सोमवार, 21 सितंबर 2020 | 03:27 IST
समर्थन और विरोध केवल विचारों का होना चाहिये किसी व्यक्ति का नहीं!!
पॉलिसी उल्लंघन के कारण गूगल ने पेटीएम को हटाया,पेटीएम ने कहा,पैसे हैं सुरक्षित          प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश के किसानों को आश्वस्त किया कि लोकसभा से पारित कृषि सुधार संबंधी विधेयक उनके लिए रक्षा कवच का काम करेंगे           उत्तराखंड में भूमि पर महिलाओं को भी मिलेगा मालिकाना हक          सीएम रावत ने गूगल के सीईओ सुंदर पिचाई को लिखा पत्र,उत्तराखंड में आइटी सेक्टर में निवेश करने का किया अनुरोध           कोरोना के चलते रद्द हुई अमरनाथ यात्रा,अमरनाथ श्राइन बोर्ड ने रद्द करने का किया एलान           बैंकों और बीमा कंपनियों में लावारिस पड़े हैं 32,000 करोड़ से भी ज्यादा पैसे, नहीं है कोई दावेदार         
होम | मनोरंजन | मुंबई में शुक्रवार से बिखरेगी उत्तराखंड कौथिग की छटा,कौथिग के कैनवास पर उकरेंगे कुंभ के रंग

मुंबई में शुक्रवार से बिखरेगी उत्तराखंड कौथिग की छटा,कौथिग के कैनवास पर उकरेंगे कुंभ के रंग


प्रवासी उत्तराखंडियों के सामाजिक संगठन कौथिग फाउंडेशन की ओर से आयोजित होने वाले कौथिग-2020 का भव्य उद्घाटन शुक्रवार 24 जनवरी को शाम 4 बजे नेरूल के रामलीला मैदान नवी मुंबई में होगा।

इस बार 24 जनवरी से 2 फरवरी तक चलने वाले कौथिग के 13वें संस्करण को हरिद्वार महाकुंभ 2021 के कैनवास पर उकेरा गया है। कौथिग फाउंडेशन के संस्थापक अध्यक्ष डा. योगेश्वर शर्मा एवं अध्यक्ष हीरा सिंह भाकुनी ने उत्तराखंडी समाज के लोगों से कौथिग-2020 में बड़ी से बड़ी संख्या में पहुंचने की अपील की है।

शुक्रवार को आस्था का महापर्व मौनी अमावस्या इस मौके पर नवी मुंबई में कौथिग महाकुंभ का शंखनाद होने जा रहा है। इस महाकुंभ में शामिल होने के लिए उत्तराखंड सहित देश-विदेश से अतिथियों का पहुंचना शुरू हो गया। नवी मुंबई के नेरूल के रामलीला मैदान में उत्तराखंड के रंग बिखेरने के लिए उत्तराखंड के लोक कलाकारों के दल भी पहुंच चुके है। इसी के साथ प्रवासी समाज के उद्योगपति, फिल्म सितारे व समाजसेवियों की मौजूदगी में मुंबई कौथिग 2020 के 13वें संस्करण आगाज होने जा रहा है।

उद्घाटन अवसर पर मां नंदा राजजात की झांकी,छलिया कलाकारों के दल के साथ नेरूल के प्रमुख मार्गों से होते हुए कौथिग प्रांगण पहुंचेगी। मुंबई कौथिग का यह 13वां साल है। इस बार मुंबई कौथिग को हरिद्वार महाकुंभ को समर्पित किया गया है। कौथिग फाउंडेशन के अध्यक्ष हीरासिंह भाकुनी ने कहा कि 24 जनवरी से 2 फरवरी तक यह 10 दिवसीय आयोजन रोज शाम 4 बजे से रात 10 बजे तक चलेगा।

कौथिग फाउंडेशन के संस्थापक डा.योगेश्वर शर्मा बताते हैं कि मुंबई कौथिग ने पिछले 12 सालों की सांस्कृतिक यात्रा में उत्तराखंड की संस्कृति के विभिन्न आयामों को कौथिग के कैनवास पर उकेरा हैं,और इस बार कौथिग के पटल पर हरिद्वार में आयोजित होने वाले 2021 महाकुंभ खूबसूरत रंग आपको देखने को मिलेगें।

आपको बता दें कि पीछले 12 वर्ष से मुंबई के सांस्कृतिक पटल पर कौथिग मुंबई उत्तराखंड की लोक सांस्कृति विरासत,लोक वाद्य,लोक कलाओं और लोक उत्सवों के नये आकार में प्रस्तुत करता आया है।

कौथिग का यह मंच मात्र एक सांस्कृति मंच ही नहीं बल्कि यह उत्तराखंड के दूरस्थ क्षेत्रों से आने वाले किसानों, काश्तकारों और शिल्पकारों को अपने उत्पादों को प्रदर्शित करने के लिए बड़ा मंच भी उपल्बध करवाता है। प्रवासी उत्तराखंडी इस मंच से अपनी लोक संस्कृति के रू-ब-रू तो होते ही है,साथ ही पहाड़ी उत्पादों की खूब खरिदारी भी करते है।  

 



© 2016 All Rights Reserved.
Follow US On: