मंगलवार, 30 नवंबर 2021 | 03:49 IST
समर्थन और विरोध केवल विचारों का होना चाहिये किसी व्यक्ति का नहीं!!
राष्ट्रपति राम नाथ कोविन्द ने पतंजलि विश्वविद्यालय,हरिद्वार के प्रथम दीक्षांत समारोह में गोल्ड मेडलिस्ट विद्यार्थियों को प्रदान की उपाधि          ओमीक्रॉन कोरोना वेरिएंट की भारत में हुई एंट्री          वर्ष 2025 तक उत्तराखण्ड बनेगा हर क्षेत्र में अग्रणी राज्यःसीएम पुष्कर सिंह धामी          सीएम पुष्कर धामी ने राइजिंग उत्तराखण्ड कार्यक्रम में किया प्रतिभाग,गायक जुबिन नौटियाल को किया सम्मान          1 दिसंबर से सउदी अरब जा सकेंगे भारतीय          उत्तराखंड में कोरोना काल में सराहनीय कार्य करने वाले ग्राम प्रधानों को मिलेगी 10 हजार रूपये की प्रोत्साहन राशि          T20 रैंकिंग में रोहित शर्मा को हुआ फायदा          15 दिसम्बर तक स्वरोजगार योजनाओं के तहत लोन के निर्धारित लक्ष्य को किए जाने के सीएम धामी ने दिए निर्देश          सीएम योगी आदित्यनाथ एवं सीएम पुष्कर धामी की लखनऊ में हुई बैठक में निपटा उत्तर प्रदेश व उत्तराखंड का 21 वर्ष पुराना विवाद         
होम | मनोरंजन | रिक्शा चलाने वाले की बेटी बनी मिस इंडिया रनरअप

रिक्शा चलाने वाले की बेटी बनी मिस इंडिया रनरअप


कहते है जब कुछ पाने का जूनून हो और कुछ करने की शिद्दत हो तो इंसान वो सब कर जाता है। जो उसे हालात करने नहीं देते हैं। ऐसा ही कुछ करके दिखाया है, एक रिक्शा चलाने वाले की बेटी ने। आपको बता दें, तेलंगाना की मानसा वाराणसी ने वीएलसीसी मिस इंडिया 2020का खिताब जीत लिया है। वहीं यूपी की मान्या सिंह फर्स्ट रनर अप और मनिका शियोकांडदूसरी रनर अप रहीं। कोरोना की वजह से ऐसा पहली बार हुआ कि मिस इंडिया कॉन्टेस्ट को डिजिटल तरीके से आयोजित किया गया। ये मिस इंडिया 2020 का 57 वां संस्करण था। मान्या सिंह का सफर काफी मुश्किल भरा रहा है।उनका मिस इंडिया के स्टेज तक पहुंचने का सफर इतना आसान नहीं था। मान्या एक रिक्शा चलाने वाले की बेटी है। इसलिए उन्हें शुरू से ही कई सारे संघर्ष करने पड़े। उन्होंने आगे कहा, 'मेरे पास जितने भी कपड़े थे, वो खुद से सिले हुए थे। मेरे माता-पिता ने अपने जेवर गिरवी रखे, ताकी वो डिग्री के लिए परीक्षा फीस दे सकें। मेरी मां ने मेरे लिए बहुत कुछ झेला है। 14 साल की उम्र में, मैं घर से भाग गई। आज वो अपनी मेहनत और लगन से इस मुकाम कर पहुंची हैं। मान्या का कहना है कि,यहा तक पहुंचने के लिये उन्हें कई सारी राते भूखे रहवकर काटनी पड़ी है। आज वो जो कुछ भी हैं अपने माता-पिता और भाई वजह से हैं।

 



© 2016 All Rights Reserved.
Follow US On: