बृहस्पतिवार, 17 अक्टूबर 2019 | 01:42 IST
समर्थन और विरोध केवल विचारों का होना चाहिये किसी व्यक्ति का नहीं!!
पीओके से आए 5300 कश्मीरियों के लिए मोदी सरकार का बड़ा ऐलान, मिलेंगे साढ़े पांच लाख रुपये          कांग्रेस पार्टी का बड़ा एलान, जम्मू-कश्मीर में नहीं लड़ेंगे BDS चुनाव          केंद्र सरकार ने 48 लाख कर्मचारियों को दिवाली से पहले दिया बड़ा तोहफा, 5 फीसदी बढ़ाया महंगाई भत्ता           देश के सबसे बड़ा सरकारी बैंक भारतीय स्टेट बैंक पब्लिक प्रॉविडेंट फंड पर सेविंग अकाउंट की तुलना में दे रहा है डबल ब्याज           भारतीय सेना एलओसी पार करने से हिचकेगी नहीं,पाकिस्तान को आर्मी चीफ बिपिन रावत की चेतावनी          पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने कबूल किया कि उनका देश कश्मीर मुद्दे का अंतरराष्ट्रीयकरण करने की कोशिशों में नाकाम रहा          संयुक्‍त राष्‍ट्र ने भी माना,जलवायु परिवर्तन से निपटने में अहम है भारत की भूमिका          महाराष्ट्र, हरियाणा में 21 अक्टूबर को होगा विधानसभा चुनाव, 24 को आएंगे नतीजे          बैंकों और बीमा कंपनियों में लावारिस पड़े हैं 32,000 करोड़ से भी ज्यादा पैसे, नहीं है कोई दावेदार         
होम | उत्तराखंड | उत्तराखंड के नगर निकायों के उपचुनाव में कांग्रेस ने लगायी,भाजपा के मजबूत किले में सेंध

उत्तराखंड के नगर निकायों के उपचुनाव में कांग्रेस ने लगायी,भाजपा के मजबूत किले में सेंध


उत्तराखंड में श्रीनगर और बाजपुर नगर निकायों में मतगणना के बाद श्रीनगर और बाजपुर दोनों ही जगह कमल को पछाड़ पंजे ने पैठ जमा ली है। वहीं दून और ऋषिकेश दोनों ही जगह कमल खिला।  श्रीनगर और बाजपुर नगरपालिका अध्यक्ष पद चुनाव में भाजपा को झटका लगा है। दोनों ही निकायों में अध्यक्ष पद पर कांग्रेस ने कब्जा जमाया। श्रीनगर में पूनम तिवाड़ी और बाजपुर में गुरजीत सिंह गित्ते निर्वाचित हुए। सभासद पदों पर निर्दलीयों का दबदबा रहा।

श्रीनगर नगरपालिका का अध्यक्ष पद इस बार महिला आरक्षित था। भाजपा और कांग्रेस के प्रत्याशियों के साथ ही चार अन्य प्रत्याशी भी यहां मैदान में थे। इनमें से कांग्रेस की पूनम तिवाड़ी ने 4413 मत हासिल कर भाजपा की सरोजनी रावत को 638 मतों से पराजित किया। सरोजनी रावत को 3775 मत मिले। सभासद के 13 पदों में से पांच भाजपा और एक कांग्रेस के खाते में आई, जबकि सात पर निर्दलीयों ने जीत दर्ज की है।

बाजपुर नगरपालिका में अध्यक्ष पद पर कांग्रेस के गुरजीत सिंह गित्ते के सिर जीत का सेहरा बंधा। उन्होंने भाजपा के राजकुमार को 2990 मतों से हराया। राजकुमार को 6035 वोट मिले। इस पद पर पांच प्रत्याशी मैदान में थे। यहां सभासद के 13 पदों में से सात निर्दलीयों के खाते में आए, जबकि तीन-तीन सीटें भाजपा और कांग्रेस की झोली में गईं। दोनों ही निकायों में अध्यक्ष पद पर जीत दर्ज करने से कांग्रेसी उत्साहित हैं। राजनैतिक जानकारों का निकाय चुनाव के नतीजे आने का बाद कहना हैं कि श्रीनगर नगरपालिक और बाजपुर नगरपालिक के नतीजे कांग्रेस के लिए उत्साहित करने वाले हो सकते है। लेकिन बीजेपी के यह हार बहुत गंभीर है। बीजेपी यदि समय रहते इस हार पर  मंथन नहीं करती हैं तो आने वाले समय में विधानसभा चुनाव में उसे इसकी किमत चुकानी पड़ सकती है। इसलिए बीजेपी को इस हार पर गंभीरता से मंचथ करना होगा।  

प्रदेश में पहले विधानसभा चुनाव और फिर लोकसभा चुनाव में बुरी तरह हार चुकी कांग्रेस के लिए यह छोटी जीत बड़ी आस की तरह है। इसी वजह से कांग्रेस ने इस चुनाव में ताकत झोंक दी थी। दोनों ही निकायों में चुनाव प्रचार के लिए प्रदेश के तमाम दिग्गज नेता पहुंचे थे। 

इसके अलावा पार्टी स्थानीय स्तर पर प्रभाव रखने वाले बड़े नेताओं को जनसंपर्क में लगाने की कांग्रेस की रणनीति असरकारक साबित हुई। पार्टी की हालिया रणनीति छोटी-छोटी जीत के जरिये सत्तारूढ़ दल भाजपा के मजबूत किले में सेंध लगाने की है। 

 



© 2016 All Rights Reserved.
Follow US On: