रविवार, 27 सितंबर 2020 | 08:55 IST
समर्थन और विरोध केवल विचारों का होना चाहिये किसी व्यक्ति का नहीं!!
टाइम मैग्जीन ने जारी की दुनिया के 100 प्रभावशाली लोगों की लिस्ट,पीएम मोदी लिस्ट में इकलौते भारतीय ने          पीएम मोदी ने फिट इंडिया मूवमेंट के एक साल पूरा होने पर,बताए अपनी फिटनेस के सीक्रेट          डीआरडीओ को मिली बड़ी कामयाबी,अर्जुन टैंक से लेजर गाइडेड एंटी टैंक मिसाइल का सफल परीक्षण          ऑस्ट्रेलिया के पूर्व दिग्गज क्रिकेटर डीन जोन्स का मुंबई में दिल का दौरा पड़ने से निधन          पॉलिसी उल्लंघन के कारण गूगल ने पेटीएम को हटाया,पेटीएम ने कहा,पैसे हैं सुरक्षित          प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश के किसानों को आश्वस्त किया कि लोकसभा से पारित कृषि सुधार संबंधी विधेयक उनके लिए रक्षा कवच का काम करेंगे           उत्तराखंड में भूमि पर महिलाओं को भी मिलेगा मालिकाना हक          सीएम रावत ने गूगल के सीईओ सुंदर पिचाई को लिखा पत्र,उत्तराखंड में आइटी सेक्टर में निवेश करने का किया अनुरोध           कोरोना के चलते रद्द हुई अमरनाथ यात्रा,अमरनाथ श्राइन बोर्ड ने रद्द करने का किया एलान           बैंकों और बीमा कंपनियों में लावारिस पड़े हैं 32,000 करोड़ से भी ज्यादा पैसे, नहीं है कोई दावेदार         
होम | सेहत | रंग ला रही है सीएम रावत की अतिकुपोषित बच्चों को गोद लेने की पहल

रंग ला रही है सीएम रावत की अतिकुपोषित बच्चों को गोद लेने की पहल


मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत की पहल पर अतिकुपोषित बच्चों को गोद लेने की योजना के अच्छे परिणाम मिलने लगे हैं। प्रदेश के जनप्रतिनिधियों, अधिकारियों और सामाजिक संस्थाओं द्वारा गोद लिए गए कुपोषित बच्चों के स्वास्थ्य में लगातार सुधार हो रहा है। विगत वर्ष सितम्बर माह में ‘‘कुपोषण मुक्ति हेतु गोद अभियान’’ की शुरूआत की गई थी। मुख्यमंत्री सहित मंत्रीगणों, जनप्रतिनिधियों और अधिकारियों ने चिन्हित अति कुपोषित बच्चों को गोद लिया था। कुपोषित बच्चों को न केवल गोद लिया गया बल्कि संबंधित जनप्रतिनिधि व अधिकारी, इन बच्चों के अभिभावकों के लगातार सम्पर्क में रहे। इसके सार्थक परिणाम भी मिल रहे हैं। 06 बच्चे कुपोषण से मुक्त हो चुके हैं, जबकि 11 बच्चों की ग्रेड में सुधार हुआ है और 207 बच्चों के वजन में वृद्धि हुई है।

मुख्यमंत्री श्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने कहा कि, ‘‘कुपोषित बच्चों को गोद लेकर उनकी जिम्मेवारी लेने की पहल की गई थी। इसके सुखद परिणाम मिलने लगे हैं। बच्चे हमारे देश का भविष्य हैं। हमारा उद्देश्य प्रदेश को कुपोषण से पूरी तरह से मुक्त करना है। लगभग सभी गोद लिए गए बच्चों के वजन में संतोषजनक वृद्धि हुई है। मुझे पूरा विश्वास है कि सभी गोद लिए बच्चे कुपोषण से मुक्त होंगे।’’ 



© 2016 All Rights Reserved.
Follow US On: