बृहस्पतिवार, 17 अक्टूबर 2019 | 06:17 IST
समर्थन और विरोध केवल विचारों का होना चाहिये किसी व्यक्ति का नहीं!!
पीओके से आए 5300 कश्मीरियों के लिए मोदी सरकार का बड़ा ऐलान, मिलेंगे साढ़े पांच लाख रुपये          कांग्रेस पार्टी का बड़ा एलान, जम्मू-कश्मीर में नहीं लड़ेंगे BDS चुनाव          केंद्र सरकार ने 48 लाख कर्मचारियों को दिवाली से पहले दिया बड़ा तोहफा, 5 फीसदी बढ़ाया महंगाई भत्ता           देश के सबसे बड़ा सरकारी बैंक भारतीय स्टेट बैंक पब्लिक प्रॉविडेंट फंड पर सेविंग अकाउंट की तुलना में दे रहा है डबल ब्याज           भारतीय सेना एलओसी पार करने से हिचकेगी नहीं,पाकिस्तान को आर्मी चीफ बिपिन रावत की चेतावनी          पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने कबूल किया कि उनका देश कश्मीर मुद्दे का अंतरराष्ट्रीयकरण करने की कोशिशों में नाकाम रहा          संयुक्‍त राष्‍ट्र ने भी माना,जलवायु परिवर्तन से निपटने में अहम है भारत की भूमिका          महाराष्ट्र, हरियाणा में 21 अक्टूबर को होगा विधानसभा चुनाव, 24 को आएंगे नतीजे          बैंकों और बीमा कंपनियों में लावारिस पड़े हैं 32,000 करोड़ से भी ज्यादा पैसे, नहीं है कोई दावेदार         
होम | देश | 15 अगस्त को श्रीनगर की यात्रा कर सकते हैं अमित शाह,क्या लाल चौक पर फहरेगा तिरंगा?

15 अगस्त को श्रीनगर की यात्रा कर सकते हैं अमित शाह,क्या लाल चौक पर फहरेगा तिरंगा?


श्रीनगर स्थित शेर-ए-कश्मीर स्टेडियम में स्वतंत्रता दिवस समारोह की तैयारियां जोर-शोर की जा रही है। जम्मू-कश्मीर पुलिस और अर्ध सैनिक बलों की टुकड़ियां यहां परेड का रिहर्सल कर रही हैं। कश्मीर में सुरक्षा एवं शांति कायम रखने में सुरक्षाबलों की अहम भूमिका रही है। चूंकि, कश्मीर अब केंद्रशासित प्रदेश बन गया है,इसलिए सुरक्षा बलों में इस बार अलग तरह का उत्साह एवं जोश देखा जा रहा है।

 

जम्मू-कश्मीर पर ऐतिहासिक फैसला करने के बाद केंद्र सरकार श्रीनगर सहित घाटी के अन्य इलाकों में स्वतंत्रता दिवस समारोह बड़े पैमाने पर आयोजित करने की योजना बना रही है। इस तरह की रिपोर्टों हैं कि 73वें स्वतंत्रता दिवस के मौके पर श्रीनगर के ऐतिहासिक लाल चौक पर तिरंगा फहराया जाएगा। चर्चा इस बात की भी है कि गृह मंत्री अमित शाह 15 अगस्त को श्रीनगर का दौरा करना चाहते हैं। गृह मंत्री 16-17 अगस्त को लद्दाख के दौरे पर जाने वाले हैं। 

अमित शाह की श्रीनगर यात्रा के बारे में सरकार अभी कुछ नहीं कह रही है। सरकार का मानना है कि कश्मीर में स्थिति संवेदनशील है और जम्मू-कश्मीर पर लिए गए अपने फैसले को वह अपनी जीत के रूप में नहीं पेश करना चाहती लेकिन भाजपा स्वतंत्रता दिवस के मौके पर लाल चौक पर तिरंगा फहराया जाने को लेकर काफी उत्सुक है। 

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक जम्मू-कश्मीर में इस बार स्वतंत्रता दिवस बड़े पैमाने पर मनाने की तैयारी की जा रही है। कश्मीर के पंच एवं सरपंचों के बीच करीब 50 हजार तिरंगे वितरित किए गए है। लाल चौक पर तिरंगा फहराए जाने को लेकर सरकार अंतिम समय में कोई फैसला कर सकती है। लाल चौक पर तिरंगा फहराए जाने को लेकर दो तरह की बातें हैं-कुछ लोगों का मानना है कि यहां तिरंगा फहराना कश्मीरी जनभावना पर एक हमले के रूप में लिया जाएगा और लोगों को दूर करेगा। वहीं दूसरी तरफ ऐसे लोग हैं जिनकी सोच है कि लाल चौक पर तिरंगा फहराए जाना अनुच्छेद 370 के खात्मे पर भावनात्मक मुहर लगाएगा। बता दें कि 15 अगस्त के दिन लाल चौक पर सीआरपीएफ तिरंगा फहराती आई है और साल 1992 में मुरली मनोहर जोशी और भाजपा के कार्यकर्ता के रूप में नरेंद्र मोदी ने लाल चौक पर तिरंगा फहराकर पाकिस्तान एवं अलगाववादियों को यह संदेश दिया कि कश्मीर भारत का है और यहां राष्ट्रध्वज फहराने से उन्हें कोई नहीं रोक सकता। 

 

 



© 2016 All Rights Reserved.
Follow US On: