रविवार, 23 फ़रवरी 2020 | 02:01 IST
समर्थन और विरोध केवल विचारों का होना चाहिये किसी व्यक्ति का नहीं!!
भारत बना रहा है नेवी के लिए नई हाईटेक क्रूज मिसाइल, जद में होगा पाकिस्‍तान          भारतीयों के स्विस खातों, काले धन के बारे में जानकारी देने से वित्त मंत्रालय ने किया इंकार          पीएम की कांग्रेस को खुली चुनौती,अगर साहस है तो ऐलान करें,पाकिस्तान के सभी नागरिकों को देंगे नागरिकता          नागरिकता संशोधन कानून पर जारी विरोध के बीच पीएम मोदी ने लोगों से बांटने वालों से दूर रहने की अपील की है          भारतीय संसद का ऐतिहासिक फैसला,सांसदों ने सर्वसम्मति से लिया फैसला,कैंटीन में मिलने वाली खाद्य सब्सिडी को छोड़ देंगे           60 साल की उम्र में सेवानिवृत्त करने पर फिलहाल सरकार का कोई विचार नहीं- जितेंद्र सिंह          मोदी सरकार का बड़ा फैसला, दिल्ली की अवैध कॉलोनियां होगी नियमित          पीओके से आए 5300 कश्मीरियों के लिए मोदी सरकार का बड़ा ऐलान, मिलेंगे साढ़े पांच लाख रुपये          पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने कबूल किया कि उनका देश कश्मीर मुद्दे का अंतरराष्ट्रीयकरण करने की कोशिशों में नाकाम रहा          संयुक्‍त राष्‍ट्र ने भी माना,जलवायु परिवर्तन से निपटने में अहम है भारत की भूमिका          बैंकों और बीमा कंपनियों में लावारिस पड़े हैं 32,000 करोड़ से भी ज्यादा पैसे, नहीं है कोई दावेदार         
होम | खेल | उत्तराखंड चमोली की मानसी नेगी ने 65वीं नेशनल स्कूल चैम्पियनशिप में स्वर्ण पदक जीता

उत्तराखंड चमोली की मानसी नेगी ने 65वीं नेशनल स्कूल चैम्पियनशिप में स्वर्ण पदक जीता


चमोली जिले के मजोठी गाँव की बेटी मानसी नें एक बार पुनः अपने जनपद ही नहीं अपितु समूचे उत्तराखंड को गौरवान्वित किया है । दशोली ब्लॉक के मजोठी गाँव की मानसी नें 65वीं नेशनल स्कूल चैम्पियनशिप में स्वर्ण पदक जीत कर जिला और प्रदेश का नाम रोशन किया है।

2019 – 2020 की राष्ट्रीय स्कूल एथलेटिक्स चैंपियनशिप में 3000 मीटर की वॉक रेस में मीनाक्षी ने स्वर्ण पदक जीता। पंजाब के संगरूर में हुई चैम्पियनशिप में उन्होंने ने 3000 मी. की वॉक रेस 14 मिनट 34 सेकिन्ड में पूरी की।

इससे पहले भी मानसी कई प्रतियोगिताओं में उत्तराखंड का नाम रोशन कर चुकी है। दिल्ली में आयोजित प्रथम खेलो इंडिया स्कूल गेम्स में मानसी नेगी ने बालिका वर्ग की 3 किमी वॉक रेस में गोल्ड मेडल जीता था।

17वीं फेडरेशन कप नेशनल जूनियर एथलेटिक्स चैंपियनशिप-2019 में चमोली की मानसी नेगी ने कांस्य पदक जीता था। मानसी ने अंडर-20 में 10 हजार मीटर वॉक रेस में तीसरा स्थान हासिल किया था। मानसी द्रोणाचार्य पुरस्कार के लिए चयनित अनूप बिष्ट की शिष्य हैं।

आपको बता दें कि पेशे से मैकेनिक मानसी के पिता लखपत सिंह नेगी की 2016 में अकाल मृत्यु हो चुकी है। मानसी की मां शकुंतला देवी का मायका दशोली ब्लॉक के "गाड़ी"गांव में है। आज वह मात्र खेती मजदूरी कर बेटी को जीवन में आगे बढ़ने का हौसला देती है। अत्यधिक गरीबी में जीवन यापन करने के बाबजूद भी मानसी के मन में अपने जीवन में कुछ अलग करने का जुनून हमेशा रहा है। इतनी मुश्किल परिस्थितियों में भी मानसी नें अपना हौंसला कभी कमजोर नहीं होने दिया। मानसी नेगी ने पहाड़ की बेटियों के लिए एक प्रेरणास्रोत बनकर यह संदेश दिया है कि बेटियाँ हर क्षेत्र मे अपना परचम लहरा सकती हैं। पहाड़ की इस गरीब बेटी मानसी ने अपने ऊँचे और बुलंद हौंसलों की एक नयी तस्वीर पेश है ।



© 2016 All Rights Reserved.
Follow US On: