रविवार, 21 जुलाई 2019 | 08:44 IST
समर्थन और विरोध केवल विचारों का होना चाहिये किसी व्यक्ति का नहीं!!
81 साल की उम्र में शीला दीक्षित का निघन          शीला दीक्षित 15 साल तक दिल्ली की मुख्यमंत्री रहीं थी          दिल्ली की सबसे लोकप्रिय मुख्यमंत्री शीला दीक्षित का दिल्ली में निधन          इसरो ने किया ऐलान, अब 22 जुलाई को लॉन्च होगा चंद्रयान-2          कुलभूषण जाधव मामले पर पीएम मोदी ने जताई खुशी कहा- ये सच्चाई और न्याय की जीत है          भारतीय वायुसेना के लिए गेम चेंजर साबित होगी राफेल-सुखोई की जोड़ी,एयर मार्शल भदौरिया          कुलभूषण जाधव केस, ICJ में भारत की बड़ी जीत, फांसी की सजा पर रोक, पाकिस्तान को सजा की समीक्षा का आदेश          गृह मंत्री अमित शाह का बड़ा बयान, कहा- सभी घुसपैठियों और अवैध प्रवासियों को करेंगे देश से बाहर          पीएम नरेंद्र मोदी सितंबर में अमेरिका जाएंगे, जहां भारतीय समुदाय के लोगों से उनकी मुलाकात हो सकती है। इस दौरान दुनिया के कई अन्‍य देशों के नेताओं से भी मुलाकात की संभावना है          भाजपा को 2016-18 के बीच 900 करोड़ रू से ज्यादा चंदा मिला, एडीआर की रिपोर्ट में आया सामने          बैंकों और बीमा कंपनियों में लावारिस पड़े हैं 32,000 करोड़ से भी ज्यादा पैसे, नहीं है कोई दावेदार          बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री और राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) प्रमुख लालू प्रसाद यादव के बेटे तेज प्रताप यादव ने किया तेज सेना का गठन           भ्रष्ट अफसरों को जबरन वीआरएस दिया जाए, ऐसे लोग नहीं चाहिए-योगी आदित्यनाथ         
होम | साहित्य | साहित्य है समाज की सबसे बडी जरूरत

साहित्य है समाज की सबसे बडी जरूरत


इंटरनेट के इस युग में आज भी 35 प्रतिशत आबादी साहित्य लिखने पढ़ने की शौकीन है इंटरनेट ने जहॉ एक वैचारिक क्रांति ला दी है वही बहुत सी गतिविधियो को आलस से भर दिया है एक ओर जहॉ लेखन की प्रतिभा को बढ़ावा मिला है किताबो का प्रचलन दिन प्रतिदिन घटता जा रहा है चाहे वो बाल साहित्य हो या कुछ ओर देखा जाए तो बाल साहित्य पढ़ने में जितना आसान लगता है उसको लिखना उतनी ही टेढी खीर है इंटरनेट के माध्यम से जो साहित्य समाज में परोसा जा रहा है उसमें से अधिकांश निरर्थक है युवा साहित्यकार राजकुमार जैन ने कहा कि साइबर की बढ़ती पैठ से भाषा के संस्कार और हमारी परंपरा दोनों ही दूषित होती जा रही है हिंदी दिवस और मातृ दिवस महज गोष्ठियॉ बनकर रह गई है।इसी क्रम में समय समय पर स्कूलों में चंद कविगोष्ठि आयोजित हो जाती है कवियों को सम्मान दिया जाता है अभी हाल ही में हरियाणा साहित्य अकादमी की ओर से आयोजित शब्द शक्ति की श्रृंखला में दूसरे दिन बाल साहित्य विविध आयाम विषय पर गोष्ठी का आयोजन हुआ रंगारंग कार्यक्रम के साथ बच्चो को साहित्य लिखने और पढ़ने के लिए प्रोत्साहित किया गया मुख्य अतिथि डॉ दिविक रमेश ने कहा कि आज के बच्चो को ध्यान में रखकर हिंदी में उत्कृष्ट बाल साहित्य का सृजन हो रहा है जिसकी पहुँच बड़ों व बच्चो सभी तक होनी चाहिए यह हर आयु के व्यक्ति के लिए होता है यह भ्रम टूटना चाहिए कि बाल साहित्य केवल बच्चो के लिए होता है सिर्फ समझ ही नही बढाता उन्हे सुसंस्कृत भी करता है इसके साथ ही मुख्य अतिथि ने बताया कि रचनात्मक साहित्य कलात्मक अनुभूति होती है विषय आधारित नही इसके लिए विश्वसनीयता और वैज्ञानिक दृष्टि बहुत मायने रखती है बालको में सोचने की नई कल्पना और नए ढ़ग की समझ पैदा करने के लिए सलाहकार समितिक का गठन किया जाना चाहिए  जिससे साहित्य का प्रचार प्रसार सही ढ़ग से किया जा सके।



© 2016 All Rights Reserved.
Follow US On: