सोमवार, 30 मार्च 2020 | 01:05 IST
समर्थन और विरोध केवल विचारों का होना चाहिये किसी व्यक्ति का नहीं!!
कोरोना के चलते लखनऊ में भी लॉकडाउन, 23 मार्च तक सभी दफ्तर बंद          मध्य प्रदेश के सीएम कमलनाथ ने अपने पद से इस्तीफा दिया          जनता कर्फ्यू.रविवार को नहीं चलेगी मेट्रो, DMRC ने जारी की एडवायजरी          उत्तराखंड में 65 साल के अधिक और 10 साल से कम आयु वाले बच्चों से 31 मार्च तक घर पर रहने की अपील           कोरोना वायरस: दिल्ली का चिड़ियाघर 31 मार्च तक बंद          विदेशों में 276 भारतीय कोरोना वायरस से संक्रमित          कोरोना वायरस के संक्रमण के चलते माता वैष्णो देवी की यात्रा आज से बंद          उत्तराखंड सरकार बड़ा फैसला,पदोन्नति में आरक्षण किया खत्म,कर्मचारी लौटे काम पर          भारत में कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या 131 हुई,उत्तराखंड व्यक्ति में कोरोना की पुष्टि           आईपीएल पर कोरोना वायरस का साया,अब 15 अप्रैल से शुरू होंगे मैच          ज्योतिरादित्य सिंधिया को भाजपा ने मध्यप्रदेश से राज्यसभा उम्मीदवार घोषित किया          भारतीय जनता पार्टी में शामिल हुए ज्योतिरादित्य सिंधिया           SBI ने बताया यस बैंक को बचाने का प्लान, कहा- पैसा बिल्कुल सेफ          कोरोना वायरस पर बोले पीएम मोदी- अफवाहों से बचें, जो भी करें अपने डॉक्टर की सलाह पर करें          निर्भया के दोषियों के खिलाफ नया डेथ वारंट जारी, 20 मार्च सुबह 5:30 बजे होगी फांसी          कोरोनवायरस के चलते दिल्ली के सभी सरकारी और निजी प्राइमरी स्कूल कक्षा 5 वीं तक 31 मार्च तक बंद           नशीले पदार्थों की तस्करी पर काबू करने की प्रणाली पर सहमति          भारत और अमेरिका के बीच डिफेंस डील पर मुहर, ट्रेड डील के लिए बातचीत पर सहमति          भारत बना रहा है नेवी के लिए नई हाईटेक क्रूज मिसाइल, जद में होगा पाकिस्‍तान          भारतीयों के स्विस खातों, काले धन के बारे में जानकारी देने से वित्त मंत्रालय ने किया इंकार          पीएम की कांग्रेस को खुली चुनौती,अगर साहस है तो ऐलान करें,पाकिस्तान के सभी नागरिकों को देंगे नागरिकता          नागरिकता संशोधन कानून पर जारी विरोध के बीच पीएम मोदी ने लोगों से बांटने वालों से दूर रहने की अपील की है          भारतीय संसद का ऐतिहासिक फैसला,सांसदों ने सर्वसम्मति से लिया फैसला,कैंटीन में मिलने वाली खाद्य सब्सिडी को छोड़ देंगे           60 साल की उम्र में सेवानिवृत्त करने पर फिलहाल सरकार का कोई विचार नहीं- जितेंद्र सिंह          मोदी सरकार का बड़ा फैसला, दिल्ली की अवैध कॉलोनियां होगी नियमित          पीओके से आए 5300 कश्मीरियों के लिए मोदी सरकार का बड़ा ऐलान, मिलेंगे साढ़े पांच लाख रुपये          पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने कबूल किया कि उनका देश कश्मीर मुद्दे का अंतरराष्ट्रीयकरण करने की कोशिशों में नाकाम रहा          संयुक्‍त राष्‍ट्र ने भी माना,जलवायु परिवर्तन से निपटने में अहम है भारत की भूमिका          बैंकों और बीमा कंपनियों में लावारिस पड़े हैं 32,000 करोड़ से भी ज्यादा पैसे, नहीं है कोई दावेदार         
होम | मनोरंजन | दक्षिण भारत में पहली बार लग रहा है,उत्तराखंडी मंडाण,पहुंच रहे उत्तराखंड के कई प्रबुद्धजन

दक्षिण भारत में पहली बार लग रहा है,उत्तराखंडी मंडाण,पहुंच रहे उत्तराखंड के कई प्रबुद्धजन


अपनी समृद्ध सांस्कृतिक विरासत व अनमोल परंपराओं के कारण सदियों से उत्तराखंड की देवभूमि देश,दुनिया में एक अलग ही पहचान रखती है। उत्तराखंड की लोक संस्कृति को बचाने-सहेजने के प्रयास आज उत्तराखंड की तमाम संस्थाएं निरंतर कार्यरत है। यही वजह भी हैं की आज के समय में उत्तराखंड की लोक-संस्कृति विश्व सांस्कृति मंच पर अपनी अलग पहचान ही नहीं बना रही है अपितु दुनिया के तममा लोक-सांस्कृतिक परिवेशों में अपना परचम भी लहरा रही है।

इसी कड़ी मैं  उत्तराखंड की लोक संस्कृति व लोक संगीत को बढ़ावा देने के उद्देश्य से सामाजिक संस्था ‘उत्तराखंड महासंघ’ के तत्वावधान में आगामी 17 नवम्बर को कर्नाटक की राजधानी बेंगलुरु में ‘मण्डाण 2019’ का भव्य आयोजन किया जा रहा है। जिसमें उत्तराखंड सहित देश-विदेश से कई प्रबुद्धजन पहुंच रहे है।

दक्षिण भारत में पहली बार लग रहे इस उत्तराखंडी मंडाण में उत्तराखंड के मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत मुख्य अतिथि के रूप में सिरकत करेंगे तो ‘ द हंस फाउंडेशन’ के प्रेरणास्रोत एवं समाजसेवी माताश्री मंगला जी एवं श्रीभोले जी महाराज इस कार्यक्रम में विशिष्ट अतिथि के तौर पर अपनी गरिमामयी उपस्थिति देंगे।

बैंगलोर मैं आयोजित होने मंडाण कार्यक्रम के लिए अपनी शुभकामनाएं देते हुए माताश्री मंगला जी ने कहां कि उत्तराखंड की संस्कृति जितनी समृद्ध है, उतने ही मन को मोहने वाले यहां के लोकगीत-नृत्य भी हैं। यहां लोक की विरासत समुद्र की भांति है, जो अपने आप में विभिन्न रंग और रत्न समेटे हुए है। उत्तराखंडी लोक-जीवन अलग ही सुर-ताल लिए हुए है, जिसकी छाप यहां के लोकगीत-नृत्यों में भी स्पष्ट दृष्टिगोचर होती है। उत्तराखंडी लोकगीत-नृत्य महज मनोरंजन का ही जरिया नहीं हैं, बल्कि वह लोक-जीवन के अच्छे-बुरे अनुभवों से सीख लेने की प्रेरणा भी देते हैं। इन लोक गीतों-नृत्यों को संजोने के लिए आज हमारी तमाम सामाजिक संस्थाएं और लोक गायक-कलाकार निरंतर प्रयास कर रहे है। इसी कड़ी में दक्षिण भारत में पहली बार ‘उत्तराखंड महासंघ’ द्वारा आयोजित किया जा रहा,उत्तराखंडी मंडाण महत्वपूर्ण आयोजन हैं। इसके लिए हम उत्तराखंड महासंघ के सभी पदाधिकारियों और कार्यकर्ताओं को बधाई देते है। साथ ही हम दिल्ली हाई कोर्ट के अधिवक्ता एवं नई पहल नई सोच के संस्थापक संजय दरमोडा जी को भी बधाई देते हैं कि उनके सानिद्ध में इस भव्य मंडाण कार्यक्रम का आयोजन किया जा रहा है।

नई पहल नई सोच के संस्थापक एवं समाजसेवी संजय दरमोड़ा ने कार्यक्रम आयोजन के बारे में बताया की दक्षिण भारत की धरती पर उत्तराखंडी लोक संस्कृति का परचम लहराने की दिशा में यह प्रयास उत्तराखंड महासंघ द्वार बहुत ही महत्वपूर्ण प्रयास है। यह अब इस लिए भी महत्वपूर्ण हो गया हैं कि इस भव्य आयोजन में हमें पूज्य माताश्री मंगला जी एवं श्री भोले जी महाराज जी का आशीष मिल रहा है। जो देश भर में स्वास्थ्य-शिक्षा से लेकर उत्तराखंड के सांस्कृति संरक्षण के लिए महत्वपूर्ण भूमिका निभा रहे है। हम इस आयोजन में आने के लिए अपनी सहमती देने के लिए उत्तराखंड महासंघ बैंगलोर की तरफ से पूज्य माताश्री मंगला जी एवं श्री भोले जी महाराज जी और उत्तराखंड के मुख्यमंत्री श्री त्रिवेंद्र सिंह रावत जी का कोटि-कोटि आभार व्यक्त करते है।

आपको बता दें कि 17 नवंबर को बैंगलोर में आयोजित होने वाले इस उत्तराखंडी मंडाण कार्यक्रम में गढ़रत्न नरेंद्र सिंह नेगी सहित समाज-संस्कृति की कई हस्तियां “मण्डाण” कार्यक्रम की शोभा बढ़ाएंगी।



© 2016 All Rights Reserved.
Follow US On: