सोमवार, 21 सितंबर 2020 | 03:24 IST
समर्थन और विरोध केवल विचारों का होना चाहिये किसी व्यक्ति का नहीं!!
कोरोना के बीच 19 सिंतबर से IPL का आगाज, मुंबई और चेन्नई के बीच होगा उद्घाटन मुकाबला          पॉलिसी उल्लंघन के कारण गूगल ने पेटीएम को हटाया,पेटीएम ने कहा,पैसे हैं सुरक्षित          प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश के किसानों को आश्वस्त किया कि लोकसभा से पारित कृषि सुधार संबंधी विधेयक उनके लिए रक्षा कवच का काम करेंगे           उत्तराखंड में भूमि पर महिलाओं को भी मिलेगा मालिकाना हक          सीएम रावत ने गूगल के सीईओ सुंदर पिचाई को लिखा पत्र,उत्तराखंड में आइटी सेक्टर में निवेश करने का किया अनुरोध           कोरोना के चलते रद्द हुई अमरनाथ यात्रा,अमरनाथ श्राइन बोर्ड ने रद्द करने का किया एलान           बैंकों और बीमा कंपनियों में लावारिस पड़े हैं 32,000 करोड़ से भी ज्यादा पैसे, नहीं है कोई दावेदार         
होम | क्राइम | निर्भया के रेपिस्ट का किसने किया रेप?

निर्भया के रेपिस्ट का किसने किया रेप?


निर्भया गैंगरेप के दरिंदो को यूं तो दो बार फांसी की सजा सुनाई जा चुकी है। 22 जनवरी की फांसी की तारीख तो उन्होंने कानूनी दांव पेंच लगाकर टलवा ली थी। लेकिन एक बार फिर से वो एक फरवरी को होने वाली फांसी को भी टलवाने के जुगाड़ में लगे हुए हैं। तभी तो दरिंदों के वकीलों की तरफ से अजीबों-गरीब बयान बाजी के साथ–साथ अजीब तरह से आरोप भी लागये जा रहे हैं। ऐसा ही एक गभीर आरोप निर्भया के दरिंदे मुकेश ने भी लगाया।  मुकेश की ओर से सुप्रीम कोर्ट में दलील रख रही वकील अंजना प्रकाश ने कहा कि मुकेश का जेल में यौन उत्पीड़न हुआ था. उस समय जेल अधिकारी वहां मौजूद थे, लेकिन उन्होंने मदद नहीं की। वकील अंजना प्रकाश की ओर से सुप्रीम कोर्ट में बहस के दौरान कहा गया कि मुकेश को उस समय हॉस्पिटल नहीं ले जाया गया। बाद में उसे दीन दयाल उपाध्याय हॉस्पिटल ले जाया गया। मुकेश की वकील ने आगे कहा वो मेडिकल रिपोर्ट कहां है? फिलहाल इस मामले में कोर्ट कल अपना फैसला सुना सकता है। इसके साथ ही मुकेश की ओर से उनकी वकील ने कहा कि उसके भाई राम सिंह को मार दिया गया। जेल ऑफिसर कह रहे हैं कि उसने फांसी लगा ली थी, जबकि उसकी एक हाथ खराब था। वह एक हाथ से 94 फीसदी लाचार था. वो फांसी लगाकर खुदकुशी कैसे कर सकता है। जिस तरह से रेपिस्टों के वकीलों की तरफ से अजीब बयानबाजी की जा रही है। उससे एक चीज साफ हैवो सिर्फ फांसी से बचने के लिये इस तरह की दलीले देकर बचना चाहते हैं। शायद वो एक फरवरी को अपनी फांसी रोकवाने में कामयाब हो जाएंगे। लेकिन उन्हें फांसी से कोई नहीं रोक सकता है।



© 2016 All Rights Reserved.
Follow US On: