मंगलवार, 16 जुलाई 2019 | 04:03 IST
समर्थन और विरोध केवल विचारों का होना चाहिये किसी व्यक्ति का नहीं!!
दिल्ली-एनसीआर में हुई झमाझम बारिश, गर्मी और उमस से मिली राहत          हिमाचल प्रदेश के सोलन में इमारत गिरने की वजह से अब तक सेना के 6 जवानों सहित सात लोगों की मौत           भारतीय क्रिकेट टीम के अंदर सबकुछ ठीक नहीं चल रहा है मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक टीम दो खेमों में बंट गई है          पीएम नरेंद्र मोदी सितंबर में अमेरिका जाएंगे, जहां भारतीय समुदाय के लोगों से उनकी मुलाकात हो सकती है। इस दौरान दुनिया के कई अन्‍य देशों के नेताओं से भी मुलाकात की संभावना है          अयोध्या केस मध्यस्थता पैनल 18 जुलाई को पेश करे रिपोर्ट, सुप्रीम कोर्ट का निर्देश          भाजपा को 2016-18 के बीच 900 करोड़ रू से ज्यादा चंदा मिला, एडीआर की रिपोर्ट में आया सामने          बैंकों और बीमा कंपनियों में लावारिस पड़े हैं 32,000 करोड़ से भी ज्यादा पैसे, नहीं है कोई दावेदार          बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री और राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) प्रमुख लालू प्रसाद यादव के बेटे तेज प्रताप यादव ने किया तेज सेना का गठन           भ्रष्ट अफसरों को जबरन वीआरएस दिया जाए, ऐसे लोग नहीं चाहिए-योगी आदित्यनाथ         
होम | उत्तराखंड | उत्तराखंड के नगर निकायों के उपचुनाव में कांग्रेस ने लगायी,भाजपा के मजबूत किले में सेंध

उत्तराखंड के नगर निकायों के उपचुनाव में कांग्रेस ने लगायी,भाजपा के मजबूत किले में सेंध


उत्तराखंड में श्रीनगर और बाजपुर नगर निकायों में मतगणना के बाद श्रीनगर और बाजपुर दोनों ही जगह कमल को पछाड़ पंजे ने पैठ जमा ली है। वहीं दून और ऋषिकेश दोनों ही जगह कमल खिला।  श्रीनगर और बाजपुर नगरपालिका अध्यक्ष पद चुनाव में भाजपा को झटका लगा है। दोनों ही निकायों में अध्यक्ष पद पर कांग्रेस ने कब्जा जमाया। श्रीनगर में पूनम तिवाड़ी और बाजपुर में गुरजीत सिंह गित्ते निर्वाचित हुए। सभासद पदों पर निर्दलीयों का दबदबा रहा।

श्रीनगर नगरपालिका का अध्यक्ष पद इस बार महिला आरक्षित था। भाजपा और कांग्रेस के प्रत्याशियों के साथ ही चार अन्य प्रत्याशी भी यहां मैदान में थे। इनमें से कांग्रेस की पूनम तिवाड़ी ने 4413 मत हासिल कर भाजपा की सरोजनी रावत को 638 मतों से पराजित किया। सरोजनी रावत को 3775 मत मिले। सभासद के 13 पदों में से पांच भाजपा और एक कांग्रेस के खाते में आई, जबकि सात पर निर्दलीयों ने जीत दर्ज की है।

बाजपुर नगरपालिका में अध्यक्ष पद पर कांग्रेस के गुरजीत सिंह गित्ते के सिर जीत का सेहरा बंधा। उन्होंने भाजपा के राजकुमार को 2990 मतों से हराया। राजकुमार को 6035 वोट मिले। इस पद पर पांच प्रत्याशी मैदान में थे। यहां सभासद के 13 पदों में से सात निर्दलीयों के खाते में आए, जबकि तीन-तीन सीटें भाजपा और कांग्रेस की झोली में गईं। दोनों ही निकायों में अध्यक्ष पद पर जीत दर्ज करने से कांग्रेसी उत्साहित हैं। राजनैतिक जानकारों का निकाय चुनाव के नतीजे आने का बाद कहना हैं कि श्रीनगर नगरपालिक और बाजपुर नगरपालिक के नतीजे कांग्रेस के लिए उत्साहित करने वाले हो सकते है। लेकिन बीजेपी के यह हार बहुत गंभीर है। बीजेपी यदि समय रहते इस हार पर  मंथन नहीं करती हैं तो आने वाले समय में विधानसभा चुनाव में उसे इसकी किमत चुकानी पड़ सकती है। इसलिए बीजेपी को इस हार पर गंभीरता से मंचथ करना होगा।  

प्रदेश में पहले विधानसभा चुनाव और फिर लोकसभा चुनाव में बुरी तरह हार चुकी कांग्रेस के लिए यह छोटी जीत बड़ी आस की तरह है। इसी वजह से कांग्रेस ने इस चुनाव में ताकत झोंक दी थी। दोनों ही निकायों में चुनाव प्रचार के लिए प्रदेश के तमाम दिग्गज नेता पहुंचे थे। 

इसके अलावा पार्टी स्थानीय स्तर पर प्रभाव रखने वाले बड़े नेताओं को जनसंपर्क में लगाने की कांग्रेस की रणनीति असरकारक साबित हुई। पार्टी की हालिया रणनीति छोटी-छोटी जीत के जरिये सत्तारूढ़ दल भाजपा के मजबूत किले में सेंध लगाने की है। 

 



© 2016 All Rights Reserved.
Follow US On: