सोमवार, 23 सितंबर 2019 | 11:06 IST
समर्थन और विरोध केवल विचारों का होना चाहिये किसी व्यक्ति का नहीं!!
सेंसेक्स के इतिहास में अब तक की सबसे बड़ी तेजी, 1 दिन में ही निवेशकों को 7 लाख करोड़ रुपए का फायदा          इंतजार खत्म- वायुसेना को मिला पहला राफेल फाइटर जेट, दिया गया नए वायुसेना प्रमुख का नाम          जीएसटी काउंसिल की बैठक: ऑटो सेक्टर को नहीं मिली राहत, होटल कमरों पर कम हुई टैक्स दर          संयुक्‍त राष्‍ट्र ने भी माना,जलवायु परिवर्तन से निपटने में अहम है भारत की भूमिका          मौत का एक्सप्रेस वे बना यमुना एक्सप्रेस वे, इस साल हादसों में गई 154 लोगों की जान          महाराष्ट्र, हरियाणा में 21 अक्टूबर को होगा विधानसभा चुनाव, 24 को आएंगे नतीजे          बैंकों और बीमा कंपनियों में लावारिस पड़े हैं 32,000 करोड़ से भी ज्यादा पैसे, नहीं है कोई दावेदार         
होम | उत्तराखंड | ऋषिकेश का प्रसिद्ध लक्ष्मण झूला अब आम लोगों के लिए बंद

ऋषिकेश का प्रसिद्ध लक्ष्मण झूला अब आम लोगों के लिए बंद


उत्तराखंड के ऋषिकेश में प्रशासन ने लक्ष्मण झूला पर अस्थायी रूप से आवाजाही रोक दी है. दरअसल, राज्य में लगातार हो रही बारिश के कारण गंगा नदी का जलस्तर बढ़ गया है. ब्रिटिश काल में बना लक्ष्मण झूला कई साल पुराना है । जिसके बात एहतिहात के तौर पर प्रशासन ने इस पर आवाजाही को रोकने का फैसला किया.

ऋषिकेश  प्रशासन के मुताबिक, पुल पर आम लोगों के आवागमन को अस्थाई रूप से रोका गया है और जल्द ही इसे वापस शुरू किया जा सकता है।  इस साल जनवरी में लक्ष्मण झूले  के ढांचे की जांच कराई गई थी। इस दौरान जांच एजेंसी ने पुल के कमजोर होने और इसके पैदल आवागमन के लायक ना होने की जानकारी दी थी। एजेंसी ने पुल पर अधिक भार पड़ने की स्थिति में यहां किसी हादसे की आशंका भी जताई थी, जिसे देखते हुए अधिकारियों ने अब इसपर आम लोगों के आवागमन को प्रतिबंधित करने का आदेश दे दिया। 
पुरातन कथनानुसार भगवान श्रीराम के अनुज लक्ष्मण ने इसी स्थान पर जूट की रस्सियों के सहारे नदी को पार किया था। स्वामी विशुदानंद की प्रेरणा से कलकत्ता के सेठ सूरजमल झुहानूबला ने यह पुल सन् 1889 में लोहे के मजबूत तारों से बनवाया था। इससे पूर्व जूट की रस्सियों का ही पुल था एवं रस्सों के इस पुल पर लोगों को छींके में बिठाकर खींचा जाता था। लेकिन लोहे के तारों से बना यह पुल भी 1924 की बाढ़ में बह गया। इसके बाद मजबूत एवं आकर्षक पुल बनाया गया था। जिससे फिलाहल आम लोगों के लिए आवागमन के लिए अस्थाई रूप से बंद कर दिया गया है।



© 2016 All Rights Reserved.
Follow US On: