सोमवार, 23 सितंबर 2019 | 09:20 IST
समर्थन और विरोध केवल विचारों का होना चाहिये किसी व्यक्ति का नहीं!!
सेंसेक्स के इतिहास में अब तक की सबसे बड़ी तेजी, 1 दिन में ही निवेशकों को 7 लाख करोड़ रुपए का फायदा          इंतजार खत्म- वायुसेना को मिला पहला राफेल फाइटर जेट, दिया गया नए वायुसेना प्रमुख का नाम          जीएसटी काउंसिल की बैठक: ऑटो सेक्टर को नहीं मिली राहत, होटल कमरों पर कम हुई टैक्स दर          संयुक्‍त राष्‍ट्र ने भी माना,जलवायु परिवर्तन से निपटने में अहम है भारत की भूमिका          मौत का एक्सप्रेस वे बना यमुना एक्सप्रेस वे, इस साल हादसों में गई 154 लोगों की जान          महाराष्ट्र, हरियाणा में 21 अक्टूबर को होगा विधानसभा चुनाव, 24 को आएंगे नतीजे          बैंकों और बीमा कंपनियों में लावारिस पड़े हैं 32,000 करोड़ से भी ज्यादा पैसे, नहीं है कोई दावेदार         
होम | उत्तराखंड | पाठ्यक्रम में शामिल होगी ,एक पेड़ एक छात्र की मुहिम- रमेश पोखरियाल ‘निशंक’

पाठ्यक्रम में शामिल होगी ,एक पेड़ एक छात्र की मुहिम- रमेश पोखरियाल ‘निशंक’


देश में 33 साल बाद आ रही नई शिक्षा नीति में पर्यावरण और जल संरक्षण को तवज्जो मिलेगी। 'एक पेड़ एक छात्र' की मुहिम को पाठ्यक्रम में शामिल करने की कोशिश की जाएगी। इसके साथ ही 'ग्रेस मार्क्स' की जगह 'ग्रीन मार्क्स' को भी नीति में शामिल किया जाएगा। 

केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक ने सोमवार को देहरादून में हिमालय दिवस पर आयोजित मुख्य कार्यक्रम में ये बातें कहीं। उन्होंने कहा कि जिस दिन नई नीति लागू होगी, उस दिन शिक्षा में नए आयाम जुड़ेंगे। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नए भारत के निर्माण में शिक्षा नीति आधार स्तंभ के रूप में होगी।

केंद्रीय मंत्री ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की पर्यावरण और जल संरक्षण की चिंता को देखते हुए 'एक पेड़ एक छात्र' मुहिम शुरू की गई। अब तक एक करोड़ विद्यार्थी अपने जन्मदिन पर पेड़ लगा चुके हैं। उन्होंने कहा कि देश में 40 हजार से अधिक डिग्री कॉलेज, 900 से ज्यादा विश्वविद्यालय, 15 लाख स्कूल, 90 लाख शिक्षक और 30 करोड़ छात्र-छात्राएं हैं। यदि 30 करोड़ विद्यार्थी तय कर लें कि वे अपने जन्मदिन पर एक पेड़ लगाकर उससे भावनात्मक रूप से जुड़ेंगे तो उस दिन तस्वीर बदलते देर नहीं लगेगी। इस सबको देखते हुए 'एक पेड़ एक छात्र' कार्यक्रम को पाठ्यक्रम से जोड़ने की कोशिश की जाएगी। 

नई शिक्षा नीति का जिक्र करते हुए उन्होंने कहा कि इसमें नवाचार के साथ अनुसंधान को तवज्जो दी जा रही है। पर्यावरण संरक्षण के मद्देनजर ग्रेस की जगह ग्रीन मार्क्स को भी नीति में शामिल किया जाएगा। उन्होंने कहा कि अभी यह मसौदा है। जिस दिन नई शिक्षा नीति लागू होगी, उस दिन यह नए आयाम जोड़ेगी।



© 2016 All Rights Reserved.
Follow US On: