बृहस्पतिवार, 29 फ़रवरी 2024 | 04:06 IST
समर्थन और विरोध केवल विचारों का होना चाहिये किसी व्यक्ति का नहीं!!
होम | सेहत | बदलते मौसम में गलसुआ के मरीज बढ़े, रोजाना अस्पताल आ रहे आठ से दस पीड़ित

बदलते मौसम में गलसुआ के मरीज बढ़े, रोजाना अस्पताल आ रहे आठ से दस पीड़ित


खटीमा। सीमांत क्षेत्र में मौसम बदलने के साथ ही मम्स (गलसुआ) के मरीजों की संख्या बढ़ने लगी है। रोजाना 8 से 10 मरीज अस्पताल पहुंच रहे हैं। चिकित्सकों ने मरीजों का इलाज कर आराम करने की सलाह दी है।

इनदिनों क्षेत्र में पूरे दिन तेज धूप और सुबह-शाम ठंड पड़ रही है। इस मौसम में जरा सी लापरवाही सेहत पर भारी पड़ रही है। नतीजतन उप जिला चिकित्सालय में वायरल व अन्य परेशानी से जूझ रहे मरीज इलाज कराने आ रहे हैं।

वरिष्ठ फिजीशियन डॉ. अब्बास ने बताया कि सर्दियां आते ही मम्स (गलसुआ) के मरीजों की संख्या बढ़ी है। उनके पास रोजाना 8 से 10 मरीज मम्स के आ रहे हैं, जिनमें बच्चे, बुजुर्ग, युवा सभी आयुवर्ग के मरीज शामिल हैं। सभी को दवा देने के साथ ही आराम करने को कहा जा रहा है।

डॉ. अब्बास ने बताया कि मम्स में गले में सूजन आ जाती है, जिस कारण मरीज को भोजन करने, पानी पीने आदि में दिक्कत होती है। अक्सर सर्दियों के मौसम में यह बीमारी देखने को मिलती है। अधिकतर बच्चों में यह बीमारी देखने को मिलती है। उन्होंने बताया कि प्रत्येक मनुष्य को जीवन में एक बार यह बीमारी जरूर होती है। इस बीमारी से घबराने की कतई जरूरत नहीं है।

मरीज को गले में सूजन होने पर तत्काल चिकित्सक को दिखाना चाहिए। साथ ही दवा लेकर आराम करना चाहिए। अमूमन तीन से चार दिनों में यह बीमारी ठीक हो जाती है। डॉ. अब्बास ने बदलते मौसम में सावधानी बरतने, रात में बेहद जरूरी होने पर ही घर से बाहर निकलने व किसी प्रकार की परेशानी होने पर तत्काल अस्पताल आने की सलाह दी है।



© 2016 All Rights Reserved.
Follow US On: