शनिवार, 7 दिसम्बर 2019 | 12:24 IST
समर्थन और विरोध केवल विचारों का होना चाहिये किसी व्यक्ति का नहीं!!
हैदराबाद एनकाउंटर की संसद में गूंज, कांग्रेस बोली- वहां उड़ा दिया और उन्नाव में छोड़ रहे          पुलिस ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर बताया कि सीन रीकंस्ट्रक्शन के लिए जब उन्हें ले जाया गया था तब यह एनकाउंटर करना पड़ा          हैदराबाद गैंगरेप के चारों आरोपी शुक्रवार तड़के पुलिस के साथ हुई मुठभेड़ में मारे गए          भारतीय संसद का ऐतिहासिक फैसला,सांसदों ने सर्वसम्मति से लिया फैसला,कैंटीन में मिलने वाली खाद्य सब्सिडी को छोड़ देंगे           महिलाओं के खिलाफ बढ़ते अपराधों पर भड़की जया बच्चन, कहा- यूपी में कहीं सुरक्षा नहीं हैं          60 साल की उम्र में सेवानिवृत्त करने पर फिलहाल सरकार का कोई विचार नहीं- जितेंद्र सिंह          सलामी बल्लेबाज शिखर धवन चोट के कारण वेस्टइंडीज के खिलाफ टी20 सीरीज से बाहर हो गए हैं। उनकी जगह संजू सैमसन को मौका दिया गया है          महाराष्‍ट्र में उद्धव ठाकरे होंगे महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री 28 नवंबर को लेंगे मुख्‍यमंत्री पद की शपथ           इसरो ने रचा इतिहास,कार्टोसैट-3 के अंतरिक्ष यान को सफलतापूर्वक कक्षा में किया स्थापित          महाराष्ट्र,शिवसेना को कोसते हुए सीएम देवेंद्र फडणवीस ने दिया इस्तीफा          अयोध्या में ही मस्जिद निर्माण के लिए दी जाएगी जमीन          सुप्रीम कोर्ट ने विवादित जमीन पर रामलला का हक माना          कोर्ट ने कहा कि पुरातत्व विभाग की खोज को नजरअंदाज नहीं किया जा सकता          कोर्ट ने कहा,विवादित जमीन के नीचे एक ढांचा था और यह इस्लामिक ढांचा नहीं था          कोर्ट के फैसले में ASI का हवाला देते हुए कहा गया कि बाबरी मस्जिद का निर्माण किसी खाली जगह पर नहीं किया गया था          अयोध्या पर आया सुप्रीम कोर्ट का फैसला, बनेगा राम मंदिर, मस्जिद के लिए अलग जगह          मोदी सरकार का बड़ा फैसला, दिल्ली की अवैध कॉलोनियां होगी नियमित          पीओके से आए 5300 कश्मीरियों के लिए मोदी सरकार का बड़ा ऐलान, मिलेंगे साढ़े पांच लाख रुपये          केंद्र सरकार ने 48 लाख कर्मचारियों को दिवाली से पहले दिया बड़ा तोहफा, 5 फीसदी बढ़ाया महंगाई भत्ता           देश के सबसे बड़ा सरकारी बैंक भारतीय स्टेट बैंक पब्लिक प्रॉविडेंट फंड पर सेविंग अकाउंट की तुलना में दे रहा है डबल ब्याज           पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने कबूल किया कि उनका देश कश्मीर मुद्दे का अंतरराष्ट्रीयकरण करने की कोशिशों में नाकाम रहा          संयुक्‍त राष्‍ट्र ने भी माना,जलवायु परिवर्तन से निपटने में अहम है भारत की भूमिका          महाराष्ट्र, हरियाणा में 21 अक्टूबर को होगा विधानसभा चुनाव, 24 को आएंगे नतीजे          बैंकों और बीमा कंपनियों में लावारिस पड़े हैं 32,000 करोड़ से भी ज्यादा पैसे, नहीं है कोई दावेदार         
होम | देश | पीएम मोदी ने राष्ट्र के नाम संबोधन में लद्दाख के जिस पेड़‘सोलो’ का जिक्र किया था,आखिर वह है क्या?

पीएम मोदी ने राष्ट्र के नाम संबोधन में लद्दाख के जिस पेड़‘सोलो’ का जिक्र किया था,आखिर वह है क्या?


 प्राचीन काल से ही हिमालय पर संजीवनी बूटी होने को लेकर चर्चाएं होती रही हैं। संजीवनी बूटी की चर्चा रामचरित मानस में भी हुई है। रामायण में मेघनाद के बाण से मूर्छित लक्ष्मण की जान बचाने के लिए हिमालय की कंदराओं से हनुमान संजीवनी बूटी लेकर आए थे। आखिरकार संजीवनी बूटी की मदद से लक्षमण को बचा लिया गया था। वैज्ञानिक, सोलो नाम के पौधे के गुणों से इस कदर उत्‍साहित हैं कि लगता है कि जैसे 'संजीवनी' की तलाश अब खत्म हो गई है। यह पौधा बढ़ती उम्र को रोकने में सहायक है। साथ ही ऑक्सीजन की कमी के दौरान न्यूरॉन्स की रक्षा भी करता है। वैसे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का भी कहना है कि लद्दाख क्षेत्र में कई ऐसी जड़ी बूटियां हैं, जो चिकित्‍सा और रोजगार के क्षेत्र में बेहद मददगार साबित हो सकती हैं। 

अनुच्छेद-370 हटाने और जम्‍मू-कश्‍मीर के विभाजन के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने राष्ट्र के नाम अपने संबोधन में कहा कि लद्दाख और जम्‍मू-कश्‍मीर के लोगों के सामने सुनहरा भविष्य है। लगभग 40 मिनट के अपने संबोधन में प्रधानमंत्री ने जम्मू-कश्मीर और लद्दाख के लोगों की हर चिंता को छूने की कोशिश की । प्रधानमंत्री मोदी ने लद्दाख और जम्‍मू-कश्‍मीर के क्षेत्रों में पैदा होने वाले कई उत्पादों का जिक्र किया जिनकी पूरी दुनिया में भारी मांग है। उन्‍होंने कहा कि ये बेशकीमती उत्पाद क्षेत्र के लोगों की आमदनी का जरिया बन सकते हैं। प्रधानमंत्री ने खास तौर पर 'सोलो' नाम के पौधे का जिक्र किया, जिसका बड़े पैमाने पर औषधीय इस्‍तेमाल किया जाता है।

'सोलो' नाम का यह पौधा मूल रूप से लद्दाख के ठंडे और ऊंचाई वाले इलाकों में पाया जाता है। काफी समय तक स्थानीय लोग इसके व्‍यापक औषधीय गुणों से अज्ञात थे। यह पौधा अत्‍यधिक ऊंचाई वाले इलाकों में सांस लेने में परेशानी होने की समस्‍या से उबरने में बेहद कारगर होता है। आयुर्वेद के जानकारों का दावा है कि इस पौधे की मदद से शरीर को पर्वतीय परिस्थितियों के अनुरूप ढालने में भी मदद मिलती है। कम ऑक्‍सीजन के ऊंचाई वाले इलाकों में तैनात भारतीय सेना के जवान भी इसका इस्तेमाल अपनी शारीरिक प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के लिए करते हैं।

'सोलो' का वैज्ञानिक नाम रहोडियोला (Rhodiola) है। हालांकि, लद्दाख के लोग इसे 'सोलो' के नाम से ही जानते हैं। हिमालय की ऊंची चोटियों पर जिंदगी किसी चुनौती से कम नहीं है। स्‍थानीय लोगों को इन इलाकों में जीवन के लिए काफी संघर्ष करना पड़ता है। स्थानीय लोग इस पौधे के पत्तेदार हिस्सों का इस्तेमाल सब्जी के रूप में करते आए हैं। अब लेह स्थित डिफेंस इंस्‍टीट्यूट ऑफ हाई एल्‍टीट्यड रिसर्च (Defence Institute of High Altitude Research, DIHAR) इस पौधे के औषधीय गुणों का विस्‍तार से अध्ययन कर रहा है।

लेह स्थित डिफेंस इंस्‍टीट्यूट ऑफ हाई एल्‍टीट्यड रिसर्च (Defence Institute of High Altitude Research, DIHAR) के वैज्ञानिकों का दावा है कि यह औषधि सियाचिन जैसी प्रतिकूल जगहों पर रह रहे भारतीय सेना के जवानों के लिए चमत्‍कारिक साबित हो सकती है। वैज्ञानिकों का कहना है कि यह पौधा कम ऑक्‍सीजन वाले, ऊंचे इलाकों में रोगप्रतिरोधक प्रणाली को बेहतर रखने और रेडियोएक्टिव प्रभाव से बचाने में कारगर है। यही नहीं यह औषधि अवसाद को कम करने और भूख बढ़ाने में भी लाभकारी है। सियाचिन जैसे दुर्गम इलाकों में जवानों में डिप्रेशन और भूख कम लगने की समस्‍या के इलाज में यह फायदेमंद है। 

 

 



© 2016 All Rights Reserved.
Follow US On: