गई। लोक सभा चुनाव में बीजेपी के प्रंचड जीते में बालाकोट में हुई एयर स्ट्राइक ने अहम भूमिका निभाई...जिसका श्रेय सीधे तौर पर एनएसए अजित डोभाल का जाता है.... अजित डोभाल पहले पुलिस अधिकारी हैं जिन्हें 1988 में कीर्ति चक्र से सम्मानित किया गया।

प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी दवारा उत्तराखंड के गौरव अजित डोभाल जी के एक बार फिर राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार (NSA बनाने और कैबिनेट मंत्री का दर्जा देने के मौके पर पूरे उत्तराखंड में खुशी की लहर है।


 



© 2016 All Rights Reserved.
Follow US On: