सोमवार, 8 अगस्त 2022 | 07:10 IST
समर्थन और विरोध केवल विचारों का होना चाहिये किसी व्यक्ति का नहीं!!
प. बंगाल: अर्पिता मुखर्जी के फ्लैट से 28.90 करोड़ रुपये और 5 किलो से ज्यादा सोना बरामद          उत्तराखंड में कोरोना के 334 नए मामले, 2 लोगों की मौत          1 से 4 अगस्त तक भारत दौरे पर रहेंगे मालदीव के राष्ट्रपति इब्राहिम सोलिह          बंगाल शिक्षा घोटाला: पार्थ चटर्जी को मंत्री पद से हटाया गया           संसद में स्मृति ईरानी और सोनिया गांधी के बीच नोकझोंक           गुजरात: जहरीली शराब कांड में एक्शन, SP का तबादला, 2 डिप्टी SP सस्पेंड           दिल्ली में फर्जी कॉल सेंटर का भंडाफोड़, 3 गिरफ्तार          पार्थ चटर्जी के घर में चोरी, लोग समझे ED का छापा पड़ा है          कर्नाटक में प्रवीण हत्याकांड में पुलिस ने अब तक 21 लोगों की हिरासत में लिया         
होम | साहित्य | उत्तराखंड का ये नौला बना राष्ट्रीय धरोहर

उत्तराखंड का ये नौला बना राष्ट्रीय धरोहर


उत्तराखण्ड के अल्मोड़ा में स्यूनराकोट के प्राचीन नौले को राष्ट्रीय महत्व का प्राचीन स्मारक घोषित करने का फैसला किया गया है। भारत सरकार ने इसके लिए गैजेट जारी कर दिया है। 14वीं शताब्दी में बनाया गया ये नौला कुमाऊं की प्राचीन स्थापत्य कला और जल संस्कृति का अनुपम उदाहरण है।

 

 

ये नौला कत्यूरकालीन सभ्यता एवं संस्कृति का गवाह माना जाता है। स्यूनराकोट की तलहटी पर बने मंदिरनुमा इस प्राचीन नौले को राष्ट्रीय धरोहर घोषित किए जाने से अगली पीढ़ियों को अपनी संस्कृति को समझने में आसानी होगी। 14वीं सदी में निर्मित प्राचीन नौले में भगवान विष्णु के सभी दस अवतारों को दुर्लभ स्थापत्यकला के जरिये अलंकृत किया गया है। यह कुमाऊं की चुनिंदा अद्भुत एवं उत्तम स्थापत्यकला का उदाहरण भी है। साथ ही जल विज्ञान एवं संरक्षण की मिसाल भी।

 

महत्व के 21 पुरातात्विक स्थलों व स्मारकों का चयन किया है। इनमें अल्मोड़ा जनपद की बिनसर घाटी में कत्यूरकालीन स्यूनराकोट का ये ऐतिहासिक नौला भी शामिल है।



© 2016 All Rights Reserved.
Follow US On: