बृहस्पतिवार, 17 अक्टूबर 2019 | 06:30 IST
समर्थन और विरोध केवल विचारों का होना चाहिये किसी व्यक्ति का नहीं!!
पीओके से आए 5300 कश्मीरियों के लिए मोदी सरकार का बड़ा ऐलान, मिलेंगे साढ़े पांच लाख रुपये          कांग्रेस पार्टी का बड़ा एलान, जम्मू-कश्मीर में नहीं लड़ेंगे BDS चुनाव          केंद्र सरकार ने 48 लाख कर्मचारियों को दिवाली से पहले दिया बड़ा तोहफा, 5 फीसदी बढ़ाया महंगाई भत्ता           देश के सबसे बड़ा सरकारी बैंक भारतीय स्टेट बैंक पब्लिक प्रॉविडेंट फंड पर सेविंग अकाउंट की तुलना में दे रहा है डबल ब्याज           भारतीय सेना एलओसी पार करने से हिचकेगी नहीं,पाकिस्तान को आर्मी चीफ बिपिन रावत की चेतावनी          पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने कबूल किया कि उनका देश कश्मीर मुद्दे का अंतरराष्ट्रीयकरण करने की कोशिशों में नाकाम रहा          संयुक्‍त राष्‍ट्र ने भी माना,जलवायु परिवर्तन से निपटने में अहम है भारत की भूमिका          महाराष्ट्र, हरियाणा में 21 अक्टूबर को होगा विधानसभा चुनाव, 24 को आएंगे नतीजे          बैंकों और बीमा कंपनियों में लावारिस पड़े हैं 32,000 करोड़ से भी ज्यादा पैसे, नहीं है कोई दावेदार         
होम | उत्तराखंड | उत्तराखंड में जहरीली शराब से हुई मौत के बाद कई अधिकारी निलंबित

उत्तराखंड में जहरीली शराब से हुई मौत के बाद कई अधिकारी निलंबित


उतराखंड में बिंदाल नदी से लगे पथरिया इलाके में जहरीली शराब पीने से 48 घंटे के भीतर सेवानिवृत्त फौजी समेत छह लोगों की मौत हो गई। वहीं, तीन लोगों की हालात अब भी गंभीर बनी हुई है। छह लोगों की मौत के बाद इलाकों में लोगों का गुस्सा फूट पड़ा और उन्होंने शराब बेचने वालों के घरों पर जमकर हंगामा किया। इसी दौरान प्रदर्शनकारियों की पुलिस से तीखे झड़पें और हाथापाई भी हुई। प्रशासन ने एहतियातन जिले भर में देसी शराब के ठेकों को बंद करा दिया है। साथ ही देर रात दो आबकारी निरीक्षक और एक उपनिरीक्षक को निलंबित कर दिया गया। मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने मामले को बेहद गंभीर बताते हुए न्यायिक जांच के आदेश दिए हैं। इस मामले में वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक देहरादून द्वारा निरीक्षक शिशुपाल सिंह नेगी, प्रभारी निरीक्षक कोतवाली नगर और उप निरीक्षक कुलवंत सिंह, चौकी प्रभारी धारा को तत्काल प्रभाव से निलंबित किया गया है।

दरअसल पथरिया पीर भाग दो मुहल्ले में कई ऐसे ठिकाने हैं, जहां अवैध रूप से शराब बेचने का गोरखधंधा चल रहा था। मौत के मुंह में गए सभी लोगों ने एक ही अवैध ठिकाने से शराब खरीदी थी। बृहस्पतिवार को सबसे पहले राजेंद्र (30) की मौत हुई थी। राजेंद्र ने शराब का सेवन किया था। इसके बाद लल्ला (32) और सेवानिवृत्त फौजी शरण (58) की मौत हुई थी। तीनों को दून अस्पताल ले जाया गया, जहां पर उन्हें मृत घोषित कर दिया गया। 

अवैध रूप से शराब बेचने का गोरखधंधा चल रहा था

इन्हें वायरल की शिकायत होने के कारण परिजनों को लगा कि बीमारी के चलते उनकी मौत हुई है। इसीलिए तीनों का अंतिम संस्कार कर दिया गया। मामले की जानकारी मिलने के बाद विधायक गणेश जोशी ने पीड़ित परिवारों से मिलकर आर्थिक मदद की थी। शुक्रवार को भी मौत का सिलसिला नहीं थमा। अचानक तबीयत बिगड़ने पर आकाश (24), सुरेन्द्र (34) और इंदर (45) को हालत बिगड़ने पर दून अस्पताल में भर्ती कराया गया, जहां पर एक-एक कर उनकी मौत हो गई। तब जाकर हल्ला मचा कि इन सभी लोगों की मौत जहरीली शराब के सेवन से हुई है। इसे लेकर इलाके के लोगों का आक्रोश फूट पड़ा।

 लोगों ने पुलिस पर शराब बेचने वालों के साथ सांठगांठ का आरोप लगाते हुए हंगामा कर दिया। आक्रोशित महिलाओं ने शराब बेचने वालों के घरों में घुसने का प्रयास किया। इस दौरान लोगों और पुलिस के बीच झड़प और हाथापाई भी हुई। मौके पर पहुंचे भाजपा विधायक गणेश जोशी ने सीओ सिटी शेखर सुयाल के साथ लोगों को समझा-बुझाकर शांत किया। हालांकि, देर रात तक महिलाओं का हंगामा जारी था।

बृहस्पतिवार को तीन लोगों की मौत हुई थी, जिसकी कोई जानकारी पुलिस को नहीं दी गई। परिजनों ने उनका अंतिम संस्कार कर दिया। रोजमर्रा शराब पीने वालों की शुक्रवार को तबीयत बिगड़ी तो उन्हें अस्पताल में भर्ती कराया गया, जहां पर उपचार के दौरान तीन की मौत हो गई। पोस्टमार्टम होने के बाद ही यह साफ हो पाएगा कि मौत का क्या कारण है। फिलहाल पुलिस शराब बेचने वालों की धरपकड़ का प्रयास कर रही है, ताकि सच्चाई सामने आ सके।

 

 

 

 



© 2016 All Rights Reserved.
Follow US On: