रविवार, 21 जुलाई 2019 | 08:56 IST
समर्थन और विरोध केवल विचारों का होना चाहिये किसी व्यक्ति का नहीं!!
81 साल की उम्र में शीला दीक्षित का निघन          शीला दीक्षित 15 साल तक दिल्ली की मुख्यमंत्री रहीं थी          दिल्ली की सबसे लोकप्रिय मुख्यमंत्री शीला दीक्षित का दिल्ली में निधन          इसरो ने किया ऐलान, अब 22 जुलाई को लॉन्च होगा चंद्रयान-2          कुलभूषण जाधव मामले पर पीएम मोदी ने जताई खुशी कहा- ये सच्चाई और न्याय की जीत है          भारतीय वायुसेना के लिए गेम चेंजर साबित होगी राफेल-सुखोई की जोड़ी,एयर मार्शल भदौरिया          कुलभूषण जाधव केस, ICJ में भारत की बड़ी जीत, फांसी की सजा पर रोक, पाकिस्तान को सजा की समीक्षा का आदेश          गृह मंत्री अमित शाह का बड़ा बयान, कहा- सभी घुसपैठियों और अवैध प्रवासियों को करेंगे देश से बाहर          पीएम नरेंद्र मोदी सितंबर में अमेरिका जाएंगे, जहां भारतीय समुदाय के लोगों से उनकी मुलाकात हो सकती है। इस दौरान दुनिया के कई अन्‍य देशों के नेताओं से भी मुलाकात की संभावना है          भाजपा को 2016-18 के बीच 900 करोड़ रू से ज्यादा चंदा मिला, एडीआर की रिपोर्ट में आया सामने          बैंकों और बीमा कंपनियों में लावारिस पड़े हैं 32,000 करोड़ से भी ज्यादा पैसे, नहीं है कोई दावेदार          बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री और राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) प्रमुख लालू प्रसाद यादव के बेटे तेज प्रताप यादव ने किया तेज सेना का गठन           भ्रष्ट अफसरों को जबरन वीआरएस दिया जाए, ऐसे लोग नहीं चाहिए-योगी आदित्यनाथ         
होम | उत्तराखंड | ऋषिकेश का प्रसिद्ध लक्ष्मण झूला अब आम लोगों के लिए बंद

ऋषिकेश का प्रसिद्ध लक्ष्मण झूला अब आम लोगों के लिए बंद


उत्तराखंड के ऋषिकेश में प्रशासन ने लक्ष्मण झूला पर अस्थायी रूप से आवाजाही रोक दी है. दरअसल, राज्य में लगातार हो रही बारिश के कारण गंगा नदी का जलस्तर बढ़ गया है. ब्रिटिश काल में बना लक्ष्मण झूला कई साल पुराना है । जिसके बात एहतिहात के तौर पर प्रशासन ने इस पर आवाजाही को रोकने का फैसला किया.

ऋषिकेश  प्रशासन के मुताबिक, पुल पर आम लोगों के आवागमन को अस्थाई रूप से रोका गया है और जल्द ही इसे वापस शुरू किया जा सकता है।  इस साल जनवरी में लक्ष्मण झूले  के ढांचे की जांच कराई गई थी। इस दौरान जांच एजेंसी ने पुल के कमजोर होने और इसके पैदल आवागमन के लायक ना होने की जानकारी दी थी। एजेंसी ने पुल पर अधिक भार पड़ने की स्थिति में यहां किसी हादसे की आशंका भी जताई थी, जिसे देखते हुए अधिकारियों ने अब इसपर आम लोगों के आवागमन को प्रतिबंधित करने का आदेश दे दिया। 
पुरातन कथनानुसार भगवान श्रीराम के अनुज लक्ष्मण ने इसी स्थान पर जूट की रस्सियों के सहारे नदी को पार किया था। स्वामी विशुदानंद की प्रेरणा से कलकत्ता के सेठ सूरजमल झुहानूबला ने यह पुल सन् 1889 में लोहे के मजबूत तारों से बनवाया था। इससे पूर्व जूट की रस्सियों का ही पुल था एवं रस्सों के इस पुल पर लोगों को छींके में बिठाकर खींचा जाता था। लेकिन लोहे के तारों से बना यह पुल भी 1924 की बाढ़ में बह गया। इसके बाद मजबूत एवं आकर्षक पुल बनाया गया था। जिससे फिलाहल आम लोगों के लिए आवागमन के लिए अस्थाई रूप से बंद कर दिया गया है।



© 2016 All Rights Reserved.
Follow US On: