शुक्रवार, 7 अगस्त 2020 | 03:04 IST
समर्थन और विरोध केवल विचारों का होना चाहिये किसी व्यक्ति का नहीं!!
पीएम मोदी ने रखी राम मंदिर की नींव, देश भर में घर-घर दीप प्रज्ज्वलित कर मनाई जा रही है खुशियां          उत्तराखंड में भूमि पर महिलाओं को भी मिलेगा मालिकाना हक          सीएम रावत ने गूगल के सीईओ सुंदर पिचाई को लिखा पत्र,उत्तराखंड में आइटी सेक्टर में निवेश करने का किया अनुरोध           कोरोना के चलते रद्द हुई अमरनाथ यात्रा,अमरनाथ श्राइन बोर्ड ने रद्द करने का किया एलान           कोटद्वार में अतिवृष्टि से सड़क पर आया मलबा, बरसाती नाले में बही कार, चालक की मौत          चारधाम देवस्थानम बोर्ड मामले में उत्तराखंड सरकार को बड़ी राहत,सुब्रह्मण्यम स्वामी की याचिका हाईकोर्ट          प्रधानमंत्री ने वीडियो कांफ्रेंसिंग से की केदारनाथ के निर्माण कार्यों की समीक्षा, कहा धाम के अलौकिक स्वरूप में और भी वृद्धि होगी          बैंकों और बीमा कंपनियों में लावारिस पड़े हैं 32,000 करोड़ से भी ज्यादा पैसे, नहीं है कोई दावेदार         
होम | देश | पीएम मोदी ने मन की बात में बिहार के शहीद को किया याद

पीएम मोदी ने मन की बात में बिहार के शहीद को किया याद


पीएम नरेंद्र मोदी ने रविवार को मन की बात में बिहार के शहीद कुंदन को याद किया। उन्‍होंने कहा कि शहीद कुंदन के पिता के शब्‍द मेरे कानों मेंं गूंजते हैं। बिहार के सहरसा जिले के रहने वाले शहीद कुंदन के पिता नमिंदर सिंह ने कहा था कि मेरा और बेटा होता तो उसे भी सेना में भेजता। लेकिन मैं अपने पोतों को देश के दुश्‍मनों से लड़ने के लिए सेना में जरूर भेजूंगा। बता दें कि 15 जून को सेना में तैनात कुंदन चीन के बॉर्डर पर शहीद हो गया था। पांच साल के बेटे ने उन्‍हें मुखाग्नि दी थी। गौरतलब है कि कुंदन के दो बेटे हैं, जबकि भाई में वे इकलौते थे। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने मन की बात में रविवार को कहा कि बिहार से शहीद कुंदन कुमार के पिता ने कहा कि वह अपने पोतों को भी देश की रक्षा के लिए सशस्त्र बलों में भेजेंगे। यह हर शहीद के परिवार की आत्मा है। इन परिवारों का बलिदान पूजा के लायक है। प्रधानमंत्री मोदी की ओर से मन की बात में कुंदन को याद किये जाने को बिहार की जनता काफी प्रशंसा कर रही है। गौरतलब है कि गलवन घाटी में शहीद हुए सहरसा जिले के आरण गांव के जवान कुंदन कुमार को शहीद के बड़े पुत्र रोशन कुमार (05) से मुखाग्नि दी थी। शहीद के पांच साल के मासूम पुत्र रोशन को यह अहसास ही नहीं था कि उसके पिता अब कभी उठकर उसे नहीं दुलारेंगे। मुखाग्नि की रस्म अदा करते वक्त वह फूट-फूट कर रो पड़ा था, चिल्लाने लगा पापा को आग मत लगाओ, जल जाएंगे...। वहीं खड़ा उसका चार साल का छोटा भाई राणा भी सुबक रहा था। यह दृश्य देख वहां मौजूद लोगों का कलेजा फटा जा रहा था।

© 2016 All Rights Reserved.
Follow US On: